मानसिक तनाव को दूर करता है धूप और साफ हवा का सेवन – डॉ. अबरार मुल्तानी

Sunshine and clear air relieves mental stress – Dr. Abrar Multani ऑक्सीज़न से अच्छा इस दुनिया में कोई टॉनिक नहीं है। इसके लिए जरूरी है कि हम अपने शरीर को गहरी साँस लेना सिखाएं – डॉ. अबरार मुल्तानी – डिप्रेशन और तनाव के समय अगर आपके पास धूप है तो जीत आपकी ही होगी। सुबह …
मानसिक तनाव को दूर करता है धूप और साफ हवा का सेवन – डॉ. अबरार मुल्तानी

Sunshine and clear air relieves mental stress – Dr. Abrar Multani

ऑक्सीज़न से अच्छा इस दुनिया में कोई टॉनिक नहीं है। इसके लिए जरूरी है कि हम अपने शरीर को गहरी साँस लेना सिखाएं – डॉ. अबरार मुल्तानी

–  डिप्रेशन और तनाव के समय अगर आपके पास धूप है तो जीत आपकी ही होगी। सुबह के समय आधे घंटे धूप में बैठना रामबाण इलाज है।

पुष्पेश पंत का स्वाद-सुख कार्यक्रम घर बैठे लोगों को कर रहा खाना बनाने में पारंगत

कोविड 19 के दुनिया पर छाए इस अंधेरे के बीच लेखक, कलाकार, गीतकार, संगीतकार रोज़ अपनी छोटी-छोटी कोशिशों से उजाले की बात करते हैं, लोगों को सोचने और समझने का नया सिरा दे रहे हैं। राजकमल प्रकाशन के साहित्यिक लाइव कार्यक्रमों के जरिए एक-दूसरे से जुड़कर लेखक और साहित्यप्रेमी किताबों की बातें करते हैं, खाने के नए-नए नुस्ख़े साझा कर रहे हैं तो तनाव को दूर करने के टिप्स (Tips to relieve stress) दे रहे हैं। जब इस दौर का इतिहास लिखा जाएगा तो इस समय को मानवता के सर्वोत्तम प्रयास की तरह देखा जाएगा।

#StayAtHomeWithRajkamal के तहत फ़ेसबुक लाइव के जरिए आज बातें हुई तनाव को दूर करने की तो मुलाक़ात हुई सर पर ताज लेकर घूमने वाले बैंगन के राजा से। वहीं साहित्यकारों की संगत में लोगों ने सुने किस्से और कविताएं।

राजकमल प्रकाशन की सीनियर पब्लिसिस्ट सुमन परमार ने बताया कि  राजकमल प्रकाशन लगातार यह कोशिश कर रहा है कि घर बैठे लोग किताबों से जुड़े रहें। ब्लॉग और साहित्यिक वेबसाइट पर किताबों से अंश उपलब्ध कराने के साथ ज्याद से ज्यादा किताबों के ई-बुक संस्करण उपलब्ध करवाने के लिए राजकमल प्रकाशन प्रतिबद्ध है।

राजकमल प्रकाशन से प्रकाशित अशोक कुमार पाण्डेय का उपन्यास ‘कश्मीर और कश्मीरी पंडित’ और चंदन पाण्डेय का उपन्यास ‘वैधानिक गल्प’ अब ई-बुक में भी उपलब्ध है।

वहीं आईएएस की तैयारी करने वाले पाठकों के लिए निशांत जैन व गंगा सिंह के सम्पादन में आया निबंध संग्रह भी अब ई-बुक के रूप में उपलब्ध है।

लॉकडाउन में बैंगन के दो टुकड़े के साथ पाइए देश के कोने-कोने का स्वाद

बात बहुत पुरानी है। एक बार अकबर ने बीरबल से कहा कि, “कल हमने बैंगन की सब्ज़ी खाई और हमें बहुत अच्छी लगी। बीरबल ने बादशाह से कहा, “बादशाह, तभी तो उसके सिर पर ताज रखा जाता है।“ लेकिन, उसी रात अक़बर के पेट में दर्द हुआ। दूसरे दिन उसने बीरबल से कहा, “बैंगन तो बड़ा नामुराद निकला, उसे खाकर मेरे पेट में दर्द होने लगा।“

बीरबल ने कहा, “महाराज, तभी तो इसे बैगुल नाम दिया गया है। थाली में लुढ़कता जो रहता हैं।“

