मृत्यु का जश्न मनाते गिद्ध

गोरी लंकेश जिन गोलियों से मरी उसी विचार फेक्ट्री का ठप्पा था जहाँ से लेते हैं तालिबान आईएस...

जसबीर चावला
हाइलाइट्स

मृत्यु का जश्न मनाते गिद्ध

———————————

 

गोरी लंकेश जिन गोलियों से मरी

उसी विचार फेक्ट्री का ठप्पा था

जहाँ से लेते हैं तालिबान आईएस

 

जिस सहारे खड़ी थी गौरी

चिथड़े हवा में बिखरे उस सँविधान के

रक्तरंजित फ़ाख्ता जमीन पर पडी थी

गिद्ध मृत्यु का जश्न मना रहे थे

 

जसबीर चावला

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।