भारत बंद : क्या दलित सच में एकता की तरफ बढ़ रहे हैं ? क्या ब्राह्मणों को गाली दे कर ब्राह्मणवाद हार जाएगा?

दलित जातियाँ भी आपस में छुआछूत उतना ही करती है जितना उनसे सवर्ण जातियाँ करती हैं।... दलित एकता अगर बनानी है तो सबसे पहले दलित जातियों को आपस मे रोटी-बेटी का रिश्ता कायम करना जरूरी है। ...

उदय चे

ब्राह्मणवाद का खात्मा, लूट तंत्र का खात्मा है

2 अप्रैल भारत बंद - एक मूल्यांकन

उदय चे

    2 अप्रैल को हुआ "भारत बंद" जिसमें दलित-आदिवासी एकता मजबूत नजर आयी। बहुमत आदिवासी और दलित जातियां इस बन्द में शामिल रही। इसके साथ ही देश के प्रगतिशील, बुद्विजीवी, लेखक, रंगकर्मी, कम्युनिस्ट पार्टियां बन्द के समर्थन में मजबूती से शामिल हुए। आदिवासी जिनका इतिहास ही सदियों से लड़ने का रहा है। जिनकी संस्कृति ही अन्याय के खिलाफ आवाज उठाने की, लड़ने की रही है। जल-जंगल-जमीन को बचाने के लिए जिन्होंने अपने सर कटवाए हैं, तो दुश्मन के सर भी काटे हैं। आदिवासियों ने जंगल में जहाँ गोरे अंग्रेजों को नहीं घुसने दिया तो वहीं आजादी के बाद उन्होंने भारत के काले अंग्रेजो को भी नहीं घुसने दिया है। वो आज भी लड़ रहे हैं मजबूती से गोरे और काले अंग्रेजो की सयुंक्त लुटेरी सत्ता से, उन्होंने भारत बंद में मजबूती से विरोध दर्ज करवाया। उनके बन्द में सत्ता के उत्पीड़न के खिलाफ विरोध का स्वर मजबूत दिखाई दिया।

        लेकिन क्या दलित सच में एकता की तरफ बढ़ रहे हैं। दावा तो ये भी किया जा रहा है कि दलित-मुस्लिम-पिछड़ा इकठ्ठे हो रहे हैं अपनी एकता बना रहे हैं। क्या इसमे सच्चाई है?

     2 अप्रैल के भारी जनआक्रोश को देखते हुए दावे तो ब्राह्मणवाद को हराने के किये जा रहे हैं। बोला जा रहा है ब्राह्मणवाद हार रहा है, अब कुछ दिन का मोहताज है ब्राह्मणवाद। बहुत जल्दी ही दलित-पिछड़ों का राज होगा। सपने बहुत लिए जा रहे हैं, वैसे सपने देखने का सबको अधिकार भी है लेकिन जब सपना टूटता है तो इंसान टूट जाता है भविष्य में खड़ा होना उसके लिए बहुत कठिन हो जाता है।

पूंजीपतियों द्वारा खड़े किए गए अन्ना और केजरीवाल के आंदोलनों से भी देश के लाखों लोगो ने परिवर्तन के सपने देखे थे। लेकिन जब सपना टूटा तो सपना देखने वाले भी टूट गए। आज उनकी हालत बहुत बुरी है वो न इधर के रहे और न उधर के रहे।

इसलिए सपना जरूर देखो लेकिन पहले ठोस मैदान जरूर तैयार करो।

 किसी भी आंदोलन का ईमानदारी से मूल्यांकन किये बिना आगे बढ़ना "अंधेरे में लट्ठ मारना है"

सबसे पहले तो ब्राह्मणवाद क्या है इसको जानने की जरूरत है। ब्राह्मणवाद के नाम पर जो रोजाना ब्राह्मणों को गाली दे कर सन्तुष्टि की जा रही है, क्या इससे ब्राह्मणवाद हार जाएगा?

