ब्राह्मणवादी हिंदुत्व फासीवाद को समझने के लिए....बेमक़सद मर जाना नहीं - वरवर राव

जब हिटलर चुनाव में गया तो उसका पहला नारा और वादा था कि मैं राष्ट्रीय समाजवाद लाऊंगा। सत्ता में आने के बाद उसने संसद को जलाया है और युद्ध में गया है...

बेमक़सद मर जाना नहीं - वरवर राव

वरवर राव तेलगू के प्रसिद्ध कवि और रेवोल्यूशनरी डेमोक्रेटिक फ्रंट के अध्यक्ष है।

तेलगू भाषी वक्ता के हिंदी व्यक्तव्य की वजह से लिप्यान्तरण में कुछ शब्दों व वाक्यों की समस्या हो सकती है।

     बेमक़सद मर जाना नहीं, हमारा एक मकसद है। आज बीजेपी के आने के बाद देश में क्या होने वाला है? क्या बीजेपी के आने से ही इस देश में हिंदुत्व की मानसिकता आई है। या पहले से ही हिंदुत्व की मानसिकता आई है। आज बीजेपी के रूप में खास करके मोदी के रूप में या कहा जाता है कि मोदीत्व के रूप में या और आगे जाकर भी कहा जाता है कि मोबामा के रूप में। यह जो अभिव्यक्ति हो रही है। इसकी जड़ कहां है? क्योंकि ऐसा नहीं है कि बीजेपी या मोदी के आने से पहले यह देश बहुत धर्मनिरपेक्ष और लोकतांत्रिक था। यह बहुत जनतंत्रवादी था। बीजेपी के आने से ही यह देश बदल गया है ऐसी बात तो नहीं है। पर हमारी खास करके मिडिल क्लास और बुद्धिजीवियों की जो मानसिकता है। उदास होने के कारण हो या नहीं समझने के कारण हो। जो भी है वहां से यहां तक हमको लाया है। यह सोचे बगैर इतिहास को जाने के बगैर हम आज के बीजेपी या इसके हिंदुत्व के बारे में नहीं समझ सकते हैं। जब तक नहीं समझ सकते हैं तब तक इसके विरोध में संघर्ष भी नहीं खड़ा कर सकते हैं।

जैसा अभी साथी ने कहा कि हिटलर का फासीवाद 1930 के साम्राज्यवादी संकट से गुजर कर आया। जर्मनी में इटली में जापान में हिटलर, मुसोलिनी, तोजो यह तीन नियंता थे। यह तीनों साम्राज्यवादी संकट के आगे रखे हुए प्रतिनिधि थे। 1930 की स्थिति आज फिर से एक बार आई है। जैसा मार्क्स कहता है इतिहास दोबारा प्रतिबिंबित होता है यह ट्रेजडिक रूप में आता है। आज उसी ट्रेजडी का दौर आ रहा है। 1930 में साम्राज्यवाद भयानक मंदी में गया था। उससे उबरने के लिए जितने भी रास्ते रूजवेल्ट के नेतृत्व में ढूंढे थे, वह चार बार चुना गया फिर भी हल नहीं कर पाया। तो उससे निकलकर स्पेनिश युद्ध आया था। उससे निकलकर दूसरा विश्वयुद्ध आया था। तब तक अपने संकट से उबरकर बाहर आने के लिए एक हिटलर के रूप में फासीवाद को आगे लाए थे। उस समय में उससे टक्कर लेने के लिए एक समाजवादी सोवियत संघ था। उसके नेतृत्व में पूरी दुनिया के जितने भी फासिस्ट विरोधी लोग थे वह खड़े हुए थे। उसके नेतृत्व में संघर्ष किए थे, जनयुद्ध भी हुआ था। उसमें फासीवादी ताकतें हार गई थी। और लोकतांत्रिक ताकतें उभरकर सामने आई थी। स्थिति तो वही है पर हमको नेतृत्व देने वाला एक सोशलिस्ट शिविर नहीं है। बहुत से लोगों के मन में यह भावना है। पर इसी समय में हम सबको मालूम है कि उस समय से अगर आज की तुलना किया जाए तो दुनिया भर में लोकतंत्र व समाजवाद जानने वाले 1940 से लेकर बहुत लोग बढ़ गए हैं। इराक के युद्ध के समय में द हिंदू में एक कार्टून आया था। बच्चा पूछता है डैडी से कि पूरे दुनिया में जितनी भी सरकार हैं अमेरिका के समर्थन में खड़ी हैं। पर जितनी भी जनता है वह अमेरिका के विरोध में खड़ी है। इसको कौंसिलिडेट करना है। ऐसा शिविर कहीं है तो उसको ढूंढना है। हमने 1976 तक चीन में ढूंढ़ा था, 2006 तक नेपाल में भी ढूंढ रहे थे और अभी भी फिलीपींस, टर्की जैसे देशों में साम्राज्यवाद से टक्कर लेने वाले एक जनयुद्ध की तरफ भी हम देख रहे हैं।

  इस समय पूरी दुनिया एक तरफ देख रही है। जो भारत में फासीवाद-साम्राज्यवाद-ब्राह्मणीय सामंतवाद से टक्कर लेने वाली एक नई दुनिया दंडकारण्य में बन रही है। जहां एक करोड़ लोग रहते हैं। आदिवासी लोग रहते हैं। क्रांतिकारियों के नेतृत्व में एक जनताना सरकार को बना रहे हैं। उसके विरोध में जो 2006 से लेकर ऑपरेशन ग्रीन हंट चलाया जा रहा है। पहले तो सलवा जुडूम था और दमन हुआ था जैसा ईस्ट इंडिया कंपनी के समय में आदिवासियों के ऊपर होता था। महिलाओं के ऊपर अत्याचार, गांव जलाना यह सब होता था। ऐसा सलवा जुडूम के लोग करते थे। बाद में ऑपरेशन ग्रीन हंट आकर आज तक जो चल रहा है। वहां 3,00,000 पैरामिलिट्री फोर्सेज को भेजा गया है। चाहे बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स, नागा बटालियन, सीआरपीएफ जो भी नाम लीजिए जितने भी पैरामिलिट्री फोर्स हैं उन सबको भेजा गया है। और उनको पूरा मिलिट्री का इंफ्रास्ट्रक्चर दे दिया गया है। इजराइल से लाए हुए मिसाइल का प्रयोग कर रहे हैं। ग्रेनेड प्रयोग कर रहे हैं। सैकड़ों लोगों को मार डाल रहे हैं। महिलाओं के ऊपर अत्याचार हो रहा है फिर भी वहां के आदिवासी लोग उत्पादन में भाग लेते हुए अपनी एक सरकार जहां एक करोड़ जनता रहती है वहां बना लिए हैं। आपके लिए खास बात है कि भारत के इतने बड़े इलाके में लाखों किसान खुदकुशी कर चुके हैं लेकिन दंडकारण्य में एक भी किसान खुदकुशी नहीं किया है। आप मीडिया और सरकार के भी आंकड़े देख सकते हैं। क्योंकि वे एक वैकल्पिक लोकतंत्र बना लिए हैं।

क्योंकि आज हमारा सवाल है कि बीजेपी आने से लोकतंत्र को खतरा है।

पहली बात यह है कि इन्हें हमारी मनस्थिति को बदलना है। जैसा कि पाउलो फ्रेरे बोलकर एक बड़ा शिक्षाविद कहता है। अब तक जो सीखे हैं वह भूल जाना है। अब तक हमें जो सिखाया गया है कि इस देश को राम से लेकर जितने अवतार हैं उन्होंने बनाया है। या इस देश को राजा लोगों ने बनाया है। या नेहरू से लेकर प्रकाश सिंह बादल तक ने बनाया है। हमें कोई यह नहीं बताया कि इस देश को इस देश की जनता ने बनाया है। वैसे ही इस देश को अगर शासन देना है तो एक संसद बनाना है। उस संसद में बैठे हुए लोग ही देश को चलाते हैं, शासन करते हैं। 121 करोड़ जो जनता इनका काम सिर्फ इतना है कि साल में एक बार वोट दें। बस लोकतंत्र बन गया। इसको लेकर बहुत चर्चा चलती है। लेकिन लोगों के जीवन में जो लोकतंत्र होता है। जो संस्कृति में लोकतंत्र होता है। आपस में जो लोकतंत्र होता है। गांव में रहने वाले लोगों में जो इंसानियत के संबंध होते हैं। इसको हम नहीं समझते हैं। यानी इस दिए हुए पार्लियामेंट्री फ्रेमवर्क से बाहर हम नहीं सोचते है। यानी हम खुद अपने ऊपर एक सरकार को लाकर रख लिए हैं। और यह मनःस्थिति बन गई है कि ये सरकार हमें चलाएगी। इससे बाहर आ करके अपना राज हम ही चला सकते हैं। अपनी चीजें हम खुद ही तय कर सकते हैं। जमीनी स्तर से, गांव के स्तर से हमको जो चाहिए वह हम तय कर सकते हैं। जितने भी आदिवासी इलाके की जमीन है। वे बांट लिये है। कोई भी आदिवासी परिवार नहीं है दंडकारण्य में जिसके पास जमीन नहीं है।

 सौ साल पहले ब्रिटिश काल में 10 फरवरी को गुंडाधूर के नेतृत्व में वहां जो भूमकाल क्रांति आई है। वैसे तो बहुत आदिवासी इतिहास सुनते हैं आप सिद्धू कान्हू, बिरसा मुंडा आदि। उन्होंने कहा अपना गांव में अपना राज। वे राजाओ के खिलाफ भी लड़े है, ब्रिटिश के खिलाफ भी लड़े है। और फाँसी पर चढ़े है। आदिवासी लोग जबसे ऑस्ट्रेलिया में या अमेरिका में पूंजी ने प्रवेश किया है तब से पूंजी के विरोध में संघर्ष किये है। यह कोई नई बात नहीं है। 500 सालों से लड़ रहे हैं। कोलंबस के समय से, भारत में वास्कोडिगामा के समय से वे साहस से लड़े हैं मगर हार गए थे। लेकिन पहली बार भारत में ही ऐसे संघर्ष को नक्सलबाड़ी में आदिवासी के संघर्ष को यानी आदिवासी-किसान संघर्ष को एक विश्व दर्शन का नेतृत्व मिला। एक सिद्धांत का नेतृत्व मिला। तब से लेकर वह आदिवासी संघर्ष चला रहा है। इसलिए तो साम्राज्यवाद सामंतवाद इस संघर्ष को मिटा नहीं पा रहा है। हमारी समझ है, जो रेवोल्यूशनरी डेमोक्रेटिक फ्रंट की समझ है कि ऐसा जो लोकतंत्र होता है वह क्रांति से आने वाला लोकतंत्र होता है। वह कोर्ट से, संसद से आने वाला बुर्जुआ लोकतंत्र नहीं होता है। बुर्जुआ लोकतंत्र का भी आप इतिहास पढ़ सकते हैं बहुत शोध हुआ है। औद्योगिक क्रांति के बाद फ्रांस की क्रांति के बाद बुर्जुआ लोकतंत्र भी प्रदेश में आना मुमकिन नहीं है। इंग्लैंड और फ्रांस दो ही देश है जहां सामंतवाद को ध्वस्त करके पूंजीवाद आया है। रूल ऑफ़ लॉ की बात इंग्लैंड में हो सकती है। समानता स्वतंत्रता बंधुता की बात फ्रांस में हो सकती है। पूंजी और भी आगे जाकर एक एकाधिकार बनती है। एक साम्राज्यवाद बनता है। तो कहीं भी साम्राज्यवाद बुर्जुआ लोकतंत्र को नहीं आने देता है। यह है हमारा अनुभव 1857 में। उससे उभर कर जो आया है हमारे यहां तो इसको ब्राह्मणीय सामंतवाद से समर्थन मिला है। कुछ लोग ब्राह्मणवाद कहते हैं। कुछ लोग सामंतवाद कहते हैं। मगर भारत में जो है वह ब्राह्मणीय सामंतवाद है।

राम के समय से लेकर वर्ण समाज के समय से लेकर ईस्ट इंडिया कंपनी के आने तक इस देश में जो चला है वह ब्राह्मणीय सामंतवाद है। उसकी रक्षा करने के लिए जितना भी रामायण लिखा गया है। पुराण पढ़िए रामायण पढ़िए। ऋषि व क्षत्रियों के बीच में जो तालमेल है। क्षत्रीय राज को निभाने के लिए ब्राह्मण यज्ञ करते हैं। क्षत्रिय लोग ऋषियों को सैकड़ों एकड़ जमीन दे कर के उसका पाल पोस करते हैं। जो भी पौराणिक ग्रंथ पढ़िए एक एक ऋषि के पास सैकड़ों एकड़ जमीन रहता है। बड़ा आश्रम मेंटेन करता है। एक तरफ तो वह सन्यासी है। क्यों? ये जो पुरोहित वर्ग है क्षत्रियों का जो शासन चल रहा है। जितना भी सामंतवाद का दमन चल रहा है। उसका समर्थन करने के लिए एक बौद्धिक वर्ग आज हम जिसे नौकरशाही कहते हैं वैसा एक नौकरशाही बनाए हैं। आज भी सरकार जो विशेष आर्थिक क्षेत्र (SEZ) बना रही है,भूमि अधिग्रहण कानून के माध्यम से उसी समय की तरह जमीन देने की बात कर रही है और वो राम क्या किया है? जंगल में जाकर आदिवासियों को मार डाला है राक्षस के नाम से। बस फर्क इतना है कि उस समय मे दंडकारण्य से होकर श्रीलंका को गया था। आज भी सरकार श्रीलंका से होते हुए दंडकारण्य में आई है। यानी यह ब्राह्मणीय सामंतवाद ईस्ट इंडिया कंपनी आने के बाद, 1857 होने के बाद दलाल बन गया है साम्राज्यवाद का। अंग्रेज लोग भी यह सीख लिए कि इंग्लैंड में जो प्रयोग किए हैं या फ्रांस में जो प्रयोग किए हैं कि सामंतवाद को ध्वस्त करके पूंजीवाद ला सकते हैं। यह भारत में नहीं चलेगा। इससे हम दोस्ती करेंगे, इसको हम कोऑप्ट करेंगे। 1857 में तय कर लिया है। क्योंकि पूरी रियासतों,संस्थानों के ऊपर युद्ध था। आपको तो मालूम है पूरा इतिहास। बहादुर शाह के नेतृत्व में झांसी की रानी हो, चाहे तात्या टोपे हो जितने भी लोग लड़े हैं वह सब रियासत के प्रतिनिधि थे राजा थे। वह राजा के नेतृत्व में जो सामंतवाद है उसको ध्वस्त करके यहां पूंजी लगाना चाहते थे। मगर यह तय कर लिया है कि यह होने वाला नहीं है। जब यह होने वाला नहीं है तब इनको कोऑप्ट करेंगे। इनको दोस्त बनाएंगे यह हमारे दलाल बनेंगे और बना लिया है। वह भी लोग सोचे कि हमें अंग्रेजों से टक्कर नहीं लेना है दोस्ती करना है। क्योंकि यह समझ लिया है कि हमारा जो ब्राह्मणीय सामंतवाद है उसको यह खत्म करने वाला नहीं है बल्कि उसको नए ढंग से निभाने वाला है। तब तक तो भारत की पूरी जनता, जो लड़ी हैं वर्दी पहनकर वह सब किसान के बेटे थे। मार्क्स पहला आदमी है जो कहता है 1857 का युद्ध पहला स्वतंत्रता संग्राम है। बाद में अंग्रेजों ने किसानों को हिंदू-मुस्लिम में बांट दिया है। भारत की जनता कभी भी अपने आपको हिंदू मुस्लिम नहीं समझी। अपने आपको किसान समझी या अलग-अलग क्षेत्रों में रहने वाली समझी है। यहां की आम जनता जो खेती में भाग लेने वाली अपने आपको किसान समझी है अपने आप को इंसान समझी है। अपने आप को इंसान और किसान समझने वाली पूरी भारत की जनता को अंग्रजों ने हिंदू मुस्लिम में बांट दिया। ऐसा नहीं कि संघर्ष नहीं किया है। जब से वर्ग समाज बना है तब से लेकर आज तक संघर्ष होता रहा है। जो मैं रामायण की बात बोला हूं तब से चारवाक लोग थे, लोकायत लोग थे, नास्तिक लोग थे। जब तक वर्ग समाज रहता है तब तक वर्ग संघर्ष होता रहता है। मगर 1857 में शासक वर्ग ने उससे आगे जाकर विभाजन किया है।

