Breaking News
Home / समाचार / देश / मोदी के पकौड़े के बाद योगी पुलिस की नई योजना मुखबिर रोजगार योजना
Rihai Manch, रिहाई मंच,
File Photo

मोदी के पकौड़े के बाद योगी पुलिस की नई योजना मुखबिर रोजगार योजना

मोदी
के पकौड़े के बाद योगी पुलिस की मुखबिर रोजगार योजना बेरोजगारों के साथ भद्दा मजाक-
रिहाई मंच

लखनऊ 08 जुलाई 2019। रिहाई मंच (Rihai Manch Resistance Against Repression) ने योगी पुलिस द्वारा मुखबिर रोजगार योजना को मोदी सरकार की पकौड़ा योजना की कड़ी बताते हुए बेरोजगारों का मजाक उड़ाना बताया। सड़क छाप फर्जी विज्ञापनों की की तरह बलरामपुर पुलिस द्वारा जारी विज्ञापन घर बैठे हजारों रुपए कमाएं पर योगी सरकार को बताना चाहिए कि क्या यह भाजपा सरकार की कोई रोजगार योजना है। 

जन
मंच संयोजक पूर्व आईजी एसआर दारापुरी ने मुखबिरी को रोजगार की संज्ञा देने को
हास्यास्पद कहते हुए रोजगार की संज्ञा देने को गलत ठहराया। ये योगी की पुलिस की
ईजाद है। इसका कोई प्रावधान नहीं है। मुखबिर भर्ती करना, इसे रोजगार देना कहना गैर कानूनी है। अक्सरहां
मुखबिर को गलत काम करने तक की छूट दी जाती है। दरअसल यह अपराधियों और पुलिस के
गठजोड़ को समाज में कानूनी स्वरुप देने की कोशिश है। नागरिक के खिलाफ नागरिक को खड़ा
करना गलत है। सलवा जुडुम मामले में सुप्रीम कोर्ट भी यह कह चुका है।

रिहाई
मंच अध्यक्ष मुहम्मद शुऐब ने कहा कि पुलिस को रोजगार देने का कोई अधिकार नहीं है।
कानून में मुखबिर की हैसियत सिर्फ अपराध के संबन्ध में पुलिस को सूचना देना है
जिसका नाम पुलिस द्वारा किसी भी स्तर पर सार्वजनिक नहीं किया जाता। लेकिन पुलिस
अधीक्षक बलरामपुर द्वारा मुखबिर रोजगार योजना चलाकर इसे सार्वजनिक करते हुए इसे
रोजगार कहा जा रहा है। सरकार की धनराशि को पानी की तरह बहाए जाने की यह योजना
नौजवानों को अपराध के लिए प्रेरित करेगी। इस योजना के तहत नौजवानों में अनुचित रूप
से धन कमाने की होड़ लगेगी और नौजवान अपने विरोधियों को झूठे मुकदमे में फंसाने के
लिए पुलिस को फर्जी सूचनाएं मुहैया कराएगा। इस प्रकार समाज में पारस्परिक
वैमनस्यता बढ़ेगी और नौजवानों का अपराधीकरण होगा।

उन्होंने कहा कि अब तक केवल पुलिस कर्मचारी तथा अधिकारी तरक्की पाने के लिए फर्जी मुकदमें कायम करते थे, बेगुनाहों को फंसाते और फर्जी मुठभेड़ दिखाकर बेगुनााहों का अंग-भंग और उनकी हत्या करते थे और अब बेकार नौजवान धन प्राप्त करने के लालच में फर्जी सूचनाएं देगा।



About हस्तक्षेप

Check Also

bru tribe issue Our citizens are refugees in our own country.jpg

कश्मीरी पंडितों के लिए टिसुआ बहाने वालों, शरणार्थी बने 40 हजार वैष्णव हिन्दू परिवारों की सुध कौन लेगा ?

इंदौर के 70 लोगों ने मिजोरम जाकर जाने 40 हजार शरणार्थियों के हाल – अपने …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: