हस्तक्षेप > स्तम्भ > सेक्युलर पर्सपैक्टिव
बाबरी मस्जिदः मुसलमानों को क्या करना चाहिये
बाबरी मस्जिदः मुसलमानों को क्या करना चाहिये?

आस्था को तथ्यों और कानून के ऊपर स्थान देना धार्मिक नहीं, बल्कि राजनैतिक एजेंडा है

Irfan Engineer
2018-12-15 22:42:07
राहुल गांधी के हिन्दू धर्म से क्यों भयभीत है संघ-भाजपा का हिन्दुत्व
राहुल गांधी के हिन्दू धर्म से क्यों भयभीत है संघ-भाजपा का हिन्दुत्व

हम यह नहीं कह सकते कि कांग्रेस ने धर्मनिरपेक्षता की राह छोड़ दी है। वह अब यह स्वीकार नहीं करती कि हमारे संविधान का मूल चरित्र धर्मनिरपेक्ष है,

राम पुनियानी
2018-12-09 18:58:42
संगीत की स्वर लहरियों को चुप करने की राजनीति
संगीत की स्वर लहरियों को चुप करने की राजनीति

Anyone who opposes Krishna is not less than the Taliban and Christian fanatics

राम पुनियानी
2018-11-26 19:10:09
कहानी दो फैसलों की  आसिया बीबी और सबरीमाला
कहानी दो फैसलों की : आसिया बीबी और सबरीमाला

कुछ दशक पहले तक भारत का चरित्र अपेक्षाकृत लोकतांत्रिक, उदार एवं धर्मनिरपेक्ष था किंतु सन् 1990 के दशक से भारत में पाकिस्तान की तरह रूढ़िवाद हावी ह...

राम पुनियानी
2018-11-12 12:12:00
मोदीजी  सावरकर और हिन्दू राष्ट्रवादी नेताजी के खिलाफ ब्रिटिश सेना का साथ दे रहे थे
योगी आदित्यनाथ का कमीसार अवतार  इस तमाशे की शुरुआत तो मायावती ने की थी
योगी आदित्यनाथ का कमीसार अवतार : इस तमाशे की शुरुआत तो मायावती ने की थी

इलाहाबाद से प्रयागराज : नाम में क्या रखा है?.... पुरूरवा की मां इला के नाम पर बना इलाहाबाद

राम पुनियानी
2018-10-28 20:42:22
लेकिन मोदीजी नेताजी के विरूद्ध त्रिपुरी अधिवेशन में जो प्रचार हुआ उसमें तो सरदार पटेल की प्रमुख भूमिका थी
लेकिन मोदीजी नेताजी के विरूद्ध त्रिपुरी अधिवेशन में जो प्रचार हुआ उसमें तो सरदार पटेल की प्रमुख भूमिका थी !

क्या नेहरू ने सुभाष, पटेल एवं अंबेडकर का अपमान किया था?

एल.एस. हरदेनिया
2018-10-25 17:50:08
गुजरात कत्लेआम 2002  एक और रहस्योद्घाटन
गुजरात कत्लेआम 2002 : एक और रहस्योद्घाटन

साम्प्रदायिक हिंसा के भड़कने और उसके जारी रहने के पीछे कई कारक होते हैं। सेना की तैनाती में देरी से दंगाईयों का मनोबल बढ़ता है, यह कहने की ज़रूरत नह...

राम पुनियानी
2018-10-22 12:52:09
क्या आरएसएस का सचमुच ह्दय परिवर्तन हो गया है या नई पैकेजिंग में हिन्दुत्व
सबरीमाला में महिलाओं का प्रवेश  मूलतः सभी धर्म पितृसत्तात्मक हैं
सबरीमाला में महिलाओं का प्रवेश : मूलतः सभी धर्म पितृसत्तात्मक हैं

सबरीमाला मामले में उच्चतम न्यायालय ने ऐसे समूहों के बीच बहस को जन्म दिया है जो महिलाओं की समानता के हामी हैं और जो दकियानूसी परंपराओं और आचरण से ...

