हस्तक्षेप > स्तम्भ > सेक्युलर पर्सपैक्टिव
प्रणब दा  क्या आरएसएस अपनी भारत विरोधी हिन्दू राष्ट्रवादी विचारधारा को त्याग सकता है
प्रणब दा ! क्या आरएसएस अपनी भारत विरोधी हिन्दू राष्ट्रवादी विचारधारा को त्याग सकता है?

प्रणब दा सच यह है कि घृणा की जिस विचारधारा ने गांधी की हत्या की थी, वह अब भी उतनी ही मजबूत है

राम पुनियानी
2018-06-08 09:23:43
क्या आतंकवाद को धर्म से जोड़ा जाना चाहिए
क्या आतंकवाद को धर्म से जोड़ा जाना चाहिए?

अमरीका ने इन आतंकी संगठनों को 800 करोड़ डालर की मदद दी और हजारों टन असलाह मुहैय्या कराया। इन समूहों ने शुरूआत में अफगानिस्तान में सोवियत सेनाओं पर...

राम पुनियानी
2018-06-02 21:21:42
कश्मीर  मोदी सरकार जो कश्मीर पर अप्रत्यक्ष रूप से शासन कर रही है की वजह से हिंसा में तेजी से वृद्धि हुई
कश्मीर : मोदी सरकार, जो कश्मीर पर अप्रत्यक्ष रूप से शासन कर रही है, की वजह से हिंसा में तेजी से वृद्धि हुई

पीडीपी, जो पहले अलगाववाद की भाषा में बात करती थी, ने हिन्दू राष्ट्रवादी भाजपा से हाथ मिलाया.... कश्मीर की सरकार में भाजपा का रूख नकारात्मक रहा है।

राम पुनियानी
2018-05-29 17:29:18
नेहरू जेल में भगत सिंह से मिले थे या नहीं इससे आपको क्या लेना-देना मि मोदी
नेहरू जेल में भगत सिंह से मिले थे या नहीं, इससे आपको क्या लेना-देना मि. मोदी ?

मोदी ने एक सफ़ेद झूठ बोला...अपने राजनैतिक विरोधियों पर लगातार कीचड़ उछालते आ रहे हैं मोदी

राम पुनियानी
2018-05-21 23:23:10
हामिद अंसारी जिन्ना की तस्वीर और एएमयू में हंगामा
हामिद अंसारी, जिन्ना की तस्वीर और एएमयू में हंगामा

विभाजन की नींव अंग्रेजों ने अपनी ‘फूट डालो और राज करो‘ की नीति के माध्यम से रखी थी। सावरकर वे पहले व्यक्ति थे जिन्होंने विभाजन की रूपरेखा सामने रखी।

राम पुनियानी
2018-05-10 09:21:37
नफरत की आंधी से जूझते अमन के चिराग
नफरत की आंधी से जूझते अमन के चिराग

हमें खान अब्दुल गफ्फार खान, मौलाना अबुल कलाम आजाद और उनके जैसे अन्यों की भूमिका को याद रखना होगा। तभी हम एक बेहतर समाज और एक बेहतर देश का निर्माण...

हस्तक्षेप डेस्क
2018-05-05 22:35:37
उप्र  साम्प्रदायिक राजनीति को बढ़ावा दिया जा रहा पर कासगंज ने सब कुछ खोया नहीं है
उप्र : साम्प्रदायिक राजनीति को बढ़ावा दिया जा रहा पर कासगंज ने सब कुछ खोया नहीं है

राज्य, पीड़ितों को अपराधी बता रहा है और अपराधियों की रक्षा कर रहा है। ऐसा करने से हिंसा को और बढ़ावा मिलेगा। दल की यह सिफारिश है कि इस हिंसा में रा...

अतिथि लेखक
2018-04-22 12:04:38
क्या केवल अंबेडकर के चित्रों पर माल्यार्पण उनका सम्मान करना है
क्या केवल अंबेडकर के चित्रों पर माल्यार्पण उनका सम्मान करना है?

जहाँ तक विश्वदृष्टि और विचारधारा का प्रश्न है, भाजपा और अंबेडकर में कोई समानता नहीं है। BJP दो जुबानों में बोलने में माहिर है। उसके दावे में कोई ...

राम पुनियानी
2018-04-21 13:44:00
भारतीय प्रजातंत्र को कमज़ोर करेगी नेहरु की विरासत की अवहेलना
भारतीय प्रजातंत्र को कमज़ोर करेगी नेहरु की विरासत की अवहेलना

क्षुद्र सोच से ग्रस्त आज के शासक, नेहरू के योगदान को नजरअंदाज करना चाहते हैं। वे उसे कम कर बताने की कोशिश कर रहे हैं।

राम पुनियानी
2018-04-14 18:56:08
नाम में क्या रखा है बहुत कुछ  अंबेडकर के नाम में ‘रामजी‘ पर जोर
नाम में क्या रखा है? बहुत कुछ : अंबेडकर के नाम में ‘रामजी‘ पर जोर

मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद से हम भारत में दो विरोधाभासी प्रवृत्तियों का उभार देख रहे हैं। एक ओर दलितों के विरूद्ध अत्याचार बढ़ रहे हैं तो ...

राम पुनियानी
2018-04-10 08:38:19
हिन्दू राष्ट्रवाद के बढ़ते कदमों को रोका जाए क्योंकि वही समाज में मुस्लिम समुदाय के प्रति घृणा उत्पन्न कर रहा
हिन्दू राष्ट्रवाद के बढ़ते कदमों को रोका जाए क्योंकि वही समाज में मुस्लिम समुदाय के प्रति घृणा उत्पन्न कर रहा

मुस्लिम समुदाय में सुधार : समग्र दृष्टिकोण अपनाने की जरूरत

राम पुनियानी
2018-03-30 23:36:50
क्या संविधान से ‘‘हम भारत के लोग‘‘ हटाकर इसे ‘‘हम हिन्दू‘‘ से प्रतिस्थापित करने की तैयारी हो रही
आज के भारत में सूफीवाद की प्रासंगिकता
आज के भारत में सूफीवाद की प्रासंगिकता

अगर मैं दोजख के डर से तुमसे प्रेम करता हूं, तो मुझे दोजख की आग में जलाओ, अगर मैं जन्नत की तमन्ना में तुम से प्रेम करता हूं, तो मुझे जन्नत से ब...

नेहा दाभाड़े
2018-03-17 11:30:41
राष्ट्रविरोधी संगठनों से हाथ मिलाने में भाजपा को कोई संकोच नहीं
राष्ट्रविरोधी संगठनों से हाथ मिलाने में भाजपा को कोई संकोच नहीं

उत्तरपूर्वी राज्यों में भाजपा का उदय और अल्पसंख्यक-विरोधी एजेंडा

राम पुनियानी
2018-03-16 20:19:57
‘‘भारत अर्थात इंडिया राज्यों का संघ”  इसमें भारतमाता कहां से आ गईं भागवत जी
‘‘भारत अर्थात इंडिया राज्यों का संघ” : इसमें भारतमाता कहां से आ गईं भागवत जी ?

कौन इस देश का नागरिक है और कौन नहीं, इसका निर्धारण भारत का संविधान करता है.... संघ नहीं

राम पुनियानी
2018-03-10 14:20:41
छोटा मोदी-बड़ा मोदी  कथा दुस्साहसी डाकुओं और मदहोश चौकीदार की
छोटा मोदी-बड़ा मोदी : कथा दुस्साहसी डाकुओं और मदहोश चौकीदार की

इसमें कोई संदेह नहीं कि मोदी इस देश के कारपोरेट घरानों के डार्लिंग हैं। गुजरात में 2002 के कत्लेआम के बाद उन्होंने विकास का शिगूफा छोड़ा और उसे ‘ग...

राम पुनियानी
2018-03-03 22:22:24
रामराज्य रथयात्रा  चुनाव देख भाजपा को फिर भगवान राम की याद सताने लगी
वल्लभभाई पटेल एक विरासत का विरूपण और उसे हड़पने का प्रयास
वल्लभभाई पटेल: एक विरासत का विरूपण और उसे हड़पने का प्रयास

ऐतिहासिक तथ्यों को तोड़-मरोड़कर जननेताओं को हड़पना, आरएसएस की पुरानी रणनीति रही है। अंबेडकर और भगतसिंह के मामले में भी ऐसा करने का प्रयास किया गया।

नेहा दाभाड़े
2018-02-23 17:56:33