एम्बुलेंस में आक्सीजन के अभाव में मौत : मानवाधिकार आयोग का अखिलेश सरकार को नोटिस

एम्बुलेंस में आक्सीजन के अभाव में मौत : मानवाधिकार आयोग का अखिलेश सरकार को नोटिस नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के बिजनौर में एक एम्बुलेंस में आक्सीजन के अभाव में मौत का शिकार हुये अस्थमा मरीज के मामले का स्वतः संज्ञान में लेते हुये राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने उत्तर प्रदेश सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। बिजनौर के चांदपुर क्षेत्र में हुयी इस घटना को लेकर मरीज के परिजनों ने विरोध दर्ज किया था जिस पर मुख्य चिकित्साधिकारी ने मामले की जांच के आदेश देने का वादा किया था। आयोग की एक विज्ञप्ति में कहा गया है “ चिकित्सा में हुयी लापरवाही का यह एक संगीन मामला है। आयोग ने राज्य सरकार को नोटिस जारी कर एक महीने के भीतर जवाब देने को कहा है।  आयोग का मानना है कि यह एक पीड़ादायक खबर है कि समय से एम्बुलेंस पहुंच जाने के वावजूद एक ज़िंदगी को बचाया नहीं जा सका। एम्बुलेंस में आक्सीजन सिलिंडर का खाली पाया जाना गंभीर चिकित्सीय लापरवाही को दर्शाता है। एम्बुलेंस में जीवन बचाने से संबधित सभी उपकरणों दुरूस्त होने चाहिये तभी उसकी प्रासंगिकता है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार सोमवार को बिजनौर के चांदपुर क्षेत्र में मोहम्मद असलम(55) को अस्थमा का दौरा पड़ा था। पीड़ित के परिजनों ने 108 नम्बर पर काल कर एम्बुलेंस बुलायी थी। एम्बुलेंस से मरीज को अस्पताल ले जाया गया मगर वैन में आक्सीजन सिलिंडर के न होने के कारण उनकी मृत्यु हो गयी थी। NHRC notice to the Government of Uttar Pradesh over the reported death of a patient in Bijnor due to wont of oxygen in an ambulance

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।