संविधान को ही सबसे बड़ा झूठ बताने वाला योगी आदित्यनाथ देशद्रोही क्यों नहीं ?

पुष्परंजन

पुष्परंजन

संविधान को ही सबसे बड़ा झूठ बताने वाला योगी आदित्यनाथ देशद्रोही क्यों नहीं ?

भारतीय संविधान के 42वें संशोधन अधिनियम द्वारा प्रस्तावना में “धर्मनिरपेक्ष” शब्द जोड़ दिया गया है. इस प्रकार भारत एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र घोषित किया गया है. इसका अभिप्राय यह हुआ कि संविधान सभी नागरिकों को विश्वास, धर्म तथा उपासना-पद्धति की स्वतंत्रता प्रदान करता है.

सोमवार को रायपुर में योगी आदित्यनाथ ने इसे सबसे बड़ा झूठ कहा है. उन्होंने कहा, "मेरा मानना है, आज़ादी के बाद सबसे बड़ा झूठ धर्मनिरपेक्षता "Secular" शब्द है !" यूपी के मुख्यमंत्री दैनिक जागरण समूह के एक समारोह में यह बोल-बचन प्रस्तुत कर रहे थे.

यही बात किसी कश्मीरी नेता ने कही होती, या फिर जेएनयू के किसी छात्र ने, तो वह देशद्रोही हो जाता !

पुष्परंजन की एफबी टाइमलाइन से

 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।