अखिलेश ने पूछा मोदी से - कहां हैं 'अच्छे दिन'?, तो लोगों ने पूछा कहां हैं मुलायम

अखिलेश यादव ने आज प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधा और सपा के चुनावी घोषणा-पत्र जारी करने से पहले पार्टी द्वारा किए गए विकास कार्यो का ब्योरा दिया, तो कार्यक्रम में मुलायम सिंह यादव अनुपस्थित थे...

अखिलेश ने पूछा मोदी से - कहां हैं
अखिलेश ने पूछा मोदी से - कहां हैं 'अच्छे दिन'?, तो लोगों ने पूछा कहां हैं मुलायम

लखनऊ, 22 जनवरी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधा और सपा के चुनावी घोषणा-पत्र जारी करने से पहले पार्टी द्वारा किए गए विकास कार्यो का ब्योरा दिया, तो कार्यक्रम में सपा के अपदस्थ अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव के न होने पर लोगं ने सवालिया निशान लगाए।

अखिलेश ने मोदी पर निशाना साधते हुए कहा,

"जिन्होंने 'अच्छे दिन' और 'सबका साथ सबका विकास' का नारा दिया, उन्होंने कितना काम किया जनता यह जानती है।"

यहां पार्टी कार्यालय में नेताओं और कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए अखिलेश ने केंद्र सरकार के 'स्वच्छता अभियान' पर भी निशाना साधा।

उन्होंने कहा,

"तीन साल से जनता ढूंढ रही है कि विकास कहां है? विकास के नाम पर उन्होंने जनता को झाड़ू पकड़ा दी।"

उन्होंने पार्टी के विकास कार्यो का ब्योरा देते हुए कहा,

"सही मायने में देश की जनता जानती है कि किस पार्टी ने क्या किया। जो बातें घोषणा पत्र में नहीं थी, समाजवादी पार्टी ने उसे भी पूरा किया। समाजवादी पार्टी की कथनी और करनी में कोई भेद नहीं है। सपा ने बड़े पैमाने पर काम किया।"

उन्होंने कहा,

"समाजवादियों से पूछो, हम बता सकते हैं कि हमने क्या काम किया। कोई जिला नहीं है, जहां काम नहीं हुआ।"

मुलायम सिंह यादव और शिवपाल यादव नहीं पहुंचे। ऐसा कहा जा रहा है कि आजम खान मनाने के लिए मुलायम के घर गए। लेकिन वे नहीं आए। बाद में अखिलेश को उनकी गैर-मौजूदगी में मैनिफेस्टो जारी करना पड़ा।

अखिलेश यादव के पूरे भाषण पर बसपा प्रमुख मायावती का खौफ और मुलायम सिंह यादव हावी रहे। कई बार उन्होंने अपरोक्ष रूप से मायावती का नाम लिया तो औरंगज़ेब की छवि से उबरने के लिए कई बार नेता जी यानी मुलायमसिंह यादव का जिक्र किया।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।