हस्तक्षेप > स्तम्भ > नया ज़माना
जाग मछन्दर गोरख आया  गोरखनाथ की शिक्षा का दशांश भी लागू करके दिखाएं आदित्यनाथ  तय मानो सीधे हो जाएंगे आरएसएस वाले
जाग मछन्दर गोरख आया : गोरखनाथ की शिक्षा का दशांश भी लागू करके दिखाएं आदित्यनाथ ! तय मानो सीधे हो जाएंगे आरएसएस वाले

’गोरक्षनाथ अपने युग के महान् धर्मनेता थे। उनकी संगठन-शक्ति अपूर्व थी। उनका समर्थ धर्मगुरु का व्यक्तित्व था।

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2018-04-01 15:49:07
बटुक संघ को आजादी की लड़ाई में "भारत माता की जय "बोलने से किसने रोका था  वैसे ही इन दिनों वे यह नारा क्यों बोल रहे हैं
बटुक संघ को आजादी की लड़ाई में "भारत माता की जय "बोलने से किसने रोका था ? वैसे ही इन दिनों वे यह नारा क्यों बोल रहे हैं?

​​​​​​​राष्ट्रवाद की मौजूदा मुहिम लोकतंत्र को कमजोर करने वाली है

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2018-03-18 23:21:02
सावधान रहें लेनिन पर हमला भारत को कमजोर करने की साज़िश है बैंक घोटाले पर नज़र रखो
सावधान रहें! लेनिन पर हमला भारत को कमजोर करने की साज़िश है... बैंक घोटाले पर नज़र रखो !

हेगडेवार, दीनदयाल उपाध्याय और गोलवलकर का स्वाधीनता से लेकर आज तक क्या योगदान है ? .... लेनिन ने स्वाधीनता संग्राम के दौरान भारत की जनता और यहां क...

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2018-03-07 18:08:02
वाम के हार की इबारत मोदी ने नहीं स्वयं वाम ने लिखी है
वाम के हार की इबारत मोदी ने नहीं स्वयं वाम ने लिखी है

मार्क्सवाद अच्छी चीज है लेकिन यह किसने कहा कि मार्क्सवाद के साथ वाजिब पारिश्रमिक नहीं लेना चाहिए। कम्युनिस्ट पार्टियाँ वाजिब वेतनमान के लिए त्रिप...

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2018-03-04 10:48:50
होली का असल मकसद है बंधनों से मुक्ति यह अनुशासित नागरिक की मौत की सूचना का पर्व भी है
होली का असल मकसद है बंधनों से मुक्ति, यह अनुशासित नागरिक की मौत की सूचना का पर्व भी है

होली का मतलब महज होलिका दहन नहीं है, कुछ लकड़ियों का जलाया जाना नहीं है। यह पौराणिक आख्यान की पुनरावृत्ति भी नहीं है।

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2018-03-02 10:56:40
भाजपा की मदद के बिना क्या यह लूट संभव है  2019 के चुनाव के बाद भगवा कॉकस विदेश भागेगा
भाजपा की मदद के बिना क्या यह लूट संभव है ? 2019 के चुनाव के बाद भगवा कॉकस विदेश भागेगा !

भाजपा के कई लोकसभा-विधानसभा चुनाव अकेले यह घोटालेबाज फाइनेंस कर सकता है! इसको कहते हैं -भगवान देता है तो बैंक फाड़कर देता है !

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2018-02-17 09:14:29
देश के लिए कैंसर है राष्ट्रवाद हिन्दू का मतलब संघी नहीं होता
देश के लिए कैंसर है राष्ट्रवाद, हिन्दू का मतलब संघी नहीं होता

RSS को देश के लिए कुर्बानी देने से किसने रोका था ? स्वाधीनता संग्राम में RSS के कितने सदस्य शहीद हुए ? ... भारतीय मुसलमानों की है बलिदानी परंपरा

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2018-01-14 22:31:52
ज्ञान के मामले में भारत के पिछड़ेपन के लिए शिक्षक भी कम जिम्मेदार नहीं
ज्ञान के मामले में भारत के पिछड़ेपन के लिए शिक्षक भी कम जिम्मेदार नहीं

अधिकांश प्रोफेसरों का हाल यह है कि वे न्यूनतम अकादमिक स्तर का शोध प्रविधि के मामले में ख्याल नहीं करते।

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2017-12-31 12:21:21
तीन तलाक और भगवा मंशाएं… संघी कानून से पीड़ित मुस्लिम औरतों का तलाक नहीं रुकेगा
तीन तलाक और भगवा मंशाएं… संघी कानून से पीड़ित मुस्लिम औरतों का तलाक नहीं रुकेगा

एक उन्मादी जब मुसलिम औरतों की हिमायत में खड़ा है तो उसकी मंशाओं को समग्रता में देखने की जरूरत है। मुसलिम औरतें और इस्लाम धर्म को धर्मनिरपेक्ष भार...