वैसे तो पंजाब में ही सबसे ज्यादा, जो लोग अमेरिका, कनाडा में जाकर पढ़े हैं वे लोग साम्राज्यवाद के विरोध में गदर पार्टी बनाये थे। सबसे पहले जो क्रांति की कोशिश हुई है वह पंजाब में हुआ है। गदर पार्टी आई है एक सतत संघर्ष चलाया है। और भी पीछे जाकर अगर देखें तो जो हिंदुत्व द्वारा जितने भी दमन हुए है उसके विरोध में संघर्ष करने वाले आपके गुरु नानक थे। गुरु नानक से लेकर गदर तक यह भी तय किए कि अगर लोग या जनता चाहे तो संघर्ष के स्वरूप के बारे में कोई हिचकिचाहट नहीं हो सकती है। तलवार लेकर भी लड़ भी सकते हैं। ऐसा नहीं है कि पार्लियामेंट्री फ्रेमवर्क में ही संघर्ष बना रहेगा। धर्म के ऊपर जो संघर्ष आया है वैसा पूरे देश में मैं दिखा सकता हूं भक्ति के आंदोलन के समय में। खैर! वह अभी छोड़िए। एक राजनीतिक संघ के रूप में देखे तो 100 साल पहले एक गदर पार्टी बनी थी और आज भी जैसा की विपिन चंद्र ने कहा है कि लेनिन ने भगत सिंह को बनाया है किसान मजदूर राज लाने के लिए भी यहां संघर्ष किया है। पर ब्रिटिश सरकार ने जो मुख्यधारा के इतिहास को आगे लाया है। वह सभी पार्टियों से ज्यादा खासकर कांग्रेस पार्टी। अब इसमें देखिए बाल गंगाधर तिलक के समय से लेकर राजीव गांधी तक अगर उनकी राजनीति का विश्लेषण करें तो तबसे हिंदुत्व भावना को राजनीति में लाना शुरू कर दिए है। तिलक भगवत गीता का बात करता है। गांधी भगवत गीता का बात करता है। तिलक को भगवत गीता में हिंसा दिखता है। गांधी को भगवत गीता में अहिंसा दिखता है। हिंदू धर्म एक ऐसा धर्म है कि आप जो भी चाहे व्याख्या कर सकते हैं। पर मूल रूप उसमें हिंसा ही है। दुनिया में एक भी ऐसा धर्म नहीं है जो अपने मूल में ही हिंसा का उत्प्रेरण देता है। वह हिंदुत्व है वह गीता खुद कहता है। जिसे अवतार माना जाता है खुद कृष्ण कहता है कि मारो भाई हो दोस्त हो गुरु हो जो भी हो मारो। मैं हूं यहां मैं देख लूंगा। जीसस क्राइस्ट ने ऐसा नहीं कहा है। वो खुद अवतार नहीं है परमात्मा का व्याख्याकार है। मोहम्मद ने ऐसा नहीं कहा है। उसको भी हम अवतार नहीं मानते हैं भगवान नहीं मानते वह भी ऐसा नहीं कहा है। खुद जो अवतार है जिसे भगवान मानते हैं वह भगवान कहता है कि हिंसा करो। तुमको कुछ होने वाला नहीं है मैं हूं मैं देख लूंगा। धर्म कहता है कृष्ण परमात्मा है। और यह भी कहता है कि यह समाज समान समाज नहीं है। ब्राह्मण सिर से आया है शुद्र पैर से आया है।

यानी बाद में जो अंबेडकर यहां के समाज के बारे में श्रेणीक्रम समाज कहते हैं। वह श्रेणीक्रम समाज की बात भगवत गीता में है और आगे जाकर मनु ने कहा है। वह हिंदू समाज के लिए पहला संविधान है। जो आज भी समाज में लागू है वह मनुस्मृति है। अम्बेडकर का संविधान तो सिर्फ पढ़ने व देखने के लिए है।

आज आरएसएस वाले मनुस्मृति को मान रहे है। आरएसएस बीजेपी कहती है भारत मे रहने वाले... ये तो भारत नहीं है ये हिंदुस्तान है। हिंदुस्तान में रहने वाला हिन्दू ही हो सकता है। जितने भी हिंदुस्तान में लोग हैं वे सब हिन्दू हैं अगर और कोई है चाहे मुस्लिम हो,सिक्ख हो,ईसाई हो वे सब धर्मांतरण है। और फिर वे कहते हैं कि "घर वापसी" आइये अपने घर आइये आप हिन्दू हैं हिंदुस्तान में आइये। ये सिर्फ धर्म की बात नहीं करते ये हिन्दू राष्ट्र की बात करते है। हिंदुस्तान एक देश है हिंदुस्तान में रहने वाले हिन्दू हैं। ऐसा बीजेपी ने सिर्फ नहीं कहा है। इससे पहले इंदिरा गांधी ने भी कहा है। एक देश है एक पार्टी है एक नेता है। एक ही देश है भारत एक ही पार्टी है कांग्रेस एक ही नेता है इंदिरा गांधी। वही इमरजेंसी ला सकता है। वही शासन कर सकता है। आज जो साम्राज्यवाद के बारे हम कहते हैं कि एकाधिकार, यही ब्राह्मणीय भाव है। दूसरी तरफ हम देखें तो ब्राम्हण धर्म में अस्पृश्यता है। मैं न किसी को छू सकता हूं। और न मुझे कोई छू सकता है। खाना खाते समय आप देख नहीं सकते। हमे दृष्टिदोष भी है और स्पर्षदोष भी है। एक ब्राम्हण खाता है तो एक क्षत्रिय भी नहीं देख और छू सकता है। यानी देश में 3 प्रतिशत ऐसे सोचने वाले लोग हैं। वे आ जाते हैं हमको कहने कि आप हिंदुस्तान में पैदा हुए हैं आप हिन्दू हैं। जिस आदिवासी का कोई धर्म ही नहीं है उसे कहते हैं कि तुम हिन्दू हो। ये जो भावना फिर से उभरकर आ रहा है। 1930 में जो भी भावना थी। उस समय यहां के लोग कहते हैं कि जर्मनी में लोग यहां से वेद चुरा कर ले गए हैं। वही जर्मनी में हिटलर लागू कर रहा है। बात वो नहीं है फर्क इतना है कि जर्मनी में जो आर्य समाज है। आज तो इतिहास फिर से लिखना शुरु कर रहे हैं कि आर्य बाहर के लोग नहीं हैं यहां के लोग हैं। अब जो भी है यहां के लोग हैं। यहां के लोग हैं इसके बारे में इरफान हबीब, आरएस शर्मा, कौशाम्बी जैसे लोग गलती बातें लिखे हैं। यह सब यहां के लोग हैं। आर्य भी यहां के लोग हैं। जो आर्यावर्त कहते हैं यही आर्यावर्त है। असली बात ये है जो जर्मनी के.... साथी ने कहा भी है कि जब साम्राज्यवाद का संकट आया, जब हिटलर चुनाव में गया तो उसका पहला नारा और वादा था कि मैं राष्ट्रीय समाजवाद लाऊंगा। सत्ता में आने के बाद उसने संसद को जलाया है और युद्ध में गया है। आर्यावर्त का जो प्रतीक है स्वास्तिक। हिटलर ने जब आत्मकथा लिखा है उसी समय में हेडगेवार ने यहां RSS शुरू किया। हेडगेवार और गोलवलकर वहां जाकर के इटली के मुसोलिनी से मिला है। वे यहां स्वास्तिक का प्रतीक लाये हैं। आप देख सकते हैं कि आज पूरे संघ परिवार के लोग उस स्वास्तिक प्रतीक का प्रयोग कर रहे है। यानी जर्मनी में जो फासीवाद.... उनका मानना था कि जिसमें आर्य का रक्त बहता हो वही पूरी दुनिया पर शासन कर सकता हैं। हिटलर तो यही चाहता था। नहीं हुआ है दूसरी बात है। हिटलर वही चाहा था आज वही हिटलर के फ़ासीवाद से प्रेरित होकर, वही स्वास्तिक का प्रतीक लेकर, वही आर्य की बात लेकर के आज जो सरकार में बीजेपी के लोग जो संघ परिवार के लोग आए हैं। जो कहते हैं ये हिंदुस्तान है यहां हिंदू ही रहेगा। जो गैर हिंदू है उसको इसमें शामिल होना है। उनको घर वापस आना है। और आगे कहते है कि देश में जितने भी मुस्लिम लोग हैं उनको वोट का अधिकार नहीं देना है। वोटरलिस्ट से उनको निकाल देना है। हिंदू लोग ही वोट करेंगे।

 बीजेपी के लोग भूमिअधिग्रहण अध्यादेश लाना चाहते हैं। पहली बार नहीं हो सका है दूसरी बार कोशिश कर रहे हैं। शायद राज्यसभा में उसको बहुमत नहीं मिलता है तो क्या करेगा? संसद को उलट सकता है। इंदिरा गांधी ने वही किया है 1975 में। मैं इसलिए कह रहा हूं कि ये सिर्फ मोदी की बात नहीं है। यह बात जो साम्राज्यवाद सामंतवाद की सोच विचार के शासक है उसकी समस्या है। जब तक यह नहीं समझेंगे इसलिए तो मैं कह रहा था कि दंडकारण्य में जो जनताना सरकार चल रही है। उस समय जो दो पार्टियों का एकता हुआ है। जो 2007 में एकता सम्मेलन हुआ था। उसका ऐलान था कि, आम जनता को आवाज दे दिया कि हमारे सामने दो मुद्दा हैं। साम्राज्यवाद के विरोध में हथियारबंद संघर्ष कीजिए वो हमारे लिए पहला खतरा है और दूसरा है जो हिंदुत्व ताकतें है उसके विरोध में हथियारबंद संघर्ष खड़ा कीजिए। क्योंकि खासकर हमारे देश में जब साम्राज्यवाद का दलाल होकर के ब्राह्मणीय हिंदुत्व हमारा शासन कर रहा है। यह अलग-अलग बात नहीं है। आप सिर्फ ब्राह्मणवाद के बारे में समझते हैं तो वह एक भावना है। उसको आप नहीं तोड़ सकते क्योंकि वह भावना दलितों तक गया है। क्योंकि अनुसूचित जाति में ही एक जाति का दूसरे जाति के विरोध में संघर्ष हैं। ब्राह्मणीय विचारधारा ऐसी होती है जैसे साम्राज्यवादी,एकाधिकारवाद का विचार होता है। उसकी भावना है कि अपनी मुट्ठी में ज्ञान रहे। अपनी मुट्ठी में शासन रहे। जो कुछ गांव के लिए कहना है मैं ही कह सकता हूं। जो पुरोहित कहता है जो पटवारी कहता है गांव में वही बात चलेगी दूसरी कोई बात नहीं चल सकती है। एक ब्राह्मण की भावना है कि पूरा ज्ञान अपने मुट्ठी में रहे। वैसे ही पूंजी भी जब एकाधिकार बनता है। तो वही सब कुछ कर सकता है और कोई कुछ नहीं कर सकता। इसलिए इन दोनों भावना में मेल हो गया। तेलुगु में एक ड्रामा लिखा है। उसमें कहते हैं जो ब्राह्मण अंग्रेजी लोगों को उपेक्षा करते और अछूत कहते थे। वैसे ब्राह्मण जो संस्कृत और वेद को ही मानते थे। वे जब अंग्रेजो के दलाल बन गए तो जितनी भी इंग्लिश क्लास हैं उसमें पानी में मछली जैसे आ गए। आज आप दिल्ली से चेन्नई तक देखे तो पूरे नौकरशाही में वे लोग है। अंग्रेजी भाषा हो, अंग्रेजी शासन हो, उसकी व्याख्या हो आज देश में कौन कर सकता है? ब्राह्मण कर सकता है। ये मैं केवल एक जाति के बारे नहीं कह रहा हूं। एक भावना के बारे में कह रहा हूं। यह भावना संपत्ति से जुड़ा हुआ भावना है। आज जैसे-जैसे सम्पत्तिधारी बनते जाते हैं वैसे वैसे ब्राह्मण बनते जाते हैं। ब्राम्हणवादी विचारधारा के बनते जाते हैं।

