पाकिस्तान में गिरफ्तार हुई थीं सारा खान ?

प्रसिद्ध भारतीय टीवी अभिनेता सारा खान हाल ही में नूर हसन के साथ पाकिस्तान में अपने पहले पाकिस्तानी नाटक, "बे खुदी" को शूट करने के लिए पाकिस्तान में थीं।...

पाकिस्तान में गिरफ्तार हुई थीं सारा खान ?
Photo from Twitter

नई दिल्ली,09 अप्रैल। सुप्रसिद्ध भारतीय टीवी अदाकारा सारा खान क्या पाकिस्तान में गिरफ्तार हुई थीं ?

दरअसल इस तरह की अफवाहें भारत और पाकिस्तान में उड़ रही हैं, हालाँकि सारा खान इन अफवाहों का खंडन कर रही हैं।

प्रसिद्ध भारतीय टीवी अभिनेता सारा खान हाल ही में नूर हसन के साथ पाकिस्तान में अपने पहले पाकिस्तानी नाटक, "बे खुदी" को शूट करने के लिए पाकिस्तान में थीं।

अब, वह स्टाइल गुरू अतीका ओधो के साथ एक और पाकिस्तानी नाटक "लेकिन" में स्टार बनने के लिए तैयार हैं।

हालांकि, सारा खान हाल ही में भारत लौट आई थीं। लेकिन अफवाहें फैल गईं कि उभरती हुई अदाकारा को पाकिस्तान में हिरासत में लिया गया क्योंकि अपने वीज़ा में तय अवधि से उन्होंने दो दिनों के लिए अपनी यात्रा बढ़ा दी थी।

सारा खान ने इन अफवाहों का खंडन करते हुए एक बॉलीवुड खबरों की साइट से कहा,

"मुझे अनापत्ति प्रमाणपत्र (NOC) लाने के लिए कहा गया और मैं पुलिस कस्टडी में नहीं फाइव स्टार होटल में थी। मैं नहीं जानती इस तरह की ख़बरें कौन फैला रहा है। मैं वहाँ कुछ भी गैर कानूनी नहीं कर रही थी। मैं अपनी एनओसी लेने के लिए वापिस आई।"

उन्होंने कहा

“उड़ान संबंधी समस्याओं की वजह से मैं वीज़ा अवधि से दो दिन अधिक पाकिस्तान में थी। तब मुझे आव्रजन अधिकारियों ने बताया कि मुझे एनओसी लानी पड़ेगी। इसलिए मैं एनओसी लेने वापिस मुंबई आ गई। मुझे वहां हिरासत में नहीं लिया गया था। एनओसी मंत्रालय स्तर से मिलती है, अतः मैं उसे लेने वापिस आ गई। पूरी यात्रा के दौरान मैं सोशल मीडिया पर सक्रिय थी, लोग इस तरह की बेवकूफी भरी अफवाहें कैसे फैला सकते हैं। मैं वहाँ अपनी फिल्म की शूटिंग कर रही थी।“

पाकिस्तान में अपने पहले कार्य अनुभव के विषय में पाकिस्तान के अखबार "द ट्रिब्यून" से सारा खान ने कहा,

“मेरी पहली पाकिस्तानी नाटक श्रृंखला को करना मेरे लिए सम्मान की बात है। पाकिस्तान में, धारावाहिक और फिल्मों में भारत की तरह एक सीमांकन (demarcation) नहीं होता है। वास्तव में, पाकिस्तानी टीवी उद्योग सबसे बड़ा है। इसलिए, मैं बेहद उत्साहित हूं,"

उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी टीवी धारावाहिकों में मजबूत व स्तरीय कंटेंट के कारण उन्होंने पाकिस्तानी धारावाहिकों में काम करने का निर्णय लिया।

पाकिस्तानी और भारतीय धारावाहिकों के बीच में सबसे महत्वपूर्ण अंतर के बारे में उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी नाटक अधिक यथार्थवादी हैं।

