तकनीक व विज्ञानदुनियादेशसमाचारस्वास्थ्य

कैंसर की आशंका को कम कर सकता है फिटनेस में सुधार

Health News

Improving fitness can help you cut cancer risk

नई दिल्ली, 6 मई। फिटनेस का सकारात्मक प्रभाव हमारे दिल पर पड़ता है, इस बारे में हम सभी जानते हैं। एक नए अध्ययन से इस बात का पता चलता है कि जिनमें फिटनेस कम होता है उनकी तुलना में जिन वयस्कों में फिटनेस की मात्रा अधिक होती है उनमें फेफड़े व कोलोरेक्टल कैंसर या कोलन कैंसर या वृहदांत्र कैंसर के होने की संभावना बहुत कम हो जाती है।

Does regular exercise reduce cancer risk?

इस शोध के लिए शोधकर्ताओं ने 49,143 वयस्कों पर साल 1991 से 2009 तक एक्सरसाइज स्ट्रेस टेस्टिंग किया।

शोध के निष्कर्ष से पता चला कि उच्चतम फिटनेस की श्रेणी में आने वाले लोगों में फेफड़े के कैंसर के विकास की संभावना 77 प्रतिशत और कोलन कैंसर के विकास की संभावना 61 प्रतिशत कम हो गई।

Cancer, Physical Activity, and Exercise.

कैंसर नामक जर्नल में इस शोध को प्रकाशित किया गया है। इसमें दर्शाया गया है कि फेफड़े के कैंसर से ग्रस्त व्यक्तियों में से जिनमें फिटनेस की मात्रा उच्चतम थी, जांच के दौरान उनके मरने की संभावना में 44 प्रतिशत की कमी आई और कोलन कैंसर से पीड़ित व्यक्तियों में अधिक फिटनेस की श्रेणी में आने वाले लोगों में 89 प्रतिशत की कमी आई।

Exercise kills cancer cells ?

अमेरिका में जॉन होपकिन्स विश्वविद्यालय की सहायक प्राध्यापिका डॉ. कैथरीन हैंडी मार्शल (Dr. Catherine Marshall – Assistant Professor in the Department of Oncology at the Johns Hopkins University School of Medicine.) ने कहा,

कैंसर के परिणामों पर फिटनेस के प्रभाव को देखने के लिए हमारा यह शोध सबसे वृहद और विविध समूहों की इकाई में से एक है।”

Exercise and cancer survivorship

मार्शल ने आगे यह भी कहा,

आमतौर पर आजकल डॉक्टरों के पास जाकर लोग फिटनेस टेस्टिंग करवाते हैं। पहले से ही कई लोगों के पास इसके परिणाम हो सकते हैं और उन्हें यह सूचित किया जा चुका है कि फिटनेस का कैंसर की संभावनाओं पर क्या प्रभाव है और इसके साथ ही फिटनेस का स्तर अन्य चीजों जैसे कि दिल की बीमारियों के लिए क्या मायने रखती है।”

कौन हैं कैथरीन हैंडी मार्शल About Dr. Catherine Marshall

डॉ. कैथरीन मार्शल जॉन्स हॉपकिंस यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन में ऑन्कोलॉजी विभाग में एक सहायक प्रोफेसर हैं। नैदानिक विशेषज्ञता (clinical expertise) के उनके क्षेत्रों में आंतरिक चिकित्सा और ऑन्कोलॉजी (internal medicine and oncology) शामिल हैं।

डॉ. हैंडी का शोध कोरोनरी कैल्शियम बिल्डअप और कैंसर, हृदय रोग, गुर्दे की बीमारी और फेफड़ों की बीमारी के बीच संबंधों पर केंद्रित है। उन्होंने अपना एम.डी. और एम.पी.एच. जॉन्स हॉपकिन्स से किया, जहाँ उन्होंने अपना रेसीडेंसी और ऑन्कोलॉजी फेलोशिप भी पूरा किया। उन्होंने पहले ओस्लर मेडिकल हाउसस्टाफ ट्रेनिंग प्रोग्राम के लिए सहायक चीफ ऑफ सर्विस के रूप में काम किया।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: