हस्तक्षेप > स्तम्भ > देशबन्धु
बिपिन रावत को केवल बांग्लादेशी मुसलमान ही क्यों दिखे बांग्लादेशी हिंदू क्यों नहीं दिखते
बिपिन रावत को केवल बांग्लादेशी मुसलमान ही क्यों दिखे, बांग्लादेशी हिंदू क्यों नहीं दिखते?

असम में खेल सिर्फ मुस्लिम वोट बैंक का नहीं हुआ है, हिंदू वोट बैंक का भी 'ग्रेट गेम' हुआ है। ऐसा नहीं होता, तो 'बराक वेली' में बांग्ला को आधिकारिक...

पुष्परंजन
2018-02-25 23:05:51
मोदी जी आप देश की भी सरकार चला रहे हैं और जम्मू- कश्मीर की भी सवालों के जवाब तो देने ही पड़ेंगे
मोदी जी, आप देश की भी सरकार चला रहे हैं और जम्मू- कश्मीर की भी, सवालों के जवाब तो देने ही पड़ेंगे

आप तो कहते थे कि आपकी पैलेटगनों, नोटबंदी और सर्जिकल स्ट्राइक ने उनकी कमर तोड़कर रख दी है। फिर ऐसा क्या हुआ कि वे, ताबड़तोड़ न भी कहें तो, एक के बाद ...

कृष्ण प्रताप सिंह
2018-02-20 09:40:08
सरकार नियम बनाकर जनता से धन ले रही और धोखेबाज कारोबारी उसका धन बैंकों से लूट रहे
सरकार नियम बनाकर जनता से धन ले रही और धोखेबाज कारोबारी उसका धन बैंकों से लूट रहे

पीएनबी जैसे प्रकरण बता रहे हैं कि जनता दोनों ओर से लुट रही है। सरकार नियम बनाकर उससे धन ले रही है और धोखेबाज कारोबारी उसका धन बैंकों से लूट रहे ह...

देशबन्धु
2018-02-18 10:31:34
अच्छे दिन  शायद ही कोई दिन बीतता हो जब हमारे जवान शहीद न होते हों
अच्छे दिन ? शायद ही कोई दिन बीतता हो, जब हमारे जवान शहीद न होते हों

आश्चर्य यह है कि जेएनयू में कथित तौर पर देशविरोधी नारे लगाने के जुर्म में छात्रों पर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज हो जाता है और जो विधायक खुलेआम विधान...

देशबन्धु
2018-02-12 15:27:52
मोदीजी को अब तक भरोसा नहीं हुआ वे सचमुच प्रधानमंत्री बन गए हैं
मोदीजी को अब तक भरोसा नहीं हुआ वे सचमुच प्रधानमंत्री बन गए हैं

क्यों विजय माल्या लंदन में खुला घूम रहा है? क्यों लड़कियां सुरक्षित नहीं हैं? क्यों हमारे जवान रोज शहीद हो रहे हैं? क्यों जम्मू-कश्मीर के नौजवान प...

देशबन्धु
2018-02-08 11:48:25
कश्मीर में सेना और नागरिक आमने-सामने यहां के हालात न सैनिकों के लिए अच्छे हैं न जनता के लिए
कश्मीर में सेना और नागरिक आमने-सामने... यहां के हालात न सैनिकों के लिए अच्छे हैं, न जनता के लिए

सैनिकों पर पत्थर फेंकना गलत है और उतनी ही गलत यह बात भी है कि सेना किसी को मानव ढाल की तरह इस्तेमाल करे या पत्थर का जवाब गोली से दे... #मोदी सरका...

राजीव रंजन श्रीवास्तव
2018-02-04 21:15:41
कितना फेंकते हो "दुनिया की सबसे बड़ी हेल्थ इंश्योरेंस देने वाली सरकार" कहाँ से हो गयी
कितना फेंकते हो? "दुनिया की सबसे बड़ी हेल्थ इंश्योरेंस देने वाली सरकार" कहाँ से हो गयी ?

बकवास की बॉलिंग करते समय पड़ोस में चीन को याद नहीं रखते श्रीमान प्रधान सेवक?

