हस्तक्षेप > स्तम्भ > जन हस्तक्षेप
मर्दवाद जेंडर न तो जीववैज्ञानिक प्रवृत्ति है न ही कोई शाश्वत विचार
मर्दवाद (जेंडर) न तो जीववैज्ञानिक प्रवृत्ति है न ही कोई शाश्वत विचार

5 से कम उम्र के बच्चे को कैसे मालुम कि बेटी कहा जाना अपमान की बात है और वह लाज-शरम छोड़कर, अच्छे बच्चे की परवाह किए बिना अपना बेटापन साबित करता है?

ईश मिश्र
2017-12-01 23:21:07
का रे पगला न्यूटनवा भगवानौ से बड़ा है का
का रे पगला, न्यूटनवा भगवानौ से बड़ा है का?

वैसे भी लीक पर न चलना पागलपन ही माना जाता है बचपन की यादों के झरोखे से

ईश मिश्र
2017-11-19 20:08:17
व्यक्तिगत आज़ादी का विरोधी नहीं मार्क्सवाद
व्यक्तिगत आज़ादी का विरोधी नहीं मार्क्सवाद

श्रम-शक्ति को उपभोक्ता सामग्री के दर्जे से मुक्ति दिलाना और उसे रचनाशीलता के रूप मे सम्मानित करना मार्क्सवाद का मकसद है

ईश मिश्र
2017-11-12 13:24:13
भीड़ का भय  1984 के आइने में 2017
भीड़ का भय : 1984 के आइने में 2017

984-86 के दौरान सिखों में व्याप्त दहशत का माहौल आज के माहौल से गुणात्मक नहीं महज मात्रात्मक रूप से भिन्न था। एक फर्क तो यह है कि मुसलमान देखकर ही...

ईश मिश्र
2017-10-12 10:15:40