सदन में सांसद, विधायकों की आदतन अनुपस्थिति मतदाताओं के साथ धोखा

अगर आपका वकील कोर्ट में तारीख पर हाजिर ना हो तो आपको कैसा लगेगा? आप उसे हटायेगें या नहीं? इसलिए राईट टू रिकॉल मतदाताओं को मिलना चाहिए...

अतिथि लेखक

 

डॉ. रिखब चन्द जैन

भारत में जनप्रतिनिधियों की लापरवाही और गैरजिम्मेदारी बढ़ती जा रही है। टिकट लेने के लिए करोड़ों खर्च करते हैं, चुनाव में भी करोड़ों खर्च करते हैं और फिर सदन में उपस्थित होने के बजाय तिकड़मबाजी में लगे रहते हैं। सदन में अनुपस्थित रह कर जनप्रतिनिधि अपने मतदाताओं के साथ धोखा ही करते हैं तथा ऐसे गैरहाजरी रहकर मतदाताओं का अपमान ही है। कल मोदी जी ने अपने सांसदों को ठीक ही कहा कि 2019 में बीजेपी ऐसे तिकड़मबाज व्यक्तियों को टिकट नहीं देगी। आदतन अनुपस्थित रहने वाले जनप्रतिनिधियों को चाहे वो विधयक हो या वो सांसद किसी को भी पार्टी टिकट ना दें।

अगर आपका वकील कोर्ट में तारीख पर हाजिर ना हो तो आपको कैसा लगेगा? आप उसे हटायेगें या नहीं? इसलिए राईट टू रिकॉल मतदाताओं को मिलना चाहिए तथा 66» से अधिक एक वर्ष में अनुपस्थित रहने वाले विधायक या सांसदों की सदस्यता स्वतः कानूनी प्रावधन से समाप्त हो जानी चाहिए। सदन के पीठाधीश (अध्यक्ष) इसकी पुष्टि करें।

कोई भी राजनैतिक पार्टी गलत व्यक्ति को, अपराधी व्यक्ति को, स्वार्थी व्यक्ति को, सदन में अनुपस्थित रहने वाले व्यक्ति को टिकट न दें। अगर राजनैतिक पार्टियां स्वेच्छा से सिर्फ और सिर्फ ऐसे व्यक्तियों को ही टिकट दें जो निःस्वार्थी, सेवाभावी, सक्षम, कर्मठ, घर भरेलू नहीं हो तब ही सही व्यक्ति जनप्रतिनिधि चुनें जायेगें तथा तभी देश को सही दिशा मिलेगी। तभी मतदाताओं और जनता का सपना सच होगा। भारत स्वच्छ होगा। राजनीति अपराधमुक्त होगी। आतंकवाद, जातिवाद, सम्प्रदायवाद, गरीबी, महंगाई, भ्रष्टाचार, दुराचार से भारत तभी मुक्त होगा जब सही जनप्रतिनिधि सदन में पहुंचेगें।

सही जनप्रतिनिधि से हमारा तात्पर्य है डॉ. भीमराव अम्बेड़कर, डॉ. राजेन्द्र प्रसाद, जवाहर लाल नेहरू, लाल बहादुर शास्त्री, पंडि़त दीनदयाल उपाध्याय, श्यामाप्रसाद मुखर्जी, सरदार वल्लभ भाई पटेल, गुलजारी लाल नन्दा, डॉ. राम मनोहर लोहिया, अटल बिहारी वाजपेयी, लालकृष्ण आडवाणी और नरेन्द्र मोदी जी जैसे अगर सारे सदस्य ऐसे हो तो सोचो देश कितनी जल्दी से आगे बढ़ेगा? समस्याएं कितनी जल्दी से दूर होंगी।

जय हिन्द

Dr. Rikhab Chand Jain,
Chairman, Bharatiya Matdata Sangathan

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।