चूँकि मोदीजी जाने वाले हैं तो सवर्णों को आरक्षण का जुमला, पर देंगे कहाँ से जनाब ?

ब सरकार ने अपने पूरे कार्यकाल में कुछ न किया हो तो ये सब किया जाता है। ये सियासी रिर्जवेशन (Political reservation) है...

अतिथि लेखक
चूँकि मोदीजी जाने वाले हैं तो सवर्णों को आरक्षण का जुमला, पर देंगे कहाँ से जनाब ?

बुशरा खानम फहाद

सवर्णों को शिक्षा और नौकरियों में 10 फीसद आरक्षण (10 percent reservation in education and jobs for the upper castes) दिया जाएगा, जब सरकार ने अपने पूरे कार्यकाल में कुछ न किया हो तो ये सब किया जाता है। ये सियासी रिर्जवेशन (Political reservation) है। सवर्णों को ख़ुश करने की कोशिश.. क्योंकि बीजेपी (BJP) को ये अहसास हो गया है कि उसका पारंपरिक वोट बैंक भी उससे नाराज़ है और दूर जा रहा है।

सरकार के पास कुल दो महीने हैं। आरक्षण लागू कराने के लिए सरकार को संविधान संशोधन विधेयक (Constitution amendment bill) लाना होगा, लोकसभा, राज्यसभा में पास कराना होगा। शीतकालीन सत्र (winter session) में मात्र एक दिन बचा है।

सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने अपने एक फैसले में साफ किया था कि अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग या इनके अलावा किसी भी अन्य विशेष श्रेणी में दिए जाने वाले आरक्षण का कुल आंकड़ा 50% से ज्यादा नहीं होना चाहिए।

चाहे किसानों को लिए गए फैसलों की बात की जाए या अब आरक्षण की ये बख़ूबी बताता है कि सरकार कितनी नरवस है।

(बुशरा खानम फहाद, चर्चित टीवी पत्रकार हैं, आजकल ज़ी सलाम न्यूज़ चैनल में सीनियर एंकर हैं।)

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

 

Reservation, Jumla, Bushra Khanam Fahad, Constitution Amendment Bill, Winter Session, Scheduled Caste, Scheduled Tribes, Other Backward Classes, Reservation,

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।