बाप रे बाप, मोदी को देश का बाप बता दिया

यह बयान किसी छोटे-मोटे कार्यकर्ता का नहीं है, भाजपा प्रवक्ता का है। संबित पात्रा का है। जो जबरन भारत माता की जय बुलवाने में विश्वास रखते हैं। तो क्या भाजपा का भी यही मानना है, जो श्री पात्रा ने कहा है...

राजीव रंजन श्रीवास्तव

अब, जबकि भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को देश का बाप बता दिया है और फिल्म निर्माता अशोक पंडित ने ट्वीट किया है कि यह जरूरी तो नहीं कि सबका बाप महात्मा गांधी ही हों, तो इसके क्या मायने निकाले जाएं? क्या यह माना जाए कि राजनीति में चापलूसी और तलवे चाटने की कला, नई ऊंचाइयों को छू रही है? या यह माना जाए कि भाजपा ने नरेन्द्र मोदी को महात्मा गांधी के बराबर या उनसे भी ऊंचा दर्जा दे दिया है?

यह बयान किसी छोटे-मोटे कार्यकर्ता का नहीं है, भाजपा प्रवक्ता का है। संबित पात्रा का है। जो जबरन भारत माता की जय बुलवाने में विश्वास रखते हैं। तो क्या भाजपा का भी यही मानना है, जो श्री पात्रा ने कहा है?

भाजपा अगर नरेन्द्र मोदी को नया राष्ट्रपिता घोषित करती है, तो क्या उसके बाद वह इस बात की जबरदस्ती करेगी कि अब सबको मोदीजी की जय कहना पड़ेगा? अगर ऐसा नहीं है तो भाजपा संबित पात्रा जैसे बड़बोले प्रवक्ताओं पर कोई अंकुश क्यों नहीं लगाती? .....

दरअसल, आरएसएस और भाजपा की महात्मा गांधी और जवाहरलाल नेहरू जैसे विराट व्यक्तित्वों वाले नेताओं से पुरानी खुन्नस रही है। इतिहास को बदलने की चाहे ये लोग कितनी ही कोशिश कर लें, इस तथ्य को वे चाह कर भी बदल नहीं सकते कि 30 जनवरी 1948 को गांधी की हत्या नाथूराम गोडसे ने की थी और इस पूरी साजिश को रचने में उसी विचारधारा का हाथ रहा है, जिस पर आज भाजपा चल रही है।

देखें ये रिपोर्ट

#RajeevRanjanSrivastava | #HamariRai

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।