Home / हस्तक्षेप / आपकी नज़र / अभिजात्य निर्ममता से ग्रस्त हैं मोदी ! ‘चमकी’ से मर रहे बच्चों के लिए नरेंद्र मोदी की कोई संवेदना अभी तक नहीं
Modi go back

अभिजात्य निर्ममता से ग्रस्त हैं मोदी ! ‘चमकी’ से मर रहे बच्चों के लिए नरेंद्र मोदी की कोई संवेदना अभी तक नहीं

अभिजात्य निर्ममता से ग्रस्त हैं मोदी ! (Modi is suffering from arbitrary ruthlessness!) ‘चमकी’ से मर रहे बिहारी बच्चों के लिए नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) की कोई संवेदना अभी तक सामने नहीं आई है। उनके बीते कार्यकाल में छत्तीसगढ़ में ऑपरेशन गलत होने से मरी महिलाओं के प्रति भी वे उदासीन थे। पंजाब में आँखों के ऑपरेशन से अंधे हुए लोग (People blinded by eye operation in Punjab) भी उन्होंने अनदेखे किये। देश के तमाम हिस्सों में शेल्टर होम्स में अनाथ लड़कियों के बलात्कारों और हत्याओं पर भी वे मौन ही रहे।

ऐसे अनगिनत उदहारण दिए जा सकते हैं जब नरेंद्र मोदी ने बतौर पीएम आम लोगों के मरने खपने की उपेक्षा की। किन्तु वे सेलेब्रिटीज के मामले में तत्काल प्रतिक्रिया व्यक्त करते हैं। श्रीदेवी की मौत (Sridevi’s death) हो या प्रियंका चोपड़ा की शादी (Priyanka Chopra’s wedding), मोदी जी अपने कथित व्यस्त समय में से प्रतिक्रिया के लिए वक्त निकाल लेते हैं।

Madhuvan Dutt Chaturvedi मधुवन दत्त चतुर्वेदी लेखक वरिष्ठ अधिवक्ता हैं।
मधुवन दत्त चतुर्वेदी
लेखक वरिष्ठ अधिवक्ता हैं।

खिलाड़ियों, अभिनेताओं, विदेशी नेताओं और बड़े पूंजीपतियों की खुशियों और गम में वे तत्काल शामिल होते हैं। खुद उनके पहनावे-ओढ़ावे चाल-ढाल एवं तौर-तरीकों से अभिजात्य प्रेम फूटा पड़ता है। यही वह तत्व है जो आम नागरिकों के दुखों के प्रति मोदी की निर्ममता का स्रोत है। यह उनके व्यक्तित्व की जबरदस्त कुंठा की अभिव्यक्ति है जिसका नुकसान देश बहुत देर से समझेगा।

मधुवन दत्त चतुर्वेदी

(लेखक वरिष्ठ अधिवक्ता हैं।)

About हस्तक्षेप

Check Also

23 जून 1962 को डॉ लोहिया का नैनीताल में भाषण, Speech of Dr. Lohia Nainital on 23 June 1962

समाजवाद ही कर सकता है हर समस्या का समाधान

फासीवादी ताकतें भाजपा के नेतृत्व में पूरी तरह अपनी पकड़ मजबूत करता जा रही हैं। संवैधानिक संस्थाओं पर हमले हो रहे हैं। जनतंत्र और आजादी खतरे में हैं। ऐसे में विपक्ष का खाली होता हुआ स्थान सिर्फ समाजवादी नीतियों से ही भारा जा सकता है और यह तब संभव होगा जब हम कार्यकर्ताओं में मजबूत निष्ठा, विचार और संकल्प भर सकेंगे।

One comment

  1. ACTOR SE MANVIYA FEELINGS UMMID KAISE KI JA SAKTI HEY…..AUR YE TO SUPER ACTOR HEY!

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: