हस्तक्षेप > स्तम्भ > समय संवाद
धर्मनिरपेक्ष बुद्धिजीवी देश को और ज्यादा गहरे संकट की तरफ धकेल रहे
धर्मनिरपेक्ष बुद्धिजीवी देश को और ज्यादा गहरे संकट की तरफ धकेल रहे

धर्मनिरपेक्ष बुद्धिजीवी देश को और ज्यादा गहरे संकट की तरफ धकेल रहे हैं। अपने तात्कालिक स्वार्थों की पूर्ति के लिए वे भाजपा के समानांतर एक अन्य फा...

डॉ. प्रेम सिंह
2018-08-16 22:03:15
असम में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर  भाजपा की बदनीयती से राष्ट्रीय सुरक्षा पर खतरा
असम में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर : भाजपा की बदनीयती से राष्ट्रीय सुरक्षा पर खतरा

सत्तारूढ़ पार्टी और उसके अध्यक्ष को समझना चाहिए कि राष्ट्रीय सुरक्षा पर खतरा असम में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर के नाम पर पूरे देश में साम्प्रदायिक ...

डॉ. प्रेम सिंह
2018-08-02 08:20:36
दिल्ली में भूखी बच्चियों की मौत  कौन जिम्मेदार भारत माता की बच्चियों के लिए न्याय की आशा नहीं
दिल्ली में भूखी बच्चियों की मौत : कौन जिम्मेदार?, भारत माता की बच्चियों के लिए न्याय की आशा नहीं

आप और उसके CM और DYCM सीधे नवउदारवाद की कोख से पैदा हुए हैं. नेता बनने के पहले वे यूरोप अमेरिका की संस्थाओं से मोटा धन लेकर NGO चलाते थे और कभी म...

डॉ. प्रेम सिंह
2018-07-31 13:49:28
आरएसएस पहले गांधी को लात मार कर नीचे गिराएगा या अम्बेडकर को
आरएसएस पहले गांधी को लात मार कर नीचे गिराएगा या अम्बेडकर को?

बाज़ार की गली में गांधी-अम्बेडकर पर बहस.... भारत के लोग क्यों गाँधी की एक बार हत्या से संतुष्ट नहीं हैं? क्यों उसे बार-बार मारते हैं?

डॉ. प्रेम सिंह
2018-07-23 22:52:20
सबक सिखाने के दौर में  आरएसएस का हिंदुत्व और उसका गर्व पराजित मानसिकता की कुंठा से पैदा होता है
सबक सिखाने के दौर में : आरएसएस का हिंदुत्व और उसका गर्व पराजित मानसिकता की कुंठा से पैदा होता है

कुंठित आक्रोश की पुकार... कारपोरेट पूंजीवाद देश के नेताओं को ही नहीं, बुद्धिजीवियों को भी नचा रहा है...

डॉ. प्रेम सिंह
2018-07-19 16:23:16
2019 के लोकसभा चुनाव में कारगर नहीं हो सकती फुटकर गठबंधन की रणनीति
लोहिया भारतरत्न और सौदेबाज़ समाजवादी
लोहिया, भारतरत्न और सौदेबाज़ समाजवादी

सौदेबाज़ समाजवादी नवसाम्राज्यवाद की गुलाम सरकार से लोहिया को भारतरत्न देने की मांग करके मृत्योपरांत उनका अपमान कर रहे हैं.  गाँधी और आम्बेडकर के व...

डॉ. प्रेम सिंह
2018-05-04 12:04:55
क्या केवल अंबेडकर के चित्रों पर माल्यार्पण उनका सम्मान करना है
क्या केवल अंबेडकर के चित्रों पर माल्यार्पण उनका सम्मान करना है?

जहाँ तक विश्वदृष्टि और विचारधारा का प्रश्न है, भाजपा और अंबेडकर में कोई समानता नहीं है। BJP दो जुबानों में बोलने में माहिर है। उसके दावे में कोई ...

राम पुनियानी
2018-04-21 13:44:00
आसिफा ने छोटी-सी उम्र में यह जरूर जान लिया कि दोजख ज़मीन पर ही है
आसिफा ने छोटी-सी उम्र में यह जरूर जान लिया कि दोजख ज़मीन पर ही है...

दुनिया छोड़ने से पहले आसिफा ने यह भी जान लिया कि शैतान अलग से नहीं होता. क़यामत के दिन खुदा आसिफा का क्या न्याय करेगा ! 

डॉ. प्रेम सिंह
2018-04-16 21:08:31
अलविदा भाई वैद्य   संघर्ष जारी रहेगा
अलविदा भाई वैद्य  : संघर्ष जारी रहेगा

भाई बहुमुखी प्रतिभा के धनी और अध्ययनशील व्यक्ति थे. लेकिन उनकी शख्सियत मूलत: राजनीतिक थी. समाजवादी आंदोलन की कोख में पले भाई पर गाँधी के साथ फुले...

डॉ. प्रेम सिंह
2018-04-15 16:14:38
दिल्ली विश्वविद्यालय में तदर्थवाद अविलम्ब समाप्त हो
दिल्ली विश्वविद्यालय में तदर्थवाद अविलम्ब समाप्त हो

इससे ज्यादा आपत्तिजनक कुछ नहीं हो सकता कि किसी कॉलेज का प्रधानाचार्य डूटा के प्रतिनिधियों/शिक्षक एक्टिविस्टों को कॉलेज में प्रवेश करने से रोकने क...

डॉ. प्रेम सिंह
2018-03-19 22:46:35