69 दिन बाद खोला गया नोएडा से कालिंदी कुंज का रास्ता, पुलिस ने हटाई बैरिकेडिंग

69 days later, the road from Noida to Kalindi Kunj was opened, the police removed the barricades शाहीन बाग : नोएडा से दिल्ली तक कौन-कौन से रास्ते खुले, मैप के जरिए आसानी से समझें नई दिन 21 फरवरी 2020. नोएडा से कालिंदी कुंज का रास्ता 69 दिन बाद खोल दिया गया है। निजी समाचार चैनल …
69 दिन बाद खोला गया नोएडा से कालिंदी कुंज का रास्ता, पुलिस ने हटाई बैरिकेडिंग

69 days later, the road from Noida to Kalindi Kunj was opened, the police removed the barricades

शाहीन बाग : नोएडा से दिल्‍ली तक कौन-कौन से रास्‍ते खुले, मैप के जरिए आसानी से समझें

नई दिन 21 फरवरी 2020. नोएडा से कालिंदी कुंज का रास्ता 69 दिन बाद खोल दिया गया है।

निजी समाचार चैनल टीवी9 भारतवर्ष की खबर के मुताबिक उत्‍तर प्रदेश पुलिस ने नोएडा से दिल्‍ली के कालिंदी कुंज जाने वाली रोड खोल दी है। शुक्रवार (21 फरवरी) को पुलिस ने यहां से बैरिकेडिंग हटवा दी है। शाहीन बाग में जारी सीएए विरोधी प्रोटेस्‍ट के चलते यह सड़क पिछले 69 दिन से बंद थी।

शाहीन बाग के प्रदर्शनकारी लगातार यह बात कहते रहे हैं कि रास्ता पुलिस ने बंद किया हुआ है।

खबर के मुताबिक धरने के चलते नोएडा से कालिंदी कुंज की ओर यमुना पुल से आने वाले ट्रैफिक को रोक दिया गया था, ताकि दिल्ली के सरिता विहार, मथुरा रोड और शाहीन बाग के आसपास के इलाकों में ट्रैफिक मूवमेंट न गड़बड़ाए।

आप हस्तक्षेप के पुराने पाठक हैं। हम जानते हैं आप जैसे लोगों की वजह से दूसरी दुनिया संभव है। बहुत सी लड़ाइयाँ जीती जानी हैं, लेकिन हम उन्हें एक साथ लड़ेंगे — हम सब। Hastakshep.com आपका सामान्य समाचार आउटलेट नहीं है। हम क्लिक पर जीवित नहीं रहते हैं। हम विज्ञापन में डॉलर नहीं चाहते हैं। हम चाहते हैं कि दुनिया एक बेहतर जगह बने। लेकिन हम इसे अकेले नहीं कर सकते। हमें आपकी आवश्यकता है। यदि आप आज मदद कर सकते हैं – क्योंकि हर आकार का हर उपहार मायने रखता है – कृपया। आपके समर्थन के बिना हम अस्तित्व में नहीं होंगे। Paytm – 9312873760 Donate online –  https://www.payumoney.com/paybypayumoney/#/6EBED60B33ADC3D2BC1E1EB42C223F29

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription