हिंदुत्व के नए चेहरे बनते अखिलेश यादव

अखिलेश यादव ( पूर्व मुख्यमंत्री - उप्र ) ने श्री हरि के नाम पर बड़ा शहर और भव्य मंदिर निर्माण का संकल्प लेते हुए सार्वजनिक घोषणा भी कर दी है।...

अतिथि लेखक
हिंदुत्व के नए चेहरे बनते अखिलेश यादव

अरविन्द विद्रोही

सनातन शक्ति की मतदाता रूप में एकजुटता की देन है कि धीरे धीरे सभी प्रमुख राजनेता मंदिर जाने लगे। श्री रामजन्मभूमि अयोध्या -श्री कृष्णजन्मभूमि मथुरा और श्री ज्ञानव्यापी मंदिर काशी में भव्य मंदिर निर्माण की बात - संकल्प के पश्चात अब समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ( पूर्व मुख्यमंत्री - उप्र ) ने श्री हरि के नाम पर बड़ा शहर और भव्य मंदिर निर्माण का संकल्प लेते हुए सार्वजनिक घोषणा भी कर दी है।

प्रभु शरण में आने पर कल्याण ही होता है। सनातनी-समाजवादी और संवैधानिक मूल्यों को समझ कर उसको विधिवत अनुपालित करिये।

Arvind Vidrohiकुछ समझ में आ रहा है तुमको परप्रांतीय -परिजीवी प्राणी, आओ अब तुम भी अपने अन्नदाता मालिक के कथनों-वचनों-संकल्पों-घोषणाओं के पीछे पीछे प्रभु की शरण में...

और सुनो - इसी शीर्षक से लेख पूर्व में भी लिख चुका हूँ तब जब हिंदू बुजुर्गों के लिए तीर्थ यात्रा की घोषणा तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और मंत्री विजय मिश्रा ने की थी। तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के अच्छे कार्यों का प्रचार प्रसार करने में पूरी तरह से विफल रहे उनके कारिंदे और जिम्मेदारी ओढ़े-बिछाए ,खाये-पिये-अघाये लोग ...

सत्ता अभीष्ट है ,सत्ता लक्ष्य है तो प्रभु शरण में आना स्वाभाविक है। आओ स्वागत है वत्स .... धर्म के मार्ग पर चलोगे तो स्वतः साथ और सहयोग देंगे हम जैसे .. निश्चित ही एक नए बड़े गठजोड़ -गठबंधन -समीकरण की तरफ बढ़ाया गया पहला सार्वजनिक प्रयास ...

अब पुनः एक बार "हिंदुत्व के नए चेहरे बनते अखिलेश यादव" --

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।