पत्रकारिता का पतनकाल : दैनिक जागरण ने शराब की खबर के साथ लगा दी अखिलेश यादव की तस्वीर ट्रेंड हो रहा #दैनिक_जागरण_का_पूर्ण_बहिष्कार

Decline of journalism इलाहाबाद। दैनिक जागरण में शराब की खबर के साथ पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की तसवीर लगाए जाने से सपा कार्यकर्ता आगबबूला हैं, इसके बाड ट्विटर पर दैनिक_जागरण_का_पूर्ण_बहिष्कार ट्रेंड हो रहा है। समाजवादी पार्टी के नेताओं ने दैनिक जागरण अखबार को चेतावनी दी है कि वह शराब की खबर के साथ पूर्व मुख्यमंत्री …
पत्रकारिता का पतनकाल : दैनिक जागरण ने शराब की खबर के साथ लगा दी अखिलेश यादव की तस्वीर ट्रेंड हो रहा #दैनिक_जागरण_का_पूर्ण_बहिष्कार

Decline of journalism

इलाहाबाद। दैनिक जागरण में शराब की खबर के साथ पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की तसवीर लगाए जाने से सपा कार्यकर्ता आगबबूला हैं, इसके बाड ट्विटर पर दैनिक_जागरण_का_पूर्ण_बहिष्कार ट्रेंड हो रहा है।

समाजवादी पार्टी के नेताओं ने दैनिक जागरण अखबार को चेतावनी दी है कि वह शराब की खबर के साथ पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की तसवीर लगाए जाने पर माफी मांगे।

विधानपरिषद सदस्य बासूदेव यादव, निर्वतमान ज़िलाध्यक्ष कृष्णमूर्ति सिंह यादव, निर्वतमान महानगर अध्यक्ष सै०इफ्तेखार हुसैन, नगर महासचिव योगेश यादव ने संयुक्त बयान जारी करते हुए दैनिक जागरण पर आरोप लगाया कि भाजपा और संघ से प्रेरित उक्त अखबार ने जानबूझ कर ऐसी ओछी हरकत कर जन मानस में लोकप्रिय अखिलेश यादव की छवि को धूमिल करने का षणयंत्र रचा है। अखबार उक्त घटना के लिए सार्वजनिक रूप से माफी मांगे अन्यथा दैनिक जागरण अखबार का बहिष्

कार किया जाएगा।महानगर मीडिया प्रभारी सै०मो०अस्करी ने दैनिक जागरण अखबार में शराब की खबर के साथ लगी अखिलेश यादव की तसवीर पर अपनी प्रतिक्रिया में उक्त प्रकरण को लेकर खबर लगाने वाले पत्रकार की जाँच की मांग की। उन्होंने कहा कि कहीं ऐसा तो नहीं कि उक्त पत्रकार नशे में ऐसी त्रूटि कर गया।

सपा कार्यकर्ताओं ने जगह-जगह अपने मुखिया को बदनाम करने वाले अखबार दैनिक जागरण की प्रति जला कर विरोध दर्ज कराया।

नैनी में अल्पसंख्यक सभा के प्रदेश सचिव मो०शारिक़, धूमनगंज में मक़सूद अहमद, कटरा में नेहा यादव, कीडगंज में आक़िब जावेद खान, तेलियरगंज में अभिषेक यादव, शाहगंज में बलवन्त यादव ने दैनिक जागरण की प्रति आग के हवाले कर विरोध दर्ज कराया।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription