Breaking News
Home / हस्तक्षेप / आपकी नज़र / स्वप्निल का संसार और उसमें ब्रह्मराक्षस की ताकाझांकी
Jaisa Maine Jeevan dekha स्वप्निल श्रीवास्तव की कविताओं की समीक्षा

स्वप्निल का संसार और उसमें ब्रह्मराक्षस की ताकाझांकी

स्वप्निल को कभी स्वप्न में भी ख़याल नहीं रहा होगा कि खूंखार कवि अनिल जनविजय के रहते मुझ सा नौसिखिया उनकी कविताओं की समीक्षा लिख मारेगा और उसकी धज कुछ ऐसी होगी कि आज 40 साल बाद भी किसी पत्रिका में छपी वो समीक्षा उनके पास सुरक्षित है।

कुछ दिन पहले रंगकर्मी और हिंदी सिनेमा में अपना तम्बू ताने नन्दलाल सिंह और स्वप्निल दोनों ने बरसों बाद के मिलन का जश्न मनाने को मेरा गरीबखाना चुना तो यह किताब मुझे मिली।

शुरुआत कुशीनगर के एक कस्बे रामकोला से..

स्वप्निल के कैशौर्य से शरू होती दुनिया.. क्योंकि यह अपने लिए अजानी थी, इसलिए ब्रह्मराक्षस पीपल के पेड़ पर ही बैठा निहारता रहा.. लेकिन जैसे ही स्वप्निल पिलखुवा होते हुए हापुड़ में घुसे तो वो मेरी दुनिया थी। किताब में हापुड़-दिल्ली के जितने कवियों-लेखकों का ज़िक्र हुआ है, तो ब्रह्मराक्षस पेड़ से उतर आया और इस मेल मुलाकात में शामिल हो गया।

Rajeev mittal राजीव मित्तल, लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं।
राजीव मित्तल, लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं।

स्वप्निल ने जैसा भी जीवन देखा हो.. आखिरी के तीन अध्याय उनके लेखन का चरम है। एक था बरगद में तो जैसे मैं खुद उस वृक्ष की शवयात्रा में शामिल हो जार-जार विलाप कर रहा हूँ.. फणीश्वरनाथ रेणु की बट बाबा के समकक्ष वाला लेखन… उसी तरह पुरू की बगिया का उजड़ना.. जैसे एक और आत्मीय का दुःखद अंत.. फिर गांव की जीवनधारा वो पोखरा, जो भूमाफिया के हाथों मारा जाने से बचता है.. उसके साथ गहरा लगाव इसलिए भी कि इन आँखों के सामने न जाने कितने तालाबों, नहरों, नदियों, कुओं की समाधि बनी।

तो स्वप्निल, इसको पढ़ते हुए उतना ही जुड़ाव महसूस हुआ, जितना तुम्हारी उस कविता से हुआ था..और हाँ न उस पर समीक्षा के फॉर्मेट में लिखा था न इसको किसी विधा में बांध रहा हूँ..क्योंकि वैसा लेखन नहीं जानता।

राजीव मित्तल

About हस्तक्षेप

Check Also

Ram Puniyani राम पुनियानी, लेखक आई.आई.टी. मुंबई में पढ़ाते थे और सन् 2007 के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं।)

अनुच्छेद 370 : मोदी सरकार का झूठ बेनकाब

अनुच्छेद 370 : प्रचार बनाम सच Article 370: Propaganda vs truth अनुच्छेद 370 और 35ए हटाने …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: