'संविधान-विरोधी तत्व सत्ता छोड़ो' रैली

50वीं सालगिरह 9 अगस्त 1992 को पड़ी. यह वह समय था जब संविधान की मूल संकल्पना के बरखिलाफ देश में नवसाम्राज्यवाद का दरवाजा खोलने वाली नई आर्थिक नीतियां 1991 में लागू की जा चुकी थीं....

हाइलाइट्स

9 अगस्त 2017 को भारत छोड़ो आंदोलन की 75वीं सालगिरह है. सोशलिस्ट पार्टी ने इस मौके पर 'संविधान-विरोधी भारत छोड़ो' रैली का आयोजन किया है.

भारत छोड़ो आंदोलन की 75वीं सालगिरह के मौके पर 'संविधान-विरोधी तत्व सत्ता छोड़ो' रैली

9 अगस्त 2017

रैली सुबह 11 बजे मंडी हाउस से चल कर जंतर-मंतर पहुंचेगी

जंतर-मंतर पर जनसभा होगी

   9 अगस्त 1942 को भारत छोड़ो आंदोलन/अगस्त क्रांति की शुरुआत हुई. गांधीजी के 'करो या मरो' के आह्वान पर भारत की 20 प्रतिशत जनता ने इस आंदोलन में सक्रिय हिस्सेदारी की. ब्रिटिश हुकूमत ने करीब 50 हज़ार देशभक्तों को मारा. भारत के क्रन्तिकारी आंदोलन की धारा भारत छोड़ो आंदोलन में समाहित हो गई और यह साम्राज्यवादी गुलामी के खिलाफ निर्णायक संघर्ष साबित हुआ. भारत की आज़ादी के प्रवेशद्वार इस आंदोलन का नेतृत्व समाजवादी नेताओं ने किया. 'भारत छोड़ो' नारे  की रचना युसुफ मेहर अली ने की थी

डॉक्टर राममनोहर लोहिया ने कहा कि 9 अगस्त भारतीय जनता का दिन है और 15 अगस्त भारतीय राज्य का दिन है. उनका मानना था कि 9 अगस्त निहत्थी जनता के संघर्ष के इतिहास का पहला दिन है. उन्होंने भारत छोड़ो आंदोलन की 25वीं सालगिरह (9 अगस्त 1967) पर इच्छा ज़ाहिर की थी कि भारत छोड़ो आंदोलन की 50वीं सालगिरह इतने विशाल पैमाने पर मनाई जाये कि 26 जनवरी का गणतंत्र दिवस भी फीका पड़ जाए. आप जानते हैं 50वीं सालगिरह 9 अगस्त 1992 को पड़ी. यह वह समय था जब संविधान की मूल संकल्पना के बरखिलाफ देश में नवसाम्राज्यवाद का दरवाजा खोलने वाली नई आर्थिक नीतियां 1991 में लागू की जा चुकी थीं. इसी के साथ 6 दिसंबर 1992 को बाबरी मस्जिद को ढहा दिया गया था. ज़ाहिर है, अगस्त क्रांति की 50वीं सालगिरह को भारतीय जनता के दिन के रूप में याद नहीं किया गया.

 तब से अब तक - डंकल प्रस्तावों से लेकर रक्षा क्षेत्र में 100 विदेशी निवेश के फैसले तक - शासक जमातें देश के संविधान को दरकिनार करती गई हैं. नीति-निर्धारण का काम विश्व बैंक, अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोश, विश्व व्यापार संगठन, विश्व आर्थिक मंच जैसी नवउदारवाद की पुरोधा वैश्विक संस्थानों के आदेश पर बहुराष्ट्रीय कंपनियों और बड़े कार्पोरेट घरानों के हित में कर रही हैं.       

9 अगस्त 2017 को भारत छोड़ो आंदोलन की 75वीं सालगिरह है. सोशलिस्ट पार्टी ने इस मौके पर 'संविधान-विरोधी भारत छोड़ो' रैली का आयोजन किया है. रैली का मकसद देशवासियों तक यह सन्देश पहुँचाना है कि सरकारों द्वारा नीति-निर्धारण का काम संविधान में उल्लिखित 'नीति-निर्देशक तत्वों' के आधार पर हो, न कि नवउदारवाद की पुरोधा उपरोक्त संस्थाओं के आदेश पर. संविधान की प्रस्तावना में उल्लिखित समाजवादी, धर्मनिरपेक्ष और लोकतांत्रिक भारत के निर्माण का संकल्प तभी पूरा हो सकता है. सोशलिस्ट पार्टी सभी देशवासियों से आगामी 9 अगस्त को ज्यादा से ज्यादा तादाद में दिल्ली के मंडी हाउस और जंतर-मंतर पहुँचने की अपील करती है. आइये, संविधान विरोधी तत्वों को राजनीति और सत्ता से उखाड़ फेंकें.

डॉ.प्रेम सिंह

अध्यक्ष सोशलिस्ट पार्टी

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।