पुष्पेश पंत के साथ आज के स्वाद-सुख कार्यक्रम में ख़ास था – बैंगन।

लॉकडाउन का दूसरा पक्ष यह भी है कि घर पर रहकर अपनी जरूरतों को अपने आप पूरा करना। अगर आप परिवार के साथ हैं तो यह जिम्मेदारी और ख़ास हो जाती है कि कैसे कम चीज़ों से स्वाद और भूख दोनों को निभाया जा सके। ‘स्वाद-सुख’ का लक्ष्य यही है, ऐसे व्यंजनों को सामने लेकर आना जिसे आसानी से रसोई में मिलने वाले मसालों और सब्ज़ियों से बनाया जा सके।

पुष्पेश पंत का कहना है,

“समय की पाबंदी का ख्याल मैं डिजिटल मीडियम में भी रखता हूँ। ठीक ग्यारह बजे मैं लाइव कार्यक्रम में उपस्थित हो जाता हूँ। यह मेरे लिए दोस्तों को याद करने, उनके साथ खाए तरह-तरह के व्यंजन को याद करने का बहाना भी है। दूसरा, जब हम घर में बैठे हैं कहीं आ जा नहीं सकते। ऐसे में क्यों न खाने के जरिए उन प्रांतों की सैर की जाए जहाँ हम जाना चाहते हैं या जहाँ का खाना हमें पंसद है।“

बैंगन बहुत ही मददगार और बहुमुखी सब्ज़ी है। सस्ता और बिना नख़रे वाला। पुष्पेश पंत के साथ आज बैंगन की यात्रा शुरू हुई पहाड़ी भरते से। वहाँ से आगे चले तो पहुंचे पंजाबी भरते के पास।

स्वाद के पारखी पुष्पेश पंत का कहना है,

“पंजाबी भरते का मुकाबला पहाड़ी भरता नहीं कर सकता। पंजाबी भरते में प्याज़, टमाटर, लहसून, मिर्च, हल्दी मिलाई जाती है और इसे ख़ूब भून कर पकाया जाता है।“

भारत में बैंगन के तरह-तरह के व्यंजन खाने को मिलते हैं। बिहार, पूर्वांचल, छत्तीसगढ़ में भरते से मिलता जुलता व्यंजन हैं -चोखा। लेकिन, भरता और चोखा में पकाने और खाने का अंतर बहुत स्पष्ट है। असम पहुंचकर इस भरते में तिल के बीज मिल जाते हैं और तैयार हो जाता है एक नया व्यंजन। गर्मियों में उड़ीसा में ‘दही बैंगन’ बहुत चाव से बनाया और पसंद किया जाता है।

वहीं, बनारस में इसे सादा तरीके से नमक लगाकर, सरसों के तेल में पकाया जाता है तो, कहीं कलौंजी और अचारी बैंगन खाने को मिल जाते हैं। सादा बैंगन कुछ-कुछ बंगाल के बैंगन भाजा की तरह होता है।

स्वाद-सुख में पुष्पेश पंत ने बैंगन से बनने वाले व्यंजनों पर बात करते हुए बताया कि भरवा बैंगन कई तरह के होते हैं। मसाले और गुड़ के मिश्रण से तैयार किया गया भरवां बैंगन खाने में खट्टा-मीठा होता है। इसमें बहुत तरह की सामाग्री मिलाई जाती है। तमिलनाडु में इसे ‘कचरीकई कुचाम्बु’ के नाम से बनाते हैं जिसका स्वाद आम बैंगन की सब्जियों से भिन्न होता है। आंध्र प्रदेश में इसी सब्ज़ी में मूंगफली भी मिला दी जाती है। वहीं हैदराबाद के बघार के बैंगन में मूंगफली और साभंर मसाले का भी पुट होता है। ये बिरयानी की टक्कर वाले होते हैं।

बात इतनी है कि अगर घर में सिर्फ़ गुड़ और ईमली है तो भी खट्टा-मीठा बैंगन बना सकते हैं। यदि ये दोनों नहीं हैं, तो नींबू और खटाई मिलाकर ही खट्टा-मिट्ठा बैंगन तैयार किया जा सकता है। यदि बैंगन भी कम है तो तरी वाले बैंगन बनाए जा सकते हैं।

लॉकडाउन से पहले फेज में शुरू हुए स्वाद-सुख के इस कार्यक्रम के 22 लाइव हो चुके है। सब्ज़ियों के बाद आगे बात होगी मसालों की और देश के कुछ ख़ास इलाकों के भोजन की। इस कार्यक्रम को लेकर पुष्पेश पंत की आगामी योजना है कि इसे वीडियों से बाहर थोड़ा और विस्तार देकर ‘व्यंजनों के एटलस’ के रूप में तैयार किया जाए।

