हस्तक्षेप > स्तम्भ
अच्छाजी बिलकिस बानो केस में पीड़िता के अमिकस क्यूरी हरीश साल्वे राष्ट्रवादियों के हैं
अच्छाजी! बिलकिस बानो केस में पीड़िता के अमिकस क्यूरी हरीश साल्वे राष्ट्रवादियों के हैं !

विपक्ष नवाज़ शरीफ से पूछ रहा है कि क्या प्रधानमंत्री मोदी से कोई सीक्रेट डील हुई है? ऐसे बयानों का क्या अर्थ निकालें कि नवाज शरीफ ने जानबूझ कर यह...

अतिथि लेखक
2017-05-22 20:19:33
अच्छे दिन के 3साल  मोदी सरकार पर नज़र रखने अब तक असफल रही कांग्रेस
अच्छे दिन के 3साल : मोदी सरकार पर नज़र रखने अब तक असफल रही कांग्रेस

कांग्रेस का ड्राइंग रूम की पार्टी बन जाना इस देश की भावी राजनीति के लिए अच्छा संकेत नहीं है।

शेष नारायण सिंह
2017-05-21 11:58:31
अच्छे दिनों के तीन साल का जश्न  सच छुपाने के लिए शोर
अच्छे दिनों के तीन साल का जश्न : सच छुपाने के लिए शोर

चूंकि मोदी सरकार चौतरफा संकट बढ़ाने वाले विकास के नवउदारवादी रास्ते पर ही और तेजी से बढऩे जा रही है, हिंदुत्ववाद के रास्ते से जनता के असंतोष को द...

राजेंद्र शर्मा
2017-05-19 15:37:16
आरएसएस की गर्भविज्ञान संस्कार परियोजना  भयावह अमानवीय नस्लीय परियोजना
ये अच्छे दिन आपको मुबारक हम अपने बच्चों के कटे हुए हाथों और पांवों का हम क्या करेंगे
ये अच्छे दिन आपको मुबारक हम अपने बच्चों के कटे हुए हाथों और पांवों का हम क्या करेंगे?

रोजगार सृजन हो नहीं रहा है डिजिटल इंडिया की मुक्तबाजार व्यवस्था में रोजगार और आजीविका दोनों खत्म हो रहे हैं। आज भी युवा रोजगार की तलाश में यहां ...

पलाश विश्वास
2017-05-19 10:21:08
बदल रहे हैं निजाम तो बदल रही अपने नेताओं के प्रति लोगों की निगाहें भी
बदल रहे हैं निजाम तो बदल रही अपने नेताओं के प्रति लोगों की निगाहें भी

एक ओर निजाम बदल रहे हैं, दूसरी ओर अपने नेताओं के प्रति लोगों की निगाहें बदल रही हैं।

राजीव रंजन श्रीवास्तव
2017-05-18 17:58:31
दो जघन्य पाशविक अपराध  न्यायपालिका के ऐतिहासिक निर्णय
दो जघन्य पाशविक अपराध : न्यायपालिका के ऐतिहासिक निर्णय

सच पूछा जाए तो इन दोनों घटनाओं के विवरण के लिए किसी भी भाषा के शब्दकोष में उपयुक्त शब्द नहीं है) घटनाओं के संबंध में न्यायपालिका के निर्णय घोषित ...

एल.एस. हरदेनिया
2017-05-18 16:37:41
अस्मिता राजनीति को खत्म किये बिना मजहबी सियासत के शिंकजे से आम जनता को रिहा नहीं कर सकते
अस्मिता राजनीति को खत्म किये बिना मजहबी सियासत के शिंकजे से आम जनता को रिहा नहीं कर सकते

सत्ता रंगभेदी है और फासिस्ट है। यह सत्ता भी निरंकुश है जो दमन और उत्पीड़न के साथ साथ रंगभेदी नरसंहार के तहत आम जनता को कुचलने से परहेज नहीं कर...

पलाश विश्वास
2017-05-15 23:47:03
गर्भ चीरने वाले बन गए मुस्लिम महिलाओं के मुक्तिदाता
गर्भ चीरने वाले बन गए, मुस्लिम महिलाओं के मुक्तिदाता

सन 2002 में गुजरात में हुए सांप्रदायिक दंगों में हिन्दू श्रेष्ठवादियों ने मुस्लिम महिलाओं के विरूद्ध घिनौनी यौन हिंसा की थी। उन्होंने गर्भवती मुस...