राम पुनियानी
2018-10-14 18:31:19
घृणा का कोई अंत नहीं होता गुजरात में जो हो रहा है वह राष्ट्रीय शर्म
घृणा का कोई अंत नहीं होता... गुजरात में जो हो रहा है वह राष्ट्रीय शर्म

गुजरात में कहा गया ”हम पांच हमारे पच्चीस‘‘, और “जब एक पिल्ला भी गाड़ी के नीचे आ जाता है तो दुःख होता है‘‘। इसी घृणा के सहारे चुनाव जीते गए।

एल.एस. हरदेनिया
2018-10-09 22:05:24
बाबरी मस्जिद ध्वंस  न्यायपूर्ण समाधान आवश्यक
बाबरी मस्जिद ध्वंस : न्यायपूर्ण समाधान आवश्यक

विवादित भूमि सदियों से सुन्नी वक्फ बोर्ड के नियंत्रण में रही है। सन् 1885 में अदालत ने मस्जिद से लगी भूमि पर हिन्दुओं को एक चबूतरा तक बनाने की अन...

हस्तक्षेप डेस्क
2018-10-07 12:02:03
आरएसएस मुखिया मोहन भागवत के मीठे बोलः शब्दों पर जाएँ या कारगुजारियों पर
आरएसएस मुखिया मोहन भागवत के मीठे बोलः शब्दों पर जाएँ या कारगुजारियों पर?

जो चीज नई थी, वह थी भागवत की भाषा का आरएसएस के प्रमुख विचारक गुरू गोलवलकर की भाषा से भिन्न होना। जहां गुरूजी कहते थे कि मुसलमान, ईसाई और कम्युनिस...

राम पुनियानी
2018-09-28 17:50:51
‘शहरी नक्सलियों’ की गिरफ्तारियां क्यों
‘शहरी नक्सलियों’ की गिरफ्तारियां क्यों?

यह पहली बार नहीं है कि दलितों और आदिवासियों के अधिकारों के रक्षा के लिए काम करने वाले कार्यकर्ताओं को बिना किसी सुबूत के गिरफ्तार किया गया है

राम पुनियानी
2018-09-21 21:58:24
वर्ल्ड हिन्दू कांग्रेस  आरएसएस हिन्दुओं का प्रतिनिधि संगठन नहीं है
वर्ल्ड हिन्दू कांग्रेस : आरएसएस हिन्दुओं का प्रतिनिधि संगठन नहीं है

बढ़ते हुए वैश्विक संप्रदायवाद का मुकाबला आवश्यक.... हिन्दू-विरोधी है भाजपा और आरएसएस की विचारधारा

राम पुनियानी
2018-09-16 10:42:55
धर्म की निंदा करना ईशनिंदा नहीं है। ईशनिंदा है अन्याय के विरूद्ध आवाज न उठाना
धर्म की निंदा करना ईशनिंदा नहीं है। ईशनिंदा है अन्याय के विरूद्ध आवाज न उठाना

अगर कोई व्यक्ति यह कहता है कि धर्म की सत्ता को चुनौती देना गलत है तो मैं इसे ईशनिंदा मानता हूं। दुनिया में कोई ऐसा धर्म नहीं है जिसमें यह नहीं कि...

हस्तक्षेप डेस्क
2018-09-14 12:16:47
क्या वाकई आरएसएस की मुस्लिम ब्रदरहुड से तुलना अक्षम्य है
क्या वाकई आरएसएस की मुस्लिम ब्रदरहुड से तुलना अक्षम्य है

हाँ जुड़वां नहीं हैं आरएसएस और मुस्लिम ब्रदरहुड परंतु उनमें अनेक समानताएं हैं... क्या संघ को किसान आत्महत्या पर बोलते सुना ? केरल में क्यों नज़र न...

राम पुनियानी
2018-09-08 21:02:41
अटल बिहारी एक बेहतरीन वक्ता थे परंतु क्या वे अच्छे आदमी भी थे
अटल बिहारी एक बेहतरीन वक्ता थे, परंतु क्या वे अच्छे आदमी भी थे?

जीवन भर संकीर्ण हिन्दू राष्ट्रवाद के लिए काम किया अटल ने... हमेशा संघ के प्रति वफादार बने रहे वाजपेयी...

राम पुनियानी
2018-09-02 10:40:41