हस्तक्षेप > स्तम्भ > जन हस्तक्षेप
समीर अमीन  मार्क्सवाद के एक योद्धा का निधन
समीर अमीन : मार्क्सवाद के एक योद्धा का निधन

मार्क्सवाद को नए आयाम देने वाले तथा जनवादी दुनिया के सपने के आशाद्वीप समीर अमीन ने ऐसे समय दुनिया को अलविदा कह दिया जब उनकी बेइम्तहां जरूरत थी

ईश मिश्र
2018-09-08 00:24:49
इतिहास का पुनर्मिथकीकरण  यानी इतिहास लिखना अब इतिहासकारों का नहीं सरकार का काम है
इतिहास का पुनर्मिथकीकरण : यानी इतिहास लिखना अब इतिहासकारों का नहीं, सरकार का काम है

इतिहास के पुनर्लेखन की यह कसरत, कुछ और नहीं, इतिहास के पुनर्मिथकीकरण का कुत्सित प्रयास है। लेकिन अब तो शंबूकों ने तीरंदाजी सीख ली है और एकलव्यों...

ईश मिश्र
2018-04-21 13:05:44
क्या है राष्ट्रवाद और राष्ट्र-द्रोह  क्यों हत्या का उत्सव मनाते हैं हिंदुत्व मार्का गोरक्षक राष्ट्रभक्त
क्या है राष्ट्रवाद और राष्ट्र-द्रोह? : क्यों हत्या का उत्सव मनाते हैं, हिंदुत्व मार्का गोरक्षक राष्ट्रभक्त?

पूछो राष्ट्रवाद या देशद्रोह होता क्या है? वह जेएनयू में देश के टुकड़े करने के नारों की दुहाई देता है, कुछ बताता नहीं।

ईश मिश्र
2018-04-06 11:28:07