पहली बार 1947 में हिंदुत्व की अभिव्यक्ति बहुत जोर से जनसंहार के रूप में हुआ है। 1947 के देश विभाजन के समय मे जितने दंगे फसाद हुए है। मैंने कल ही सुना था कि पंजाब में 12,00,000 लोग मारे गए हैं। हजारों महिलाओं के ऊपर अत्याचार हुआ है। परिवार बांटा गया है पाकिस्तान में और पंजाब में या भारत में। पहली बार जो धर्म के रूप में, हिंदू मुस्लिम के रूप में जो दंगा हुआ है या 1947 में सिख-मुस्लिम के रूप में जो दंगा हुआ है। यानी पूरी राजनीति मे धर्म का आना। तिलक लाया है, गांधी लाया है, नेहरु लाया है, इंदिरा गांधी ने लाया है। हमारे जमाने में जो लोग यहां बैठे हैं हमारे अनुभव में तो सबसे ज्यादा राजीव गांधी लाया हैं। 1947 के बाद बड़े पैमाने पर जो जनसंहार हुआ है वह पंजाब में 1984 में हुआ है। उनकी राजनीति जो भी हो। वो बहाने लेकर, मौका लेकर जो इंदिरा गांधी ने अमृतसर स्वर्ण मंदिर के ऊपर सेना का हमला करवाया है। अब यह बात जब तक आप राज्य के विरोध में नहीं सोचते हैं तो इस खतरे में हम फंस जाएंगे। हमारे साथ तेलंगाना में ये हुआ है। तेलंगाना में जब कम्युनिस्ट पार्टी के नेतृत्व में किसान मजदूर लोग सशस्त्र संघर्ष में थे। 3,000 गांव में 10 लाख एकड़ जमीन को मुक्ति करके एक तरह के राज्य बनाए थे। उस समय 1947 में जब दिल्ली में राज्य बना तो नेहरू-पटेल निजाम नवाब का बहाना लेकर यानी वह तो बहुत तानाशाह है, सामंतवाद को लागू कर रहा है। उसके विरोध में लोग कम्युनिस्ट पार्टी के नेतृत्व में लड़ रहे थे मगर दखल देकर के तेलंगाना में सेना को भेजा था। भाइयों सुनिए इतिहास के बारे में तब तक न संविधान बना था। 1948 की बात कर रहा हूं। तब तक न पार्लियामेंट बना है। मगर नेहरू पटेल ने तय किया कि हैदराबाद रियासत के ऊपर सेना भेजेंगे। कश्मीर की रियासत के ऊपर सेना भेजेंगे। हम खुश थे, हम खुश इसलिए थे कि वहां का नवाब मुस्लिम है कश्मीर की जनता मुस्लिम है। हममें ये जो मानसिकता है हम हिंदू धर्म में पैदा हुए हैं इसलिए हम हिंदू हैं। जितनी भी पढ़ाई हो, जितनी भी चेतना हो, जो बाहर की दुनिया देख रहे हैं हम। पर यह नहीं समझते हैं कि हम इंसान हैं। हम एक इंसान होकर पैदा हुए हैं नंगा पैदा हुए हैं। ना हिंदू होकर पैदा हुए हैं ना सिक्ख होकर पैदा हुए हैं ना मुस्लिम होके पैदा हुए हैं। हम यह नहीं सोचते हैं खास करके बुद्धिजीवी लोग। हैं तो इंसान है नहीं तो किसान मजदूर लोग हैं। काम करने वाले लोग हैं। धर्म तो अपनाए है। वो तो कोई पानी,भोजन,स्वास नहीं है। वो अपनाई हुई एक संस्कृति है। उसे नकार कर भी हम जी सकते है। इंसान नहीं होके नहीं जी सकते है। कोई उत्पादन में भाग नहीं लेकर के नहीं रह सकते है। हम अपने आपको किसी जाति से, किसी धर्म से संबंधित होकर देखते है। एक इंसान के तौर पर नहीं देखते है। ऐसा बांटा गया है हमको। यह मानसिकता साम्राज्यवाद सामंतवाद की साजिश है। खासकर आज जो बात हम RSS या बीजेपी सरकार के आने के बाद कह रहे हैं इसका 1984 में ही शुरूआत हो चुका था।

 आज भी इतिहास में खासकर संसदीय इतिहास को अगर देखा जाए तो सोचिये आज एक बार फिर इतिहास दोहराव हो रहा है। एक ट्रैजिटिक रिपिटेसन है। 1984 में स्वर्ण मंदिर के ऊपर हमला हुआ था। दिल्ली और आसपास में 31 अक्टूबर से लेकर 3 नवंबर तक हजारों सिख लोग मारे गए थे। वही 1984 के 7 दिसंबर को भोपाल गैस त्रासदी हुआ। जिसमें 3,000 लोग मर गए। एक बार सोचिए कि कैसे भूमंडलीयकरण के साथ साथ हिंदुत्व चल रहा है। एक बार याद कर लीजिए। उस तरफ भोपाल गैस त्रासदी जैसा एक मल्टीनेशनल कंपनी 3,000 लोगों को मारता हैं। फिर भी इलेक्शन चलता है। इलेक्शन आगे नहीं बढ़ता है और राजीव गांधी कहता है कि खासकर हिन्दू राज्यों में कहता है कि हिंद करेगा हिंदू राज! हम क्या किए हैं? इसलिए मैं मानसिकता की बात बोल रहा हूं। भारतीय संसदीय इतिहास में किसी को भी उतना वोट नहीं आया है जितना राजीव गांधी को आया। राजीव गांधी 401 लोकसभा सीट जीत लिया है। यह तो लोकतंत्र है क्योंकि आप सब मानते हैं ना कि संसद से लोकतंत्र आता है। यह कैसा लोकतंत्र है जो हिंद करेगा हिंदू राज कहता है फिर भी चुनाव में जीतता है। सोचिये आप सब बुद्धिजीवी लोग है क्या यह संसदीय लोकतंत्र हो सकता है? उसी समय बाबरी मस्जिद का दरवाजा खोल दिया गया हैं। क्योंकि वहां राम का, बाल राम का, रामलला की मूर्ति मिली है यह बोल के पी वी नरसिम्हा राव ने उसका दरवाजा खुलवा दिया है। तब से यह शुरु हुआ है। 1885 में ही ह्यूम के नेतृत्व में कांग्रेस पार्टी बनी है। उस कांग्रेस पार्टी में अगर कोई राष्ट्रीय पूंजीपति था तो वो एक ही दादाभाई नरौजी है जो बाद में प्रसिडेंट बना था। उसके बाद जो भी लोग आए हैं वे सब दलाल लोग हैं। एजेंट आये है कांग्रेस पार्टी में। तो 1985 में वो मुंबई में जाकर कहता है कि मैं इस देश को 21वीं सदी में ले जाऊंगा। ये है हमारी 21 वीं सदी। यानी मेरा कहना है कि जो मोदी राज में आया है वो राजीव गांधी का एक और अवतार है। इसलिए मैं कहता हूं कि 1884 से 1984 में खासकर आज पंजाब में वो बात गुजरा है, सिक्खों के साथ गुजरा है, वो बात बाबरी मस्जिद में गुजरा है, जब राम लला की मूर्ति के नाम पर दरवाजा खोल दिया गया या भोपाल गैस त्रासदी में जो हुआ है और बाद में 1991की नई आर्थिक नीति आई है। उसपे कहने की एक और बात है। जैसा बीजेपी और संघ परिवार जबरदस्त बनकर आ रहा है इसमें हमारी भूमिका क्या है? और देखे वो कैसे समय को इस्तेमाल किया है। इमरजेंसी में इंदिरा गांधी ने सभी संगठन को बैन कर दिया। हम सब पूरे इमरजेंसी जेल में थे। देश में 1,50,000 लोग जो सफेद कपड़े पहनने वाले इमरजेंसी के समय जेल में थे। आदिवासी लोग, दलित लोग, मुस्लिम अल्पसंख्यक, संघर्ष में रहने वाले लोगों के लिए जेल में रहना कोई नई बात नहीं थी। खासकर नक्सलबाड़ी-श्रीकाकुलम के समय से। जेल में रहना तो ऐसा था कि हम जिंदा बचे थे। नहीं तो एनकाउंटर में मार डालते अगर नक्सलाइट है तो। मगर हम जैसे लोगों को भी जेल में जाना पड़े ऐसा इमरजेंसी में आया है। तो इमरजेंसी के इंदिरा गांधी का विरोध करने वाले बीजेपी के लोग भी जेल में थे। पर अगर आपको याद हो तो RSS के लीडर ने इमरजेंसी के बारे में कहा कि ये अनुशासन पर्व है। होना चाहिए इमरजेंसी। इमरजेंसी से अनुशासन आता है। रेल समय पर चल रहा है, मार्केट अच्छा चल रहा है। लोग अनुशासन में रह रहे है इसलिए ये होना चाहिए यह बोलकर RSS वालों ने ऐलान किया है। बिनोवा भावे ने इमरजेंसी का सपोर्ट किया है। जब मौका आये तो किसको समर्थन करता है एक बार याद कर लीजिए। बिनोवा भावे इंदिरा गांधी का समर्थन किया है। अनुशासन पर्व बोलके RSS वाले समर्थन किये है। उस समय जो जेल में बीजेपी के लोग और RSS वाले थे उनसे जितने भी लोग जेल में थे वे सब दोस्ती किये है। जॉर्ज फर्नांडिस जैसे लोग बीजेपी से दोस्ती किये है। इमरजेंसी खत्म होने के बाद जो बीजेपी पहली बार जनता पार्टी के नाम से आया है और वो तय किये की इंफॉर्मेशन, एजुकेशन, विदेश, उद्दोग यह अपने हाथों में रखेंगे। लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, वाजपेयी विदेश, उद्दोग, इंफॉर्मेशन, एजुकेशन मिनिस्टर बने हैं। तब से देखिये 1977 से लेकर आज तक देशभर के मीडिया में एजुकेशन में इंफॉर्मेशन में RSS के लोग भरे हुए है। शिक्षा को लेकर 1977 में जो शुरू हुआ है कि रोमिला थापर की किताब, आरएस शर्मा की किताब, कोसांबी की किताब, इरफान हबीब की किताब भारत का इतिहास नहीं हो सकता है इसको रद्द कर दीजिए। यानी अधिरचना को अपने विचार से प्रभावित करने की जो कोसिस हुई हैं। वह 1977 से शुरू हुई है। इमरजेंसी के कारण संघ परिवार को जो लेजिटिमेसी मिला है। बाबरी मस्जिद तो आप जानते हैं। मध्यप्रदेश में आदिवासी महिला लोगों का सामूहिक अत्याचार करके उसका वीडियो बनाकर बजरंग दल के लोग कहते हैं कि हमारे साथ औरंगजेब के समय में ऐसा हुआ था इसका बदला लेने के लिए हमको भी ऐसा ही करना है। गुजरात के समय में ऐसा हुआ है। मुजफ्फरनगर के समय में हुआ है। आज भी आरएसएस कर रहा है यह बहाना करके कि हमारे साथ भी ऐसा हुआ है इसलिए हम जो चाहे अत्याचार कर सकते हैं। आज दलितों के साथ कुछ भी कर सकते हैं। आदिवासियों के साथ कुछ भी कर सकते हैं। ये आज संघ परिवार के सीडी और वीडियो में बताया जा रहा है। आज आप गढ़चिरौली या दंडकारण्य में जाकर देखिए यही बात माओवादियों के साथ भी हो रहा हैं। यही बात वहां के आदिवासियों के साथ भी हो रहा है। आदिवासियों के गांव जला के, आदिवासियों की महिला के साथ अत्याचार करके, आदिवासी महिला लोगों के ऊपर वहां की जो पैरामिलिट्री फोर्स है वह अत्याचार कर रही है। हाल ही में 3 आदिवासी महिलाओं के साथ हुआ है। वे एक वीडियो बनाये है और उसको टैक्सी ड्राइवर को दे दिये है कि जो टूरिस्ट आते हैं उनको बताओ। एक फैक्ट फाइंडिंग टीम ने जाकर के इसे देख लिया है। मीडिया को दे रहे हैं। आप सुने होंगे सायद 3 महिलाओं को नंगा करके, अत्याचार करके, मारने के बाद उसी पुलिस ने फोटो निकाल करके मध्यप्रदेश छत्तीसगढ़ के न्यूज़ पेपर में दे दिया है। एक मैगजीन ने छाप भी दिया है। ये करेंगे बोलकर के यानि कल तक ऐसा काम करने को जो हम गुनाहगार समझते थे, दोषी समझते थे, उसके विरोध में खड़े होते थे लेकिन धीरे-धीरे TV के संस्कृति से, साम्राज्यवाद की संस्कृति से हमारा मन जो वैसा बन गया है कि ऐसे चीजो को देखना तो आदत बन गई है। इंसानियत को मारने का यह जो चीज है सबसे ज्यादा साम्राज्यवाद और ब्राह्मणवादी सामंतवाद की देन है। तो आज वह कुछ भी कह सकता है। आज घर वापसी कह सकता है। आज मुस्लिम को वोट नहीं देना है कह सकता है। परिवार नियोजन की बात कह सकता है।

