Breaking News
Home / केरल :  बाढ़ में अब तक 417 मरे, मुख्यमंत्री ने लोगों से मांगा नुकसान का विवरण

केरल :  बाढ़ में अब तक 417 मरे, मुख्यमंत्री ने लोगों से मांगा नुकसान का विवरण

तिरुवनंतपुरम, 24 अगस्त। मुख्यमंत्री पिनारई विजयन ने जानकारी दी है कि केरल में बारिश व बाढ़ की विभीषिका में अब तक 417 लोग जान गंवा चुके हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सैकड़ों लोग राहत शिविरों से घरों को लौट रहे हैं, फिर भी अभी 8.69 लाख लोग 2,787 राहत शिविरों में हैं।

विजयन ने मीडिया से कहा कि 29 मई से मानसून की बारिश शुरू होने से मौतें होनी शुरू हो गईं थीं, लेकिन आठ अगस्त से 265 लोगों के मौत होने की सूचना है, जब मूसलाधार बारिश की वजह से राज्य में भयावह बाढ़ आ गई। केरल में यह सदी की सबसे भयावह बाढ़ है।

विजयन ने कहा कि 36 लोग लापता हैं।

मुख्यमंत्री ने बाढ़ से प्रभावित लोगों से केरल सरकार की वेबसाइट पर अपने नुकसान की जानकारी देने का आग्रह किया है।

<blockquote class="twitter-tweet" data-lang="en"><p lang="en" dir="ltr">Government has decided to distribute kits having essential items to people returning to their homes from relief camps. You can also donate items for these kits through the site:   <a href="https://t.co/ZJrtqpbdHZ">https://t.co/ZJrtqpbdHZ</a></p>&mdash; CMO Kerala (@CMOKerala) <a href="https://twitter.com/CMOKerala/status/1032951513809731585?ref_src=twsrc%5Etfw">August 24, 2018</a></blockquote>

<script async src="https://platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>

बाढ़ की वजह से 7,000 घर पूरी तरह से नष्ट हुए हैं और करीब 50,000 घरों को आंशिक रूप से नुकसान हुआ है।

विजयन की यह टिप्पणी अधिक संख्या में लोगों के राहत शिविरों से वापस जाने व अपना जीवन फिर शुरू करने पर आई है। राज्य में एक समय में कुल 3,000 से ज्यादा राहत शिविर थे।

शनिवार को ओणम त्योहार है लेकिन किसी जश्न के आसार कम ही हैं। सरकार ने आधिकारिक उत्सव को रद्द कर दिया है और 39 करोड़ रुपये की राशि राहत कार्य के लिए दे दी है।

मुख्यमंत्री विजयन ने कहा कि केरल में बाढ़ राहत के कार्य के लिए समाज कल्याण विभाग को 5000 व्हील चेयर की सख्त आवश्यकता है। उन्होंने संभावित एजेंसियों / योगदानकर्ताओं से अनुरोध किया कि वे समाज कल्याण विभाग से संपर्क करें।

<blockquote class="twitter-tweet" data-lang="en"><p lang="en" dir="ltr">Kudumbasree needs 26750 buckets, mugs, mops and brushes each for the relief activities in Pathanamthitta, Alappuzha, Kottayam, Ernakulam, Thrissur and Wayanad districts. <a href="https://twitter.com/hashtag/KeralaFloodRelief?src=hash&amp;ref_src=twsrc%5Etfw">#KeralaFloodRelief</a> <a href="https://t.co/qobSh5J0Qv">https://t.co/qobSh5J0Qv</a></p>&mdash; CMO Kerala (@CMOKerala) <a href="https://twitter.com/CMOKerala/status/1032987934427762688?ref_src=twsrc%5Etfw">August 24, 2018</a></blockquote>

<script async src="https://platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>

<iframe width="246" height="256" src="https://www.youtube.com/embed/VshuvFx42OY" frameborder="0" allow="autoplay; encrypted-media" allowfullscreen></iframe>

केरल :  बाढ़ में अब तक 417 मरे, मुख्यमंत्री ने लोगों से मांगा नुकसान का विवरण

केरल :  बाढ़ में अब तक 417 मरे, मुख्यमंत्री ने लोगों से मांगा नुकसान का विवरण

तिरुवनंतपुरम, 24 अगस्त। मुख्यमंत्री पिनारई विजयन ने जानकारी दी है कि केरल में बारिश व बाढ़ की विभीषिका में अब तक 417 लोग जान गंवा चुके हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सैकड़ों लोग राहत शिविरों से घरों को लौट रहे हैं, फिर भी अभी 8.69 लाख लोग 2,787 राहत शिविरों में हैं।

विजयन ने मीडिया से कहा कि 29 मई से मानसून की बारिश शुरू होने से मौतें होनी शुरू हो गईं थीं, लेकिन आठ अगस्त से 265 लोगों के मौत होने की सूचना है, जब मूसलाधार बारिश की वजह से राज्य में भयावह बाढ़ आ गई। केरल में यह सदी की सबसे भयावह बाढ़ है।

विजयन ने कहा कि 36 लोग लापता हैं।

मुख्यमंत्री ने बाढ़ से प्रभावित लोगों से केरल सरकार की वेबसाइट पर अपने नुकसान की जानकारी देने का आग्रह किया है।

<blockquote class="twitter-tweet" data-lang="en"><p lang="en" dir="ltr">Government has decided to distribute kits having essential items to people returning to their homes from relief camps. You can also donate items for these kits through the site:   <a href="https://t.co/ZJrtqpbdHZ">https://t.co/ZJrtqpbdHZ</a></p>&mdash; CMO Kerala (@CMOKerala) <a href="https://twitter.com/CMOKerala/status/1032951513809731585?ref_src=twsrc%5Etfw">August 24, 2018</a></blockquote>

<script async src="https://platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>

बाढ़ की वजह से 7,000 घर पूरी तरह से नष्ट हुए हैं और करीब 50,000 घरों को आंशिक रूप से नुकसान हुआ है।

विजयन की यह टिप्पणी अधिक संख्या में लोगों के राहत शिविरों से वापस जाने व अपना जीवन फिर शुरू करने पर आई है। राज्य में एक समय में कुल 3,000 से ज्यादा राहत शिविर थे।

शनिवार को ओणम त्योहार है लेकिन किसी जश्न के आसार कम ही हैं। सरकार ने आधिकारिक उत्सव को रद्द कर दिया है और 39 करोड़ रुपये की राशि राहत कार्य के लिए दे दी है।

मुख्यमंत्री विजयन ने कहा कि केरल में बाढ़ राहत के कार्य के लिए समाज कल्याण विभाग को 5000 व्हील चेयर की सख्त आवश्यकता है। उन्होंने संभावित एजेंसियों / योगदानकर्ताओं से अनुरोध किया कि वे समाज कल्याण विभाग से संपर्क करें।

<blockquote class="twitter-tweet" data-lang="en"><p lang="en" dir="ltr">Kudumbasree needs 26750 buckets, mugs, mops and brushes each for the relief activities in Pathanamthitta, Alappuzha, Kottayam, Ernakulam, Thrissur and Wayanad districts. <a href="https://twitter.com/hashtag/KeralaFloodRelief?src=hash&amp;ref_src=twsrc%5Etfw">#KeralaFloodRelief</a> <a href="https://t.co/qobSh5J0Qv">https://t.co/qobSh5J0Qv</a></p>&mdash; CMO Kerala (@CMOKerala) <a href="https://twitter.com/CMOKerala/status/1032987934427762688?ref_src=twsrc%5Etfw">August 24, 2018</a></blockquote>

<script async src="https://platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>

<iframe width="246" height="256" src="https://www.youtube.com/embed/VshuvFx42OY" frameborder="0" allow="autoplay; encrypted-media" allowfullscreen></iframe>

About हस्तक्षेप

Check Also

Comrade AK Roy

नहीं रहे कामरेड एके राय जो झारखंड को लालखंड बनाना चाहते थे और जिनकी सबसे बड़ी ताकत कोलियरी कामगार यूनियन थी

एके राय झारखंड को लालखंड बनाना चाहते थे और उनकी सबसे बड़ी ताकत कोलियरी कामगार यूनियन थी। वे अविवाहित थे और सांसद होने के बावजूद एक होल टाइमर की तरह पुराना बाजार में यूनियन के दफ्तर में रहते थे।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: