हस्तक्षेप > स्तम्भ > समय संवाद
शीला दीक्षित की दिल्ली के दावेदार
शीला दीक्षित की दिल्ली के दावेदार!

मोदी-केजरीवाल दोनों राजनीति की 'कांग्रेस संस्कृति' का साझा विरोध करके सत्ता में आये थे! लेकिन मजेदारी यह है कि दोनों ही कांग्रेस की विरासत पर अपन...

डॉ. प्रेम सिंह
2019-03-15 23:41:42
बुजदिल और गुलाम दिमाग की देशभक्ति  युद्धं देहि समाज को अपने देश की पहचान नहीं न उसका देश के प्रति लगाव
बुजदिल और गुलाम दिमाग की देशभक्ति : 'युद्धं देहि' समाज को अपने देश की पहचान नहीं, न उसका देश के प्रति लगाव

Patriotism of Bold and Slave Mind. आरएसएस/भाजपा की यह बड़ी 'उपलब्धि' है कि उसने कारपोरेट पूंजीवाद के साथ गठजोड़ बना कर देश में एक बुजदिल और गुलाम द...

हस्तक्षेप डेस्क
2019-03-03 23:00:36
हिंदी आलोचना के शिखर पुरुष नामवर सिंह ने अपने होने का हक़ अदा किया
हिंदी आलोचना के शिखर पुरुष नामवर सिंह ने अपने होने का हक़ अदा किया

Namwar Singh has significant contribution in the field of shuklottar criticism. हिंदी आलोचना के शिखर पुरुष नामवर सिंह ने अपने होने का हक़ अदा किया

डॉ. प्रेम सिंह
2019-02-20 22:53:10
मोदी युग की दो परिघटनाएं अल्पसंख्यक और अस्मितावाद की राजनीति करने वाले जितना जल्दी समझ लें उतना बेहतर
'मोदी युग' की दो परिघटनाएं, अल्पसंख्यक और अस्मितावाद की राजनीति करने वाले जितना जल्दी समझ लें उतना बेहतर

भ्रष्टाचार विरोध के उन्माद पर सवार होकर हिंदू राष्ट्रवाद का उन्माद परवान चढ़ा है. जिस तरह भ्रष्टाचार विरोध का आंदोलन चलाने वाले सदाचारी नहीं थे, ...

डॉ. प्रेम सिंह
2019-02-05 12:41:08
नवउदारवादी शिकंजे में आजादी और गांधी
नवउदारवादी शिकंजे में आजादी और गांधी

आरएसएस आजादी के संघर्ष में हिस्सेदारी का दावा तो ठोंक कर नहीं करता, अलबत्ता गांधी की हत्या में संलिप्तता को गलत आरोप बताता है... क्या सेकुलर खेमे...

डॉ. प्रेम सिंह
2019-01-31 23:14:45
थैंक्स यू मोदीजी इस बार तो बच गए डॉ लोहिया
थैंक्स यू मोदीजी, इस बार तो बच गए डॉ. लोहिया!

भगत सिंह से लेकर लोहिया तक, जिन लोगों की दृष्टि स्पष्ट रूप से भारत को एक समाजवादी और धर्मनिरपेक्ष राज्य बनाने की थी, उन्हें भारतरत्न देकर अपमानि...

डॉ. प्रेम सिंह
2019-01-27 19:19:19
दिल्ली विश्वविद्यालय में ठेका-शिक्षण का मुद्दा - निजीकरण की आंधी में देश के शिक्षकों का दायित्व-बोध भी उड़ गया
दिल्ली विश्वविद्यालय में ठेका-शिक्षण का मुद्दा - निजीकरण की आंधी में देश के शिक्षकों का दायित्व-बोध भी उड़ गया

कुलपति समेत विश्वविद्यालय के किसी प्रोफेसर-प्रिंसिपल को नहीं लगा कि अगर कैरियर की शुरुआत में उन्हें दशकों तक तदर्थ या ठेके पर रखा जाता तो वे जिस ...

डॉ. प्रेम सिंह
2019-01-21 22:28:18
प्रतिक्रांति के हमसफर  विकल्पहीन नहीं है दुनिया
प्रतिक्रांति के हमसफर : विकल्पहीन नहीं है दुनिया

केजरीवाल की जीत में धर्मनिरपेक्षता की जीत नहीं है, जैसा कि अति वामपंथियों से लेकर तरह-तरह के राजनीतिक निरक्षर जता रहे हैं।

डॉ. प्रेम सिंह
2019-01-18 21:45:24
कारपोरेट राजनीति का विज्ञापन बनी दिल्ली
कारपोरेट राजनीति का विज्ञापन बनी दिल्ली

कारपोरेट राजनीति साम्प्रदायिक राजनीति से अविभाज्य है. लेकिन देश का सेकुलर खेमा यह मानने को कतई तैयार नहीं है. वह कारपोरेट राजनीति को चलाये रख कर ...

डॉ. प्रेम सिंह
2018-12-26 21:08:54
साधु ऐसा चाहिए   कट्टरता जीतेगी या उदारता
साधु ऐसा चाहिए  : कट्टरता जीतेगी या उदारता

सच्चा साधु कोई एकाध ही होता है। बाकी सब लोक-परलोक का व्यवसाय करके, लोक विमर्श में कहा जाए तो ठगी करके, अपना पेट पालने से लेकर पूरा घर भरने वाले ह...

डॉ. प्रेम सिंह
2018-12-21 13:45:50
तुलसी के राम और संघ के राम
तुलसी के राम और संघ के राम

तुलसी के राम शत्रुहंता नहीं हैं... तुलसी के राम लोगों के मन-मंदिर में ही बसते हैं... ‘राम-राम’ या ‘सिया-राम’ में जो सहजता और आत्मीयता होती है, वह...

डॉ. प्रेम सिंह
2018-12-09 13:29:00
सरकार जमीन लेंगे  और जान भी
सरकार जमीन लेंगे ... और जान भी !

खेत, जंगल, नदी-घाटी, पठार, पहाड़, समुद्र के गहरे किनारे - हर जगह जमीन की अंतहीन जंग छिड़ी है। जमीन हथियाने वालों में छोटे-बड़े बिल्डिरों से लेकर देश...

डॉ. प्रेम सिंह
2018-12-01 15:39:28
मुसलमान गठबंधन की गांठों की जकड़ अपने को बाहर रखते हुए लोकसभा 2019 के चुनाव की सविनय अवज्ञा कर दें
मुसलमान गठबंधन की गांठों की जकड़ अपने को बाहर रखते हुए लोकसभा 2019 के चुनाव की सविनय अवज्ञा कर दें

एक बार फिर बुरी गत बननी है मुसलमानों की... सत्ता से जुड़े नेताओं, चाहे वे किसी भी राजनैतिक पार्टी के हों, को उस फासीवादी संकट की परवाह नहीं

डॉ. प्रेम सिंह
2018-10-09 22:32:32