हस्तक्षेप > स्तम्भ > समय संवाद
क्या केवल अंबेडकर के चित्रों पर माल्यार्पण उनका सम्मान करना है
क्या केवल अंबेडकर के चित्रों पर माल्यार्पण उनका सम्मान करना है?

जहाँ तक विश्वदृष्टि और विचारधारा का प्रश्न है, भाजपा और अंबेडकर में कोई समानता नहीं है। BJP दो जुबानों में बोलने में माहिर है। उसके दावे में कोई ...

राम पुनियानी
2018-04-21 13:44:00
आसिफा ने छोटी-सी उम्र में यह जरूर जान लिया कि दोजख ज़मीन पर ही है
आसिफा ने छोटी-सी उम्र में यह जरूर जान लिया कि दोजख ज़मीन पर ही है...

दुनिया छोड़ने से पहले आसिफा ने यह भी जान लिया कि शैतान अलग से नहीं होता. क़यामत के दिन खुदा आसिफा का क्या न्याय करेगा ! 

डॉ. प्रेम सिंह
2018-04-16 21:08:31
अलविदा भाई वैद्य   संघर्ष जारी रहेगा
अलविदा भाई वैद्य  : संघर्ष जारी रहेगा

भाई बहुमुखी प्रतिभा के धनी और अध्ययनशील व्यक्ति थे. लेकिन उनकी शख्सियत मूलत: राजनीतिक थी. समाजवादी आंदोलन की कोख में पले भाई पर गाँधी के साथ फुले...

डॉ. प्रेम सिंह
2018-04-15 16:14:38
दिल्ली विश्वविद्यालय में तदर्थवाद अविलम्ब समाप्त हो
दिल्ली विश्वविद्यालय में तदर्थवाद अविलम्ब समाप्त हो

इससे ज्यादा आपत्तिजनक कुछ नहीं हो सकता कि किसी कॉलेज का प्रधानाचार्य डूटा के प्रतिनिधियों/शिक्षक एक्टिविस्टों को कॉलेज में प्रवेश करने से रोकने क...

डॉ. प्रेम सिंह
2018-03-19 22:46:35
एग्जिट पोल  अंधविश्वास का उत्साह 
एग्जिट पोल : अंधविश्वास का उत्साह 

गुजरात में कांग्रेस जीत भी जाती है तो उससे नवउदारवाद-साम्प्रदायिकता के गठजोड़ पर फर्क नहीं पड़ेगा. जो मुख्यमंत्री बनेगा वह नीतीश कुमार की तरह आरएसए...

डॉ. प्रेम सिंह
2017-12-17 09:40:59
आचार्य नरेंद्रदेव जिन्होंने कहा था वे पार्टी छोड़ सकते हैं मार्क्सवाद नहीं
आचार्य नरेंद्रदेव, जिन्होंने कहा था वे पार्टी छोड़ सकते हैं, मार्क्सवाद नहीं

भारतीय समाजवाद के पितामह कहे जाने वाले आचार्य नरेंद्रदेव का जन्म 31 अक्तूबर 1889 में उत्तर प्रदेश के सीतापुर शहर में हुआ था।

डॉ. प्रेम सिंह
2017-10-31 12:30:41