आप लोगों को याद होगा कि इमरजेंसी ने पहली बार (वर्ल्ड बैंक का प्रोग्राम लागू करने के लिये इमरजेंसी आई) मूलभूत अधिकार का उलंघन किया है। उस समय जो असंवैधानिक अधिकारी था संजय गांधी। संजय गांधी को वर्ल्ड बैंक ने दो प्रोग्राम दिया था। एक है फैमिली प्लानिंग लागू करना। दूसरी बात है नगरों का सुंदरीकरण करना। आज जो पूरे देश और दुनिया में हो रहा है। जितने भी मजदूरों के झोपड़पट्टी थी उसके ऊपर ट्रक चलाकर पूरी की पूरी बस्ती को खत्म कर दिया गया हैं। सुंदरीकरण के नाम से पहली बार 1975 में हुआ है। आज तो पूरे देश में भी चल रहा है। आज तो इतना विस्थापन हो रहा है कि कहो ही मत। झोपड़पट्टी वाले लोगों का, मजदूर लोगों का, बस्तियों का, आदिवासियों का, दलितों का इतना विस्थापन देश में हो रहा है कि सरकार को जमीन चाहिए। सरकार को मतलब कंपनी को जमीन चाहिए। जमीन ना किसान को देना है जो हल चलाता है और ना ही रहने वाले को देना है। किसी को जमीन नहीं देना है। आज कंपनी वालों को जमीन चाहिए मैदान में ही नहीं, जंगल में भी चाहिए। सबसे पहले जंगल मे चाहिए क्योंकि जमीन के साथ प्राकृतिक संसाधन भी होना चाहिए जमीन के साथ खनिज भी होना चाहिए जमीन के साथ नदिया होना चाहिए, जमीन के साथ पहाड़ होना चाहिए। क्योंकि कंपनी वालों को वहां जितने भी प्राकृतिक संसाधन हैं उनको लूट करके ले जाना है। सरकार किसलिए बनी है? उसके एजेंट के रूप में काम करने के लिए बनी है। हम सरकार को पार्टियों को कुछ भी नाम दे कांग्रेस बोल के, बीजेपी बोल के, और अकाली दल बोल के या और बहुत कुछ बोल के जो भी नाम दे हम मगर आज कोई भी राजनीतिक पार्टी नहीं है। सभी पार्टी कंपनी की दलाल बन के रह गई है। एक अडानी का हो सकता है, एक अंबानी का हो सकता है, टाटा का हो सकता है या वेदांता का हो सकता है या सब मिलकर सबका हो सकता है। ऐसी कोई राजनीतिक पार्टी आज नहीं है। इसमें फर्क की कोई बात नहीं है। कुछ दिखावटी है तो कुछ छुपे हुए हैं। मगर जितने भी है सब साम्राज्यवाद के दलाल है हिंदुत्व के दलाल है। ये नहीं समझेंगे तो हम इससे टक्कर भी नहीं ले सकते है। इसपे मेरा कहना है कि अलग से मत सोचिए कि बीजेपी का सरकार में आना, हिंदुत्व आना है। साम्राज्यवाद की सेवा करने वाला हिंदुत्व में राज में आया है यह सोचिए। वो खुद मोदी ने कहा है। मुझे लेकर आप गुजरात में हत्या और जनसंहार दिखा रहे है। पर मैं अच्छे दिन लाऊंगा, मैं आके इस देश का विकास करुंगा। मैं आके मेक इन इंडिया... मेक इन इंडिया कहता है यानी यहां के लोग यहां उत्पादन करें यह नहीं कहता है बल्कि दुनियाभर के जितने भी मल्टीनेशनल कंपनी है आइये यहां अपना पूंजी लगाइए। यहां आपके लिए प्राकृतिक संसाधन है, जमीन है, जो भी चाहिए सब दे देंगे पूरा इंफ्रास्ट्रक्चर देंगे। यहां आइए यह बोलने के लिए पूरी दुनिया भर में घूम रहा है। उसमे बात क्या है कि जो मनमोहन सिंह कल तक नहीं कर सका। वह (अमेरिका) बोल भी रहा है और वहां की पत्रिका में लिखा है 2004 से लेकर 2014 तक मनमोहन सिंह को एक प्रोग्राम दिया गया था अमेरिका ने, साम्राज्यवाद ने दिया था। उस प्रोग्राम को जितना जोर से लागू करना था उतना जोर से वो लागू नहीं कर सका। इसलिए मोदी को लाया है। अगर मोदी उतने जोर से नहीं कर सके तो मोदी को भी हटाएंगे। जैसा 2004 में हमने देखा हैं 6 महीना भी नहीं हुआ कि मोदी को कारपोरेट मीडिया ने बहुत प्रमोट किया। दिल्ली में 3 महीने भी नहीं हुआ कि केजरीवाल को प्रमोट किया गया। यानी यहाँ जो भी शासक हैं साम्राज्यवाद के हाथों में खिलौना बन गया है। इसमें हम देश भक्त लोगों को सोचने की बात है। क्योंकि जितने भी शासन में जो लोग आए हैं उसमें कोई देशभक्त नहीं है। देशभक्ति का नारा तो खास कर सबसे ज्यादा संघ परिवार के लोग देते हैं। अगर यह लोग देशभक्त हैं तो क्यों इस देश को बेच रहे हैं? इंटरनेशनल मार्केट में क्यों बेच रहे हैं? बाहर के जितने भी मल्टीनेशनल नेशनल कंपनी हैं, बड़ी कंपनी है इनको बेचने के लिए क्यों उसका आमंत्रण दे रहा है? क्यों यहां FDI ला रहा है? क्यों सेना में निजीकरण की बात कर रहा है? क्यों रेलवे को निजीकरण करने की बात कर रहा है? पूरे जमीन को बेचने लिए भूमिअधिग्रहण कानून ला रहा है। देश को बेचने वाले आदिवासी लोग है या देश को बेचने वाले आज जो शासन में बैठे हैं वे लोग है? ये सोचना है। इसलिए तो आज फासीवाद के विरोध में जैसा 1930 में सभी लोकतांत्रिक ताकतें इकट्ठा हुई थी आज वैसे ही एक अवसर है एक मौका है। देशभक्त, लोकतांत्रिक, हिंन्दुत्व विरोधी, क्रांतिकारी, धर्मनिरपेक्ष इन सबको इकट्ठा होकर इसके विरोध लड़ना है। ऐसी बात नहीं है कि हमारे पास दिशा नहीं है।

कुछ लोग दिशा की बात को अब तक पार्लियामेंट के ढांचे में देखते है तो उनको नहीं दिखता है। इसलिए मैंने पहले ही कहां कि इसके बाहर देखिये। क्योंकि आपके पंजाब में भी नक्सलबड़ी का लहर आया था। कवि लोग, कलाकार अवतार सिंह पास, लाल सिंह दिल जैसे कवि आये थे। कृतिपाल रंधावा जैसा छात्र नेता आया था। वैसे बुद्धिजीवी लोग उसमे शामिल हुए थे। पंजाब में जो नक्सलवादी आंदोलन इमरजेंसी के समय मे प्रवेश किया है। आंध्र, पंजाब, और अन्य समेत में जो इतना बड़ा नक्सलबाड़ी का लहर आया था। वो लहर आज भी पूरे देश चालू है। वैसे आज देखा जाए तो कोई ऐसी पार्लियामेंट्री पार्टी नहीं है देश के जितने राज्यो में माओवादी पार्टी है। छत्तीसगढ़ में, उड़ीसा में है, झारखंड में, तेलंगाना में है, आंध्रा में, तमिलनाडु, केरला, कर्नाटक, पंजाब यानी खुद मनमोहन सिंह ने कहा है कि 12 राज्यों में, यह तो सबसे बड़ा आंतरिक खतरा है। माओवादी पार्टी का नाम लेकर मनमोहन सिंह ने खुद कहां है। आज जो सरकार में आया है वह भी ऐसा ही कह रहा है। इसलिए तो 3,00,000 सेना को छत्तीसगढ़ में भेजा है। इसीलिए यूएपीए लागू कर रहा है। ऐसा नहीं है कि बहुत मजबूत सत्ता में आया है। ऐसा होता तो फिर कश्मीर में सेना क्यों रहती है? नागालैंड में क्यों रहती है? देश में इतना बड़ा हिस्सा सेना के शासन में हैं। देश में पूरब और मध्य भारत के पूरे जितने भी जंगल, आदिवासी है वहां जो शासन चल रहा है पैरा मिलिट्री फोर्सेज का शासन चल रहा है। कहाँ है डेमोक्रेसी? कहां रूल ऑफ़ लॉ है? आज यूएपीए है एक समय में टाडा था। तो ऐसी स्थिति में इसके विरोध में जो क्रांतिकारी संघर्ष चल रहा है और क्रांतिकारी संघर्ष चलाते हुए 6 साल से वैकल्पिक विकास नीति लेके जो जनताना सरकार चला रहे है। इसलिए तो हम 2006 में जो रिवोल्यूशनरी डेमोक्रेटिक फ्रंट बनाये है। हमारा कार्यक्रम ये है कि आप जो डेमोक्रेसी समझते हैं, जो पार्लियामेंट्री डेमोक्रेसी समझते हैं, वो बुर्जुआ (पूंजीवादी) डेमोक्रेसी नहीं होता है। वो साम्राज्यवाद और सामंतवाद की एक तानाशाही होती है। उसके विरोध में जनता का क्रांति से एक जनतंत्र बन रहा है, नीचे से बन रहा है, जमीनी स्तर से बन रहा है। आदिवासी, दलित लोग बना रहे है। किसान मजदूर लोग बना रहे हैं। महिलाएं बना रही हैं। अल्पसंख्यक बना रहा है। ये क्रांति से ही जनतंत्र बनेगा। ये प्रचार करने के लिए हम रिवोल्यूशनरी डेमोक्रेटिक फ्रंट बनाए हैं। आंध्रा में तो उसका सम्मेलन होते ही उसको प्रतिबंधित कर दिया गया। मैं उसका राष्ट्रीय अध्यक्ष हूं। हमारे उपाध्यक्ष को मार डाला गया है। गंटी प्रसादम जो 30 साल क्रांति में काम किया था, फिर उपाध्यक्ष बना था। वेल्लूर में रात को उसको मार डाले है। और जनरल सेक्रेटरी साईं बाबा को जो 90% विकलांग हैं। दिल्ली यूनिवर्सिटी में पढ़ाने वाले हैं। बुद्धिजीवी है, पूरे देश विदेश में घूमा है। रिवोल्यूशनरी डेमोक्रेसी के बारे में बात करते हुए, या लोकतांत्रिक अधिकारों के लिए लड़ते हुए, दिल्ली यूनिवर्सिटी में दलितों के आरक्षण के लिए लड़ते हुए, जितने भी 20 साल से लोकतांत्रिक आंदोलन जहां चल रहा है उसमें वो शामिल रहा है। उस साईं बाबा को एक साल से नागपुर में अंडा सेल में रखा है, तनहाई में रखा है। और कहता है कि सबसे खतरनाक बुद्धिजीवी है जो दंडकारण्य में आंदोलन चल रहा है उससे उसका संबंध है। उनको अगर कोर्ट में ले जाते है तो सैकड़ो पुलिस उसके साथ जाते है। पैरामिलिट्री फोर्सेस उनके साथ जाते हैं उनके सामने लैंड्स माईन लेकर चलते है। उसको ऐसे बताना चाहते हैं कि कोई खतरनाक आतंकवादी है। पूरा मुस्लिम इस देश का आतंकवादी है। पूरे आदिवासी लोग यहां माओवादी है। सरकार मध्यमवर्ग की ये जो चेतना बनाने के लिए कोशिश कर रही है। और हम चुनाव के खिलाफ में जो पर्चे बांटे हैं तो उसमें उत्तराखंड में जो हमारा सदस्य है जीवन चंद्र उसको गिरफ्तार किया गया है। केरल में RDF द्वारा प्रो. जगमोहन को, प्रोसेसर अमित भट्टाचार्य, प्रो. हरगोपाल को बुलाकर एक सेमिनार करने पर वहां के एक साथी पर देशद्रोह का मुकदमा लगा दिया गया। फिर भी इतना झेलते हुए भी हमें ये कहना है कि दोस्तों साथियों अगर आप एक वास्तविक लोकतंत्र में जीना चाहते हैं किसान मजदूर के लिए, अल्पसंख्यक के लिए, मेहनतकश लोगों के लिए एक अच्छे समाज का एक सपना देखना चाहते हैं तो क्रांति से ही होने वाला है। सिर्फ क्रांति ही साम्राज्यवाद का, ब्राम्हणीय सामंतवाद का, हिंदुत्व का विरोध करने वाला है।

