शब्द > पुस्तक समीक्षा
दंगे होते नहीं करवाये जाते हैं  कंधमाल का सच और न्याय प्रक्रिया की हताशा
दंगे होते नहीं करवाये जाते हैं : कंधमाल का सच और न्याय प्रक्रिया की हताशा

न्याय प्रक्रिया गरीब के साथ में दिखाई नहीं देती और अदालतों में वकीलों के चक्कर काटना उनके लिए उत्पीड़न की एक नयी श्रंखला है, जिससे बच पाना बहुत म...

Vidya Bhushan Rawat
2017-03-31 13:14:42
जाति माथे पर नहीं लिखी होती पर जब लिखी जाती है तो माथे पर ही लिखी जाती है।
जाति माथे पर नहीं लिखी होती पर जब लिखी जाती है तो माथे पर ही लिखी जाती है।

जाति माथे पर नहीं लिखी होती पर जब लिखी जाती है तो माथे पर ही लिखी जाती है। सदियों से लिखी है, पढ़ने वाले पढ़ते हैं और तय करते हैं कि नाक भौंह सिं...

हस्तक्षेप डेस्क
2017-03-15 16:48:43
जी मायावती ने नहीं अडवानी ने ईवीएम से मतदान बंद कराने की मांग की थी
क्या महिलाओं को शांति से जीने का अधिकार नहीं