पुष्पेश पंत के ‘स्वाद-सुख’ कार्यक्रम से एक बात तय है कि आने वाले उजले दिनों में खाने के मामले में हम ज्यादा आत्मनिर्भर हो जाएंगें।

मानसिक तनाव को दूर करने के लिए जरूरी है ‘5 पिल्स डिप्रेशन-स्ट्रेस से मुक्ति के लिए’

लॉकडाउन से पहले भी परेशानियां थी। घर पर रहकर उन परेशानियों के साथ महामारी की चिंताएं मिल गईं हैं। पोस्ट लॉकडाउन के बाद क्या होगा इसकी चिंता भी लगातार लोगों को परेशान कर रही है। ऐसे में इन तनावों को कैसे दूर करें, इस विषय पर बहुत रोचक जानकारी साझा कि लेखक एवं चिकित्सक डॉ. अबरार मुल्तानी ने।

राजकमल प्रकाशन के फ़ेसबुक पेज से लाइव के जरिए लोगों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि, “मानसिक तनाव को दूर करने के लिए सबसे जरूरी है तनाव को समझना और उसे सही तरीके से दूर करना। यह तनाव से लड़ने की सबसे पहली गोली है। दूसरी गोली है- हमारा रोज़ का रूटीन। छोटी-छोटी बातें हमारे जीवन में बहुत असर करती हैं। इसलिए जरूरी है सही तरीके से साँस लेना। उसके बाद जरूरी है सही भोजन। इसकी कमी, दिल और दिमाग दोनों पर असर करती है। हम चिड़चिड़े और अनियंत्रित होते जाते हैं। अगर, सही मात्रा में शरीर को ऑक्सीज़न मिलेगा तो शरीर के सभी अंग सही तरीके से काम करने लगेंगे।“

उन्होंने कहा, “ऑक्सीज़न से अच्छा इस दुनिया में कोई टॉनिक नहीं है। इसके लिए जरूरी है कि हम अपने शरीर को गहरी साँस लेना सिखाएं।“

बहुत सारी साकारात्मक बातचीत साझा करते हुए अबरार मुल्तानी ने कहा कि यह तनाव का स्वर्णकाल है। क्योंकि घर में रहकर ये हमें धूप से जोड़ रहा है। साफ हवा से जोड़ रहा है। धूप से अच्छा सकारात्मक कुछ नहीं। धूप हमारे अंदर बीमारियों से लड़ने की क्षमता को बढ़ाती है साथ ही शरीर में पॉज़िटीविटी का संचार करती है।

उन्होंने कहा, “धूप जीवन है, अमृत है, एक अनमोल औषधि है। डिप्रेशन और तनाव के समय अगर आपके पास धूप है तो जीत आपकी ही होगी। सुबह के समय आधे घंटे धूप में बैठना रामबाण इलाज है।“

पोस्ट लॉकडाउन से सकारात्मक सोच से ही हम बाहर निकल सकते हैं। तनाव मनुष्य का आवश्यक गुण है। हम तनाव में जी जान से कोशिश करते हैं। लेकिन, यह तनाव तब घातक हो जाता है जब हम इससे हार मान लेते हैं। इसे दूर करने की कोशिश नहीं करते। एक सच यह भी है कि तनाव हमसे हमारा काम बेहतर करवाता है। ठीक वैसे ही, जैसे बीमारियों के डर ने हमें आधुनिक दवाईयों का अविष्कार करना सिखाया।

इसके अलावा दुनिया में नेक काम करना, परोपकार करना भी तनाव दूर करने का एक महत्वपूर्ण इलाज़ है।

अबरार मुल्तानी की चर्चित किताब ‘5 पिल्स डिप्रेशन-स्ट्रेस से मुक्ति के लिए’ लॉकडाउन में पाठकों की सबसे पसंदीदा किताब है।

कुछ कहानियाँ, कुछ कविताएँ

राजकमल प्रकाशन के फ़ेसबुक लाइव कार्यक्रम के तहत रोज़ होने वाले साहित्यिक चर्चाओं में आज अपनी कविताओं के साथ लेखक समर्थ वशिष्ठ ने लेखक स्वेदश दीपक को याद किया। नौकरी की आपाधापी और निरंतर घूमते रहते जीवन से उपजे विचार समर्थ की कविताओं का मूल स्वर हैं।

