शब्द > पुस्तक समीक्षा
जाति माथे पर नहीं लिखी होती पर जब लिखी जाती है तो माथे पर ही लिखी जाती है।
जाति माथे पर नहीं लिखी होती पर जब लिखी जाती है तो माथे पर ही लिखी जाती है।

जाति माथे पर नहीं लिखी होती पर जब लिखी जाती है तो माथे पर ही लिखी जाती है। सदियों से लिखी है, पढ़ने वाले पढ़ते हैं और तय करते हैं कि नाक भौंह सिं...

हस्तक्षेप डेस्क
2017-03-15 16:48:43
जी मायावती ने नहीं अडवानी ने ईवीएम से मतदान बंद कराने की मांग की थी
यहां से देखो इस्लाम और मुसलमान विरोधी घृणा
यहां से देखो इस्लाम और मुसलमान विरोधी घृणा

इस्राइल का धार्मिक तत्ववाद ज्यादा कट्टर और हिंसक है। मध्य-पूर्व का संकट इस्राइल और अमरीका की देन है।अमरीका के विरोध के राजनीतिक कारण हैं न कि धार...

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2017-01-31 12:03:01
बक्सादुआर के बाघ-1
बक्सादुआर के बाघ-1

पलाश विश्वास
2017-01-23 12:18:46