अब भारत के लिये मतदान करेंगे भारत के लोग अहंकारी मोदी को नहीं देंगे एक भी वोट

मोदी को मिलने वाला प्रत्येक वोट भारत की अवधारणा के विरुद्ध गिरा हुआ वोट होगा।...

मोदी को एक सीट नहीं मिले !

आज के टेलिग्राफ़ की सुर्खी है :

23 मई 2019 : भारत के अभिप्राय को पता चलेगा कि वह जीता है क्या।

(The idea of India will come to know if it has won)

इस बार दावं पर लगा है - भारत से तात्पर्य। ‘विभिन्नस्य भावौघस्यापि संगति’ के नानात्व को धारण किये हुए भारत का समग्र भाव।

भारत के टेलिविज़न चैनलों के सारे दासानुदास भोंपूँ कुछ भी क्यों न कहे, सर्वेक्षणों का ‘तार्किक उन्माद’ कुछ भी क्यों न बके, हम इन चुनाव में मोदी पार्टी के लिये शून्य सीट की कामना करते हैं।

यह कामना हज़ारों सालों की भारतीय सभ्यता के प्रति हमारी दृढ़ आस्था की अभिव्यक्ति है। यह उस विश्वास की अभिव्यक्ति है जो प्रचारित ज्ञान के झूठ को अपसारित कर आदमी का उसके सत्य से रिश्ता बनाता है।

मूर्छना की किसी भी स्थिति में आदमी का स्व अक्षुण्ण रहता है और कोशिश किये जाने पर बाक़ी सभी चीज़ें परे हो जाती है, उसके स्व के दमित पक्ष ही सामने आते हैं।

हमारी हरचंद कोशिश होगी कि इस बार भक्त भी अपनी दासता को किनारे रख कर अपने स्वातंत्र्य के मनुष्य भाव और भारत के नागरिकता-बोध को व्यक्त कर पाएँ।

विगत पाँच साल में एक अय्याश और निष्ठुर शासक के स्वेच्छाचार और दमन के दर्दनाक अनुभव की दबी हुई पीड़ा फूट कर सामने आए।

हमारा मानना है कि मोदी को मिलने वाला प्रत्येक वोट भारत की अवधारणा के विरुद्ध गिरा हुआ वोट होगा।

भारत के लोग अब भारत के लिये मतदान करेंगे। अहंकारी मोदी को एक भी वोट नहीं देंगे।

अरुण माहेश्वरी

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।