राजकमल प्रकाशन से प्रकाशित समर्थ वशिष्ठ का कविता-संग्रह ‘सपने में पिया पानी’ आज के ‘मिलेनियल्स’ की बेचैनी को प्रकट करता है। पेशे से इंजीनियर समर्थ की कविताओं में विज्ञान की शब्दावली भी देखने को मिलती है।

फ़ेसबुक लाइव के इसी सिलसिले को आगे बढ़ाया लेखक उमाशंकर चौघरी के कहानी-पाठ ने। राजकमल प्रकाशन से प्रकाशित ‘दिल्ली में नींद’ उनका नया कहानी संग्रह। अपने कहानी संग्रह से पाठ करने के बाद उन्होंने बातचीत करते हुए कहा, “कोरोना का यह काल निराशा का काल है। लेकिन, ऐसे समय में साहित्य का साथ ही हमें इससे उबरने में मदद करेगा। पढ़ें, बात करें, यह एक सकारात्मक रास्ता है।“

राजकमल प्रकाशन लगातार यह कोशिश कर रहा है कि पाठकों के लिए ज्यादा से ज्यादा किताबें ऑनलाइन आसानी से उपलब्ध हो सके। हर रोज के कार्यक्रमों की सूची एक दिन पहले राजकमल प्रकाशन के फेसबुक, ट्वीटर व इंस्टाग्राम पेज पर जारी होती है।

राजकमल प्रकाशन समूह के फेसबुक पेज पर पूरे दिन चलने वाले साहित्यिक कार्यक्रम में लगातार लेखक एवं साहित्यप्रेमी लाइव आकर भिन्न तरह की बातचीत के साथ एकांतवाश के अकेलेपन को कम करने की कोशिश कर रहे हैं।

राजकमल प्रकाशन समूह के फ़ेसबुक लाइव कार्यक्रम में अब तक शामिल हुए लेखक हैं – विनोद कुमार शुक्ल, मंगलेश डबराल, हृषीकेश सुलभ, शिवमूर्ति, चन्द्रकान्ता, गीतांजलि श्री, वंदना राग, सविता सिंह, ममता कालिया, मृदुला गर्ग, मृदुला गर्ग, मृणाल पाण्डे, ज्ञान चतुर्वेदी, मैत्रेयी पुष्पा, उषा उथुप, ज़ावेद अख्तर, अनामिका, नमिता गोखले, अश्विनी कुमार पंकज, अशोक कुमार पांडेय, पुष्पेश पंत, प्रभात रंजन, राकेश तिवारी, कृष्ण कल्पित, सुजाता, प्रियदर्शन, यतीन्द्र मिश्र, अल्पना मिश्र, गिरीन्द्रनाथ झा, विनीत कुमार, हिमांशु बाजपेयी, अनुराधा बेनीवाल, सुधांशु फिरदौस, व्योमेश शुक्ल, अरूण देव, प्रत्यक्षा, त्रिलोकनाथ पांडेय, आकांक्षा पारे, आलोक श्रीवास्तव, विनय कुमार, दिलीप पांडे, अदनान कफ़ील दरवेश, गौरव सोलंकी, कैलाश वानखेड़े, अनघ शर्मा, नवीन चौधरी, सोपान जोशी, अभिषेक शुक्ला, रामकुमार सिंह, अमरेंद्र नाथ त्रिपाठी, तरूण भटनागर, उमेश पंत, निशान्त जैन, स्वानंद किरकिरे, सौरभ शुक्ला, प्रकृति करगेती, मनीषा कुलश्रेष्ठ, पुष्पेश पंत, मालचंद तिवाड़ी, बद्रीनारायण, मृत्युंजय, समर्थ वशिष्ठ, उमा शंकर चौधरी, अबरार मुल्तानी

राजकमल फेसबुक पेज से लाइव हुए कुछ ख़ास हिंदी साहित्य-प्रेमी : चिन्मयी त्रिपाठी (गायक), हरप्रीत सिंह (गायक), राजेंद्र धोड़पकर (कार्टूनिस्ट एवं पत्रकार), राजेश जोशी (पत्रकार), दारैन शाहिदी (दास्तानगो), अविनाश दास (फ़िल्म निर्देशक), रविकांत (इतिहासकार, सीएसडीएस), हिमांशु पंड्या (आलोचक/क्रिटिक), आनन्द प्रधान (मीडिया विशेषज्ञ), शिराज़ हुसैन (चित्रकार, पोस्टर आर्टिस्ट), हैदर रिज़वी, अंकिता आनंद, प्रेम मोदी, सुरेंद्र राजन, वाणी त्रिपाठी टीकू, राजशेखर।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription