#HamariRai | क्या महात्मा गांधी ‘जातिवादी और नस्लीय’ थे ?

#जयपुर_लिटरेचर-फेस्टिवल जैसे आयोजनों से समाज में एकता का भाव अगर बढाया जा सके तो देश के भविष्य के लिए अच्छा होगा..वरना आज के माहौल से कौन वाकिफ नहीं है.....

देशबन्धु

#HamariRai | क्या महात्मा गांधी ‘जातिवादी और नस्लीय’ थे? | 30 Jan. 2018 | #DBLIVE

#HamariRai | #गांधीजी के अनगिनत उदार विचार उनके लेखन में देखे जा सकते हैं। और वे केवल उपदेश नहीं देते थे, बल्कि जो कहते थे, वही करते भी थे।  उन्हें पढ़ें और उनकी कही बातों पर अमल करें तो सचमुच उनके सपनों का भारत बन सकता है। बशर्ते उनके लेखन को दिल-दिमाग खोलकर पढऩे की जहमत उठाई जाए। आधा-अधूरा पाठ, आधी-अधूरी समझ ही देगा।

#जयपुर_लिटरेचर-फेस्टिवल जैसे आयोजनों से समाज में एकता का भाव अगर बढाया जा सके तो देश के भविष्य के लिए अच्छा होगा..वरना आज के माहौल से कौन वाकिफ नहीं है..

|#Today_Latest_News | #NEWS_HEADLINES | #Current_Affairs | #Breaking_News | #Morning_News | #KasganjClashes | #BJPWithTraders | #Watch | #PadmaavatRow  |#TwitterBestFandom | #IPLAuction |  #KabulAttack | #MahatmaGandhi | #INDvPAK | #U19WorldCup | #U19WC | #Today_Hiostory |#Sports | #RajeevRanjanSrivastava

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।