पब्लिसिटी पाने के लिए मुझे झूठे आरोप में फंसाया- सलमान

सलमान ने खुद को निर्दोष बताया और कहा कि मुझे झूठा फंसाया गया है। घटना के वक्त मैं होटल में मौजूद था और वन विभाग ने पब्लिसिटी पाने के लिए मुझे झूठे आरोप में फंसाया है।...

पब्लिसिटी पाने के लिए मुझे झूठे आरोप में फंसाया- सलमान

सलमान ने बताया, कैसे मरा काला हिरण

Blackbuck died of natural causes, Salman claims in Jodhpur court

18 साल पुराने काला हिरण शिकार मामले में सलमान खान की आज एक बार फिर जोधपुर कोर्ट में पेशी हुई। कोर्ट पहुंच कर सलमान खान ने अपना बयान दर्ज करवाया।

सुनवाई के दौरान कोर्ट ने सलमान से 57 सवाल पूछे, जिसके जवाब में सलमान ने खुद को निर्दोष बताया और कहा कि

मुझे झूठा फंसाया गया है। घटना के वक्त मैं होटल में मौजूद था और वन विभाग ने पब्लिसिटी पाने के लिए मुझे झूठे आरोप में फंसाया है।

काला हिरण शिकार मामले में सलमान खान के साथ ही सैफ अली खान, सोनाली बेंद्रे, तब्बू और नीलम भी अपना बयान दर्ज कराने कोर्ट पहुंचे।

अपना बयान दर्ज कराने के बाद सलमान तुरंत कोर्ट से चले गए।

आरोप है कि साल 1998 में 'हम साथ-साथ हैं' कि शूटिंग के दौरान जोधपुर के निकट कांकाणी गांव में सलमान ने दो काले हिरण का शिकार किया था।

शिकार के समय जीप में सैफ, सोनाली, तब्बू और नीलम भी सवार थे। हालांकि सलामान इस मामल में मुख्य आरोपी हैं...मगर बाकी स्टार्स पर सलमान को शिकार के लिए उकसाने का आरोप है।

सलमान समेत सभी स्टार्स से इस मामले के 28 गवाहों के बयानों के आधार पर तैयार सवालों के जवाब पूछे गए।

कोर्ट में सलमान से कुल 57 सवाल पूछे गए।

सलमान ने सभी सवालों के जवाब में इस मामले में खुद को बेकसूर बताया।

सलमान के वकील हस्तीमल सारस्वत ने कहा,

'सलमान ने सभी सवालों का पूरे यकीन के साथ जवाब दिया।'

 करीब आधे घंटे तक चले सवाल-जवाब के सिलसिले के बाद सलमान कोर्ट से बाहर निकल आए। इसके बाद बाकी चार स्टार्स से सवाल पूछे गए।

तो आज जोधपुर में फिल्मी सितारों का जमावड़ा लगा रहा...

जोधपुर कोर्ट के बाहर सलमान के फैंस सलमान की एक झलक पाने के लिए पहुंचे। इस बीच कोर्ट के पास कड़ी सुरक्षा व्यवस्था का इंतजाम किया गया था।

Salman Khan says did not kill blackbuck, claims he was falsely accused

DB Live

 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।
क्या महिलाओं को शांति से जीने का अधिकार नहीं