ब्राह्मणवाद

लुटेरी क़ौम द्वारा श्रम की लूट को धर्म का चोला पहनाकर लूट को जायज ठहराने और लुटेरों को सर्वश्रेठ साबित करने वाला विचार ब्राह्मणवादी विचार है। ब्राह्मणवाद जिसका प्रतिनिधित्व कभी सवर्ण जातियां करती थी, लेकिन वर्तमान में आज ब्राह्मणवाद सभी जातियों में है। जो भी जाति या व्यक्ति लुटेरी मण्डली में शामिल हो जाता है या होने का इच्छुक होता है वो ब्राह्मणवाद की चपेट में है। आज प्रत्येक जाति दूसरी जाति से खुद को श्रेष्ठ समझती है। एक झूठे औऱ काल्पनिक मिथकों व इतिहास के सहारे श्रेष्ठ बनने की कोशिश प्रत्येक जाति द्वारा की जा रही है।

बहुमत की मजदूर और किसान जातियाँ, जो वर्तमान में दलित व पिछड़ों में विभाजित हैं, सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक परिवर्तन में जिनकी एकता बहुत जरूरी है, ये जातियाँ आपस में ब्राह्मणवाद का बहुत गहरे से शिकार हैं। आज भी ब्राह्मण ही ब्राह्मणवाद की अगुवाई कर रहा है, लेकिन इसके पीछे सभी जातियाँ खड़ी हैं।

दलित जातियाँ भी आपस में छुआछूत उतना ही करती है जितना उनसे सवर्ण जातियाँ करती हैं।

सबसे पहले दलित जातियों की बात करें तो अपर दलित जातियाँ चमार, धानुक, नायक जाति दलितों में सवर्ण भूमिका में हैं। जितनी नफरत सवर्ण, दलितों से करते हैं उतनी ही नफरत अपर दलित जातियों के लोग अति दलित में शामिल जाति सेंसी, बावरी, वाल्मीकि, पासी, के साथ करते हैं।

जातियों में भी अंदर ये जाति और गोत्रों में बंटे हुए हैं।

किसी भी गांव में इनके मकान इकट्ठे नहीं है। जाति के अनुसार अलग-अलग बस्तियां हैं। दलित तो जाति के अंदर भी जाति में बंटे हुए है। जिस समय गांव में पानी का साधन कुँए होते थे तो दलितों ने भी जाति अनुसार कुएँ अलग-अलग बनाये हुए थे। चौपाल अलग-अलग, गांव में श्मशान भूमि जहाँ सवर्णो ने अलग बनाई हुई है ऐसे ही दलितों ने भी श्मशान भूमि के अंदर अलग-अलग जगह बनाई हुई है।

सवर्ण जातियों में जो रीति-रिवाज, सामाजिक जकड़न और समाज का ढांचा है, वैसा ही ढांचा पिछड़ो व दलितों में है।

आप बराबर सवर्णो का ढांचा अपनाए हुए हैं। बराबर उन्हीं नियम कानून कायदों में रहना पसंद करते हैं, लेकिन ब्राह्मणवाद को गालियां देते हैं, उसको खत्म करना चाहते हैं। आपके जो दलित नेता हैं, जो सुबह से शाम तक ब्राह्मणवाद के नाम पर सिर्फ ब्राह्मणों को गाली देकर वोट बटोरना चाहते हैं, लेकिन इस सामाजिक ढांचे को तोड़ना नहीं चाहते । ये दलित नेता आपको गुलाम बनाए रखना चाहते हैं। ये दलित नेता वोटों की फसल के लिए दलित जातियों की एकता बने कभी नहीं चाहते हैं।

क्या 2 अप्रैल के भारत बंद में कोई दलित नेता आपको भारत बंद में शामिल होता दिखा? जबकि 60 से 70 सांसद और सैंकड़ो विधायक दलित है।

पिछड़ो के हालात

जिसको इस आंदोलन से ये लगता है कि इस आंदोलन में ओबीसी साथ आए हैं वो भी मूर्खता कर रहे हैं। obc आरक्षण के लिए obc है, नहीं तो मानसिकता से सवर्ण है।

ऐसे ही मुस्लिम-सिख-ईसाई भी भारतीय संदर्भ में जातियों में बंटे हुए हैं। उनमें भी जातीय भेदभाव है।

पिछड़ी जातियों में 2 तरह की जातियाँ हैं। छोटा किसान और भूमिहीन

पिछड़े भूमिहीनों के सामाजिक हालात दलितों से थोड़े से बेहतर हैं, लेकिन जातीय उत्पीड़न के वो भी शिकार हैं। OBC किसान जो बहुमत संख्या में ज्यादा है, वो दलितों का जमकर उत्पीड़न करता है। सवर्णों के इशारे पर वो गांव में दलितों का सामूहिक सामाजिक बहिष्कार, आर्थिक बहिष्कार, राजनीतिक बहिष्कार करता रहा है। सवर्ण जाति खासकर ब्राह्मण इन पिछड़ी जाति के किसानों को आगे करके दलितों का जमकर उत्पीड़न करता है।