Irfan Engineer
2017-05-18 17:18:32
कम से कम इतना तो हम सीख लें कि पूंजीवादी व्यवस्था में सामाजिक संबंधों का क्या स्वरूप हो
कम से कम इतना तो हम सीख लें कि पूंजीवादी व्यवस्था में सामाजिक संबंधों का क्या स्वरूप हो

​​​​​​​समाजवादी समाज की रचना आज के भारत में तो एक दिवास्वप्न है, लेकिन पूंजीवादी व्यवस्था में सामाजिक संबंधों का क्या स्वरूप हो, कम से कम इतना तो...

ललित सुरजन
2017-05-12 23:36:19
राजनाथ सिंह जी हम बताते हैं – कौन महान है
राजनाथ सिंह जी, हम बताते हैं – कौन महान है

मेवाड़ के शासक को राणा नहीं महाराणा प्रताप कहा गया है, यानी उन्हें महान पहले से बताया जा रहा है, फिर भाजपा के मंत्री, नेता इस पर भ्रम क्यों फैला ...

अतिथि लेखक
2017-05-12 12:39:35
आप के खिलाफ ‘‘सुपारी किलर’’ की भूमिका में कितने कामयाब होंगे कपिल मिश्र
आप के खिलाफ ‘‘सुपारी किलर’’ की भूमिका में कितने कामयाब होंगे कपिल मिश्र

आप तो सलामत पर उसकी राजनीति फेल। ... क्या आम आदमी पार्टी नाम के राजनीतिक फिनामिना के अंत की शुरूआत हो चुकी है?

राजेंद्र शर्मा
2017-05-10 23:00:47
दक्षिण एशिया में बढ़ती असहिष्णुता
दक्षिण एशिया में बढ़ती असहिष्णुता

जो लोग भारत के घटनाक्रम की तुलना हमारे पड़ोसी देशों के हालात से कर उसे उचित ठहराने का प्रयास कर रहे हैं उन्हें यह समझना चाहिए कि दो गलत मिलकर एक स...

राम पुनियानी
2017-05-10 22:07:21
कैसे हल हो नक्सल समस्या
कैसे हल हो नक्सल समस्या?

How to solve Naxal problem, Naxal problem, Naxal, बस्तर में माओवाद, नक्सलवाद, बस्तर, माओवाद, नक्सलवाद

ललित सुरजन
2017-05-08 09:05:26
डिजिटल हिंदूराष्ट्र में किसान और खेतिहर मजदूर आत्महत्या क्यों कर रहे हैं
डिजिटल हिंदूराष्ट्र में किसान और खेतिहर मजदूर आत्महत्या क्यों कर रहे हैं?

हरित क्रांति के बाद से लगातार गहराते कृषि संकट को सुलझाने के लिए क्या हिंदुत्व के एजेंडे में कोई परिकल्पना है? इस सवाल का जबाव सत्ता वर्ग के किसी...

पलाश विश्वास
2017-05-09 16:05:47
जनविद्रोह के कगार पर कश्मीर  दो सांप्रदायिकताएं मिलकर तो दुहरी सांप्रदायिकता ही बना सकती हैं धर्मनिरपेक्षता नहीं
जनविद्रोह के कगार पर कश्मीर : दो सांप्रदायिकताएं मिलकर तो दुहरी सांप्रदायिकता ही बना सकती हैं, धर्मनिरपेक्षता नहीं

महबूबा मुफ्ती की स्थिति अगर एक साथ त्रासद और हास्यास्पद हो गयी है, तो इसके लिए शायद वह खुद ही सबसे ज्यादा जिम्मेदार हैं।

राजेंद्र शर्मा
2017-05-03 22:39:43
जब मेहनतकशों के हकहकूक भी खत्म हैं तो मई दिवस की रस्म अदायगी का क्या मतलब
जब मेहनतकशों के हकहकूक भी खत्म हैं तो मई दिवस की रस्म अदायगी का क्या मतलब?

जब मजदूर आंदोलन हैं ही नहीं, जब मेहनतकशों के हकहकूक भी खत्म हैं तो मई दिवस की रस्म अदायगी का क्या मतलब? सरकार अब मैनेजर की भूमिका में है हरियाण...

पलाश विश्वास
2017-05-01 18:55:09
लग पाएगी रियल एस्टेट में धोखाधड़ी पर लगाम
लग पाएगी रियल एस्टेट में धोखाधड़ी पर लगाम!

अपना एक घर हो, हर किसी का सपना होता है। देश में रियल एस्टेट का कारोबार जिस तेजी से बढ़ा है उसी तेजी से ग्राहकों के साथ धोखाधड़ी भी बढ़ी है। बिल्ड...

अतिथि लेखक
2017-05-01 10:21:34