पुष्परंजन
2018-02-02 23:36:13
आसियान देशों के साथ दोस्ती  स्वागत मोदीजी अपनी पहल को तर्कपूर्ण निष्पत्ति तक पहुंचा ही देना
आसियान देशों के साथ दोस्ती : स्वागत मोदीजी, अपनी पहल को तर्कपूर्ण निष्पत्ति तक पहुंचा ही देना

ये देश चीन के दक्षिण और भारत के पूर्व में हैं। याने एशिया के दो बड़े देशों की परछाई इन पर शताब्दियों से किसी न किसी रूप में पड़ती रही है।

ललित सुरजन
2018-02-01 18:40:59
hamarirai | क्या महात्मा गांधी ‘जातिवादी और नस्लीय’ थे
#HamariRai | क्या महात्मा गांधी ‘जातिवादी और नस्लीय’ थे ?

#जयपुर_लिटरेचर-फेस्टिवल जैसे आयोजनों से समाज में एकता का भाव अगर बढाया जा सके तो देश के भविष्य के लिए अच्छा होगा..वरना आज के माहौल से कौन वाकिफ न...

देशबन्धु
2018-01-31 10:09:21
budget2018 | क्या सियासत के रंग में रंगेगा यह बजटहर पहलू पर चर्चा | dblive
#Budget2018 | क्या सियासत के रंग में रंगेगा यह बजट..हर पहलू पर चर्चा | #DBLIVE

हमारे संविधान में ‘बजट या  #आम_बजट शब्द का जिक्र नहीं है लेकिन उसकी जगह #संविधान के आर्टिकल 112 में एनुअल फाइनेंशियल स्टेटमेंट कहा गया है।

राजीव रंजन श्रीवास्तव
2018-01-31 09:49:50
निरंकुश रहना चाहते हैं हमारे सत्ताधीश संसदीय जनतंत्र को तो मानो वे बहुत मजबूरी में झेल रहे
निरंकुश रहना चाहते हैं हमारे सत्ताधीश, संसदीय जनतंत्र को तो मानो वे बहुत मजबूरी में झेल रहे

1976 में जब लोकसभा का कार्यकाल एक साल बढ़ाया गया तो मधु लिमये और शरद यादव ने यह कहकर इस्तीफा दे दिया कि वे जितनी अवधि के लिए चुने गए थे वह पूरी हो...

ललित सुरजन
2018-01-25 19:40:32
बीबी और नरेन्द्र की दोस्ती  rss को ये साथ पसंद है क्योंकि
युवा हुंकार रैली  सरकार को आंदोलनों रैलियों से डर क्यों लगता है जी
युवा हुंकार रैली : सरकार को आंदोलनों, रैलियों से डर क्यों लगता है जी ?

दलितों का मुद्दा आज भी बड़ी जनता के लिए कोई मायने नहीं रखता है। खासकर दिल्ली जैसे शहर में, जहां आए दिन आंदोलन होते रहते हैं, लेकिन दलित आंदोलन को ...

देशबन्धु
2018-01-11 10:16:02
“अच्छे दिन” तो नहीं आए पर जीडीपी के आंकड़े बताते हैं “कठिन दिन” आने वाले हैं
असम में nrc की लिस्ट से रची जा रही है बड़ी साजिश
असम में NRC की लिस्ट से रची जा रही है बड़ी साजिश

राजीव रंजन श्रीवास्तव
2018-01-05 23:44:40
bhimakoregaonviolence  जिग्नेश और उमर खालिद से भाजपा और दक्षिणपंथी ताकतें असहज क्यों होती हैं
कोरेगांव हिंसा की लीपापोती में क्यों लग गए बीजेपी के दलित सांसद  और मोदी जी चुप क्यों हैं
कोरेगांव हिंसा की लीपापोती में क्यों लग गए बीजेपी के दलित सांसद ? और मोदी जी चुप क्यों हैं ?

महाराष्ट्र और गुजरात में बुनियादी फ़र्क़ यह है कि यहाँ दलितों को दबा नहीं सकते. बीजेपी के दलित सांसदों को लगता है, लोकसभा में लीपापोती कर मामला ख़त्...

पुष्परंजन
2018-01-03 17:10:13
तो पीएम उन नवयुगलों को भी शुभकामनाएं देने लगे हैं जो देशभक्त नहीं हैं
तो पीएम उन नवयुगलों को भी शुभकामनाएं देने लगे हैं, जो देशभक्त नहीं हैं?

इस परम्परा के आलोक में विराट और अनुष्का की शादी ही 'आदर्श' कैसे हो जाती? खासकर जब शादी नाम की संस्था ही कर्मकांड से ज्यादा नहीं रह गई है?

कृष्ण प्रताप सिंह
2017-12-29 20:09:55