हस्तक्षेप > स्तम्भ > नया ज़माना
हरेक अक्लमंद मोदीजी का साथ छोड़कर भाग रहा है
हरेक अक्लमंद मोदीजी का साथ छोड़कर भाग रहा है

प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद से अर्थशास्त्री सुरजीत भल्ला के त्यागपत्र पर त्वरित टिप्पणी

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2018-12-11 18:20:56
6 दिसम्बर  स्वतंत्र भारत का कलंकमय दिन
6 दिसम्बर : स्वतंत्र भारत का कलंकमय दिन

नेटमित्र आस्था के नशे में डूबे हैं उन्हें अब राममंदिर दे ही दिया जाए और एक राम मंदिर नहीं सारे देश को राम मंदिर में तब्दील कर दिया जाए।

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2018-12-06 10:26:14
नए दलित चिंतक जानें अंबेडकर के साथ कितने यशस्वी सवर्ण ब्राह्मण थे
नए दलित चिंतक जानें, अंबेडकर के साथ कितने यशस्वी सवर्ण ब्राह्मण थे

अंबेडकर के अछूतोद्धार के काम में ब्राह्मणों की सक्रिय भूमिका थी। स्वयं अंबेडकर भी चाहते थे कि अस्पृश्यता को खत्म करने के काम में ब्राह्मणों की सक...

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2018-12-04 17:37:08
धर्मनिरपेक्ष शब्द से कांप क्यों रहे हैं शब्दों के कातिल संघी
धर्मनिरपेक्ष शब्द से कांप क्यों रहे हैं शब्दों के कातिल संघी ?

राजनाथ सिंह से कहा किसने था “सेकुलर संविधान” की सौगंध खाओ.... संघ को धर्मनिरपेक्षता पर छद्म रूपों में हमले बंद करने चाहिए।

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2018-11-28 20:02:01
बीसवीं सदी में फ़ैज़ जैसा कवि भारतीय उपमहाद्वीप में नहीं हुआ
बीसवीं सदी में फ़ैज़ जैसा कवि भारतीय उपमहाद्वीप में नहीं हुआ

फ़ैज़ के व्यक्तित्व में जो बागीपन है उसका आधार है दुनिया की गुलामी,  गरीबी,  लोकतंत्र का अभाव और साम्राज्यवाद का वर्चस्वशाली चरित्र

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2018-11-21 10:27:22
कम्युनिस्ट दल जब तक हिंदी का महत्व नहीं समझते वे हिंदी क्षेत्र में संकट में रहने को अभिशप्त हैं
कम्युनिस्ट दल जब तक हिंदी का महत्व नहीं समझते, वे हिंदी क्षेत्र में संकट में रहने को अभिशप्त हैं

हिंदी का प्रश्न राष्ट्रभाषा से नहीं, बल्कि वृहत्तर समाज के साथ संप्रेषण से जुड़ा है

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2018-11-19 19:13:16
ममता ने हमें झूठ का आदी बनाया मोदी ने उस पर हरी-भरी खेती की
ममता ने हमें झूठ का आदी बनाया मोदी ने उस पर हरी-भरी खेती की

राजनीति में संगठित और नियोजित झूठे प्रचार अभियानों को पहचानने का नजरिया विकसित किए बिना मोदी-ममता-केजरीवाल आदि से मुक्ति संभव नहीं है।

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2018-11-12 22:34:47
साधारण मनुष्य की महानता का महाख्यान 1917 की अक्तूबर क्रांति
साधारण मनुष्य की महानता का महाख्यान 1917 की अक्तूबर क्रांति

अक्तूबर क्रांति में मानव सभ्यता के इतिहास में पहली बार शासन अपने सिंहासन से उतरकर गरीब के घर पहुँचा था। गरीबों को उसने जीवन की वे तमाम चीजें दीं ...

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2018-11-08 21:08:46
जेएनयू  लिबरल विश्वविद्यालय का अंत
जेएनयू : लिबरल विश्वविद्यालय का अंत

हमारे यहां उत्पादन संबंधों से शिक्षा का जितना संबंध है उससे ज्यादा अनुत्पादक संबंधों से उसका रिश्ता है, फलतः शिक्षा में जीवन में डिग्री अर्थहीनता...

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2018-11-03 11:25:06
संघ-मोदी बेहूदा तर्क दे रहे हैं कि पटेल किसी दल की थाती नहीं हैं जब स्वाधीनता संग्राम चल रहा था तो संघ कहाँ सोया हुआ था
संघ-मोदी बेहूदा तर्क दे रहे हैं कि पटेल किसी दल की थाती नहीं हैं, जब स्वाधीनता संग्राम चल रहा था तो संघ कहाँ सोया हुआ था ?

