वरना यह दानव बौद्धों और मुसलमानों दोनों को निगल जाएगा...

इस चिंगारी को भारत में शोला बनने से रोकने के लिए बौद्धों और मुसलमानों दोनों को समझदारी से काम लेना होगा वरना यह दानव दोनों को निगल जाएगा।...

हाइलाइट्स

धर्म की कोई सरहद नहीं होती और आस्थाएं आहत होने के लिए किसी तर्क की मुहताज नहीं होतीं। इसी का फायदा उठा कर अपने देश में साम्प्रदायिक ताकतें बौद्ध समाज को मुसलमानों से लड़ाने के लिए रोहिंगिया मुसलमानों को आतंकवादी बता कर बौद्ध महिलाओं के साथ उनके दुर्व्यवहार की फर्जी कहानियां फोटो शाप के ज़रीए फैलाने में लग गई हैं।

मसीहुद्दीन संजरी

रोहिंग्या मुसलमानों पर हो रहे अत्याचारों पर कई तरह की प्रतिक्रियाएं आ चुकी है। जहां एक तरफ मुसलमानों की नहीं बल्कि सभ्य समाज के हर वर्ग की तरफ से इस पर चिंता जाहिर की गई है वहीं कुछ लोगों (ज़्यादा तर मुसलमानों) ने बौद्ध धर्म को भी निशाना बना डाला। हालांकि कुछ मुसलमानाें या मुसलमानों के किसी समूह के अपराध के लिए यदि सारे मुसलमानों को कटघरे में खड़ा किया जाए तो शायद वह खुद ऐसे तर्क को खारिज कर देंगे।

यह बात सही है कि रोहिंग्या मुसलमान सरकारी आतंकवाद का शिकार हैं और उसमें कथित रूप से कुछ बौध धर्म के अनुयाई भी शामिल हैं, कुछ धर्मावलम्बी भी हैं लेकिन उन्हें पूरे बौद्ध समाज का प्रतिनिधि नहीं माना जा सकता।

धर्म की कोई सरहद नहीं होती और आस्थाएं आहत होने के लिए किसी तर्क की मुहताज नहीं होतीं। इसी का फायदा उठा कर अपने देश में साम्प्रदायिक ताकतें बौद्ध समाज को मुसलमानों से लड़ाने के लिए रोहिंगिया मुसलमानों को आतंकवादी बता कर बौद्ध महिलाओं के साथ उनके दुर्व्यवहार की फर्जी कहानियां फोटो शाप के ज़रीए फैलाने में लग गई हैं।

गुरू Abhishek Srivastava ने लद्दाख से एक फेस बुक पोस्ट में लिखा है कि वहां बौद्ध समाज और मुसलमानों के बीच सीधे टकराव की बुनियाद लव जिहाद ही आड़ में पड़ चुकी है। कल क्या हो जाए कुछ निश्चित नहीं कहा जा सकता। मानवता के दुश्मन यह खेल पूरे भारत में खेल सकते हैं।

बौद्ध समाज में रोहिंगिया मुसलमानों के खिलाफ नफरत भरने के माध्यम से पूरे मुस्लिम समाज के खिलाफ नफरत भरने में उक्त ताकतों के साथ वह तमाम लोग सहयोगी ही होंगे जो मियांमार की स्थिति पर बौद्ध धर्म को निशाना बनाने की गलती कर रहे हैं। इस चिंगारी को भारत में शोला बनने से रोकने के लिए बौद्धों और मुसलमानों दोनों को समझदारी से काम लेना होगा वरना यह दानव दोनों को निगल जाएगा।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।