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2017-12-29 10:28:03
2जी जजमेंट  यह मनमोहन सिंह की वापसी की शुरूआत है
2जी जजमेंट : यह मनमोहन सिंह की वापसी की शुरूआत है

2जी का जजमेंट मनमोहन सिंह की वापसी की शुरूआत है, यह अन्ना एंड कंपनी, भाजपा, आरएसएस आदि झूठ के झंडाबरदारों के राजनीतिक अंत की शुरूआत है।

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2017-12-21 14:45:16
बुझे-बुझे क्यों हैं मोदी
बुझे-बुझे क्यों हैं मोदी ?

कल पीएम मोदी जब भाजपा मुख्यालय से लाइव बोल रहे थे तो उनमें जीते हुए नेता का भाव नहीं था। मजेदार बात है कल उनको युवा और किसान याद नहीं आए।

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2017-12-19 12:17:26
जाति वोट बैंक राजनीति तो साम्प्रदायिकता की धुरी है अपनी धुरी से भाजपा को डर क्यों
जाति वोट बैंक राजनीति तो साम्प्रदायिकता की धुरी है, अपनी धुरी से भाजपा को डर क्यों ?

अचानक अमित शाह से लेकर निचले स्तर के भाजपा नेताओं को गुजरात में जाति का डर सताने लगा है। लेकिन यह सच है कि गुजरात में मोदी एंड कंपनी को परेशानियो...

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2017-12-03 14:44:44
मुक्तिबोध के बहाने नामवर सिंह पर बहस
मुक्तिबोध के बहाने नामवर सिंह पर बहस

अस्‍मि‍ता वि‍मर्श मूलत: पूंजीवादी वि‍मर्श है। क्‍या अस्‍मि‍ता वि‍मर्श अस्‍मि‍ता, जा‍ति, धर्म, भाषा, नस्‍ल, गोत्र, वर्ग आदि‍ के आधार पर तय होगा या...

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2017-11-15 22:21:17
इक ओंकार सतिनाम करता पुरखु निरभउ निरवैर
इक ओंकार सतिनाम करता पुरखु निरभउ निरवैर

गुरु नानकदेव की रचनाएं और जीवनशैली देखने के बाद नए किस्म के व्यक्ति और नए किस्म के मूल्यबोध की सृष्टि होती है।

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2017-11-04 23:42:50
पटेल को पूजकर क्या संघ हिन्दुत्व और हिन्दू राष्ट्रवाद को भूलने को तैयार है
पटेल को पूजकर क्या संघ हिन्दुत्व और हिन्दू राष्ट्रवाद को भूलने को तैयार है ?

संघ परिवार और मोदी बेहूदे तर्क दे रहे हैं कि पटेल किसी दल की थाती नहीं हैं वे हमारे स्वाधीनता संग्राम के नायक हैं और वे सबके हैं। इनसे कोई पूछे ...

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2017-11-01 12:14:33
नेहरू का पत्नी प्रेम कमला को बेइंतिहा प्यार करते थे पं नेहरू
नेहरू का पत्नी प्रेम... कमला को बेइंतिहा प्यार करते थे पं. नेहरू

मुश्किल यह है कि नेहरू पर हमले करने वाले, पहलु नेहरू का चुनते हैं, और नजरिया अपना जोड़ देते हैं, और इस तरह वे नेहरू की 'कलंकगाथा' निर्मित करते हैं।

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2017-10-31 23:26:47
धर्म और फिदेल कास्त्रो धर्म गरीब के दुखों की अभिव्यक्ति है मार्क्सवाद भी गरीबों के दुखों की अभिव्यक्ति है
धर्म और फिदेल कास्त्रो.... धर्म गरीब के दुखों की अभिव्यक्ति है.. मार्क्सवाद भी गरीबों के दुखों की अभिव्यक्ति है

फिदेल के धर्म संबंधी नजरिए को अभिव्यंजित करने वाली शानदार किताब है ´फिदेल एंड रिलीजन´,यह किताब FREI BETTO ने लिखी है। इसमें फिदेल से उनकी 23घंटे ...

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2017-10-30 23:00:07
“धर्म उत्पीड़ित प्राणी की आह है एक हृदयहीन संसार का हृदय है” मार्क्स ने ही कहा था बंधु
“धर्म उत्पीड़ित प्राणी की आह है, एक हृदयहीन संसार का हृदय है” मार्क्स ने ही कहा था बंधु

आधुनिककाल में धर्म का उपभोक्तावाद और पूंजीप्रेम सबसे बड़ा ईंधन है। इन दोनों के बिना धर्म जी नहीं सकता। धर्म वैचारिक और भौतिक दोनों ही स्तरों पर उ...

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2017-10-29 12:08:37