अमित शाह के मुँह पर एसबीआई का करारा तमाचा

एसबीआई रिसर्च ने कहा है कि सितंबर 2016 से अर्थव्यवस्था में सुस्ती है और यह तकनीकी नहीं बल्कि वास्तविक है। ...

हाइलाइट्स

अमित शाह के मुँह पर एसबीआई का करारा तमाचा

जगदीश्वर चतुर्वेदी

एसबीआई रिसर्च ने कहा है कि सितंबर 2016 से अर्थव्यवस्था में सुस्ती है और यह तकनीकी नहीं बल्कि वास्तविक है। एसबीआई रिसर्च की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि अर्थव्यवस्था की सुस्ती को दूर करने के लिए सार्वजनिक खर्च बढ़ाने की जरूरत है।

रिपोर्ट कहती है, 'हमारा मानना है कि अर्थव्यवस्था सितंबर, 2016 से सुस्ती में है। चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में सुस्ती की वजह तकनीकी रूप से लघु अवधि या क्षणिक भर नहीं है। रिपोर्ट में कहा गया है कि इस सुस्ती से यह सवाल उठ रहा है कि क्या यह अस्थायी है या नहीं।' हालांकि, रिपोर्ट में इस सवाल का जवाब नहीं दिया गया है।

उल्लेखनीय है कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर में गिरावट को तकनीकी बताया था।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।