कुछ मामलों में सवर्ण इन पिछड़ो का भी जातीय शोषण करते हैं। जहाँ सवर्ण जातीय बहुमत में हैं, वहां वो OBC किसानों को अपना हुक्का भी नहीं पीने देंगे।

आरक्षण के सवाल पर सवर्ण इनकी खिलाफत करते हैं।

OBC जातियाँ खासकर किसानी से जुड़ी जातियाँ 2 अप्रैल के भारत बंद के खिलाफ थी और ये ही जातियाँ 10 अप्रैल के लुटेरी जातियों द्वारा बुलाये गए भारत बंद के समर्थन में खड़ी हैं, क्योंकि SC/ST एक्ट उन जाहिलों को नकेल डालने का काम करता है जो इंसान को इंसान मानकर उनसे जानवरों से भी बुरा व्यवहार करते हैं।

इसलिए ये जाहिल चाहते हैं कि उनको और आजादी मिल जाए मेहनतकश जातियों को लूटने की, लूट के खिलाफ आवाज उठाए तो जातीय आधार पर उनका दमन करने की, वो कोई भी कानूनी पाबन्दी नहीं चाहते हैं। वो मानवता को कुचलने का जो नंगा नाच धर्म की आड़ में हजारों सालों से करते रहे हैं, उस नंगे नाच पर भारत के सविधान ने जो रोक लगाई थी उस रोक से आजादी चाहते हैं। इसलिए 10 अप्रैल को उन्होंने भारत बंद बुलाया है। इस भारत बंद में obc किसान जातियाँ बढ़-चढ़ कर भाग लेंगी। भाग नहीं लेगी तो विरोध कभी नहीं करेगी इस भारत बंद का।

रोटी-बेटी का रिश्ता

सभी दलित जातियों की सवर्णो के सामने सामाजिक हालात बराबर है। इसलिए दलितों को दलित जातियों में सामाजिक बराबरी की तरफ बढ़ना चाहिए। दलित एकता अगर बनानी है तो सबसे पहले दलित जातियों को आपस मे रोटी-बेटी का रिश्ता कायम करना जरूरी है।

रोटी-बेटी के रिश्ते का अभी तक दलित-पिछड़े-सवर्ण सभी विरोध कर रहे हैं। जाति और शादी का भारतीय संदर्भ में मेल है। अगर सभी जातियों में रोटी-बेटी का रिश्ता बनता है तो जातीय बन्धन कमजोर जरूर होंगे।

मान लो किसी गाँव मे दलितों का सामाजिक बहिष्कार किया हुआ है। आज कोई सवर्ण दलितों के पक्ष में नहीं बोलता सिर्फ प्रगतिशील लोगो को छोड़ कर

लेकिन अगर उन दलितों में सवर्ण जाति के बेटी या बेटा की शादी की हुई है या दलितों में ही आपस में शादियां होती हैं, तो क्या वो सवर्ण जाति वाले या दलित अपने रिश्तेदारों के पक्ष में नहीं आ खड़े होंगे?

भूमि बंटवारा

    बहुमत दलित व अति पिछड़ी जातियां भूमि हीन हैं इसलिए सबको भूमि बंटवारे की सांझी लड़ाई लड़नी चाहिए। जहाँ दलितों के पास बहुमत में खेती के लिए भूमि है वहाँ जातीय उत्पीड़न बहुत कम है।

दलित संगठित-असंगठित क्षेत्र में मजदूर है, वो खेत मजदूर है उनको श्रम की हो रही लूट के खिलाफ औऱ श्रम कानून लागू करवाने के लिए सांझी लड़ाई लड़नी चाहिए।

दलितों को शिक्षा-स्वास्थ्य-रोजगार के लिए सामूहिक आंदोनल खड़े करने चाहिए।

दलितों को आदिवासियों, अल्पसंख्यको, महिलाओं के मुद्दों पर चल रहे संघर्षो में भागीदारी करनी चाहिए।

ब्राह्मणवाद का खात्मा, लूट तंत्र का खात्मा है

जब आप इन मुद्दों पर लड़ेंगे तो आपकी इस लड़ाई का हिस्सा पिछड़े, सवर्ण जो मजदूर-किसान है वो भी आपके पीछे आएंगे क्योकि उनके आर्थिक मुद्दे भी ये ही है। जब वो आपके साथ आएंगे तो ये जातीय बेड़ियां कमजोर होंगीं।

अगर ईमानदारी से लड़े तो जीत आपकी तय है। ब्राह्मणवाद का खात्मा, लूट तंत्र का खात्मा है।

ज़रा हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।