 इसलिए आज जो पार्लियामेंट में बैठे हैं, शासन में बैठे हैं। तो मोदी को देखकर डरने की कोई बात नहीं है। मोदी तो एक विशेष अभिव्यक्ति है। इतने साल से जो गुजर रहा है उसका विरोध करने में.. क्योंकि वैसे तो मुट्ठी भर का शासन हैं हम तो एक सौ बीस करोड़ जनता है, मेहनतकश जनता है। काम करने के लिए है यह हाथ और यह हाथ हथियार लेने के लिए भी है। तो ऐसे संसदीय फ्रेमवर्क से जो बाहर चल रहा है इसके बारे में सोचिए। दंडकारण्य में जो हो रहा है वहां आकर खुद देखिए। वैसे वहां जाकर लिखे है अरुंधति राय जैसे लोग है, बीडी शर्मा खुद जो गांधीवादी है। बस्तर में जो आदिवासी संघर्ष कर रहे हैं जीवन भर उसके समर्थन में रहे क्योंकि वो खुद बस्तर का कलेक्टर रहा है। बस्तर के कलेक्टर से लेकर जो आज लोकतांत्रिक अधिकारों के लिए काम करने वाले है वह समझ रहे है कि बस्तर के आदिवासियों का जो संघर्ष है वह एक न्यायपूर्ण संघर्ष है। प्रोफ़ेसर जगमोहन हैं वहां जो हो रहा है उसका समर्थन दे रहा है। ऐसा नहीं है कि सब माओवादी लोग हैं। तो सोचिए यहां की मीडिया के लोग भी हो सकते हैं, बुद्धिजीवी लोग हो सकते हैं। अपना अपना विचार होते हुए भी आज समझने की बात यह है कि न्याय और अन्याय के बीच में एक संघर्ष चल रहा है। इस संघर्ष में एक पक्ष लेने का समय है। जैसा फासीवाद के विरोध में 1930 में एक पक्ष लेने का समय आया था, बुद्धिजीवियों के लिए आया था। जैसा गोर्की ने लिखा है कि बुद्धिजीवी लोग आप किसके साथ है? इसलिए तो सब बुद्धिजीवी लोग, सभी कवि कलाकार लोग उसके पक्ष में आए हैं। आज भी ऐसा समय आया है। आप देखिए जब एक ओबामा अमेरिकन प्रेसिडेंट बना तो मीडिया ने लिखा कि पहली बार श्वेत अमेरिका में एक आधा अश्वेत आधा मुस्लिम अध्यक्ष बना है। इससे क्या होना है? सबसे बड़े लोकतंत्र कहे जाने वाले देश मे खुद मोदी कह रहा है और उसका समर्थन करने वाले भी कह रहे हैं कि चाय बेचने वाला, बैकवर्ड कास्ट से आने वाला है। चूँकि यहां ब्राह्मण के शासन थे। जवाहरलाल नेहरू हो, इंदिरा गांधी हो और बहुत सारे जितने भी थे ब्राह्मण प्रधानमंत्री थे इसलिए पहली बार चाय बेचने वाला, पिछड़ी जाति का प्रधानमंत्री आया है। यानी अपनी उंगली अपनी आंख पे रखो। काला मुस्लिम होते हुए भी ओबामा के शासन में अमेरिका में हथियारों का व्यापार जितना हुआ उतना किसी प्रेसिडेंट के समय में नहीं हुआ था। हथियारों का प्रोडक्शन हो रहा है, बेच रहा है, युद्ध करा रहा है, यमन के ऊपर सऊदी अरेबिया के ऊपर हथियारों का इस्तेमाल करता है। अमेरिका का काम यही है अमेरिका का अस्तित्व यही है कि हथियारों को बेचो युद्ध छेड़ो और धनी बन जाओ। आज हमारे देश में भी यही चल रहा है। तो हमारी उंगली को हमारे ही आंखों में रखने की कोशिश जो पार्लियामेंट्री सिस्टम में हो रहा है उसके विरोध में एक विश्व दर्शन लेकर क्रांति बनाने की एक दिशा चल रही है। उस दिशा की तरफ देखिए सोचिए और आलोचना कीजिए। ये कहने के लिए मुझे आपने जो मौका दिया है, खासकर रिवोल्यूशनरी डेमोक्रेटिक फ्रंट की तरफ से आभार व्यक्त करते हुए लाल सलाम!

बुकलेट : ब्राह्मणवादी हिंदुत्व फासीवाद को समझने के लिए..........

बेमक़सद मर जाना नहीं

( पंजाब में वरवर राव का भाषण )

लिप्यान्तरण : जितेंद्र

सहयोग राशि: 5 रूपये

छात्र मशालअखबार

 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।