संघ-मोदी बेहूदा तर्क दे रहे हैं कि पटेल किसी दल की थाती नहीं हैं, जब स्वाधीनता संग्राम चल रहा था तो संघ कहाँ सोया हुआ था ?

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2018-10-31 17:21:16
प्राचीन हिन्दू धर्म का विरोधी है संघ का हिन्दू
प्राचीन हिन्दू धर्म का विरोधी है संघ का हिन्दू

सांस्कृतिक राष्ट्रवाद और सांप्रदायिकता

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2018-10-30 23:36:37
सुभाष चंद्र बोस और भगवा परंपरा  जानिए संघी आजादी और नेता जी से डरते क्यों थे
सुभाष चंद्र बोस और भगवा परंपरा : जानिए संघी आजादी और नेता जी से डरते क्यों थे

मोदी की आंखें इतिहास नहीं शौचालय में स्वच्छ विचार खोज रही हैं!!

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2018-10-21 21:08:22
जोखिम उठाए बिना परिवर्तन संभव नहीं मंत्र का ईश्वर प्राप्ति से कोई संबंध नहीं
जोखिम उठाए बिना परिवर्तन संभव नहीं, मंत्र का ईश्वर प्राप्ति से कोई संबंध नहीं

मंत्र को लोगों ने सिद्धि का मार्ग बनाकर जब से प्रचारित किया है, हमारे जीवन में तरह-तरह की व्याधियों, धूर्तताओं और बदतमीजियों की वैधता बढ़ी, हिंस...

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2018-10-20 14:00:44
सांस्कृतिक राष्ट्रवाद का मीडिया पर प्रभाव ग़ायब हैं यथार्थ के चित्र और यथार्थ की ख़बरें
सांस्कृतिक राष्ट्रवाद का मीडिया पर प्रभाव, ग़ायब हैं यथार्थ के चित्र और यथार्थ की ख़बरें

यथार्थ की हत्या का तंत्र बन गया है सूचना क्रांति के नाम पर विकसित समूचा ढाँचा

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2018-10-14 13:32:47
हिंदी दिवस  मोदी को हिन्दी से कोई लगाव नहीं हिन्दी उनके हिन्दू राष्ट्रवाद के पैकेज का हिस्सा है
हिंदी दिवस : मोदी को हिन्दी से कोई लगाव नहीं, हिन्दी उनके हिन्दू राष्ट्रवाद के पैकेज का हिस्सा है

हिन्दी राष्ट्रोन्माद पैदा करने की भाषा नहीं है। यह दैनंदिन जीवन की भाषा है। लेकिन हिन्दी भाषी व्यापारी लंबे समय से हिन्दी में काम करना बंद कर चुक...

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2018-09-14 18:52:55
समलैंगि‍कता  समलैंगि‍क उद्योग की इस ग्‍लोबल गुलाबी बाजार पर गि‍द्ध दृष्‍टि‍ लगी है
समलैंगि‍कता : समलैंगि‍क उद्योग की इस ग्‍लोबल गुलाबी बाजार पर गि‍द्ध दृष्‍टि‍ लगी है

महज शारीरि‍क और मानसि‍क स्‍वतंत्रता की समस्‍या नहीं समलैंगि‍कता, इसका भूमंडलीकरण की प्रक्रि‍या और बाजार के साथ गहरा संबंध है।

हस्तक्षेप डेस्क
2018-09-06 18:34:56
राहुल गांधी की बातों पर भाजपा की बौखलाहट उसकी घटिया मानसिकता का परिचायक
राहुल गांधी की बातों पर भाजपा की बौखलाहट उसकी घटिया मानसिकता का परिचायक

कांग्रेस की आधुनिक भारत के निर्माण में केन्द्रीय भूमिका रही है। भारत लंबे समय से विश्व क्षितिज पर तीसरी दुनिया के देशों की ओर से नीतिगत मामलों मे...

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2018-08-25 13:57:04
मोदी सरकार बेनकाब  मॉरीशस में संपन्न विश्व हिंदी सम्मेलन बेईमानों ने खाया बेहतर होता हिन्दी प्रेमी ही खाते
मोदी सरकार बेनकाब : मॉरीशस में संपन्न विश्व हिंदी सम्मेलन, बेईमानों ने खाया बेहतर होता हिन्दी प्रेमी ही खाते

मॉरीशस के वरिष्ठ हिंदी लेखक और बुद्धिजीवी की यह पोस्ट जरूर पढ़ें

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2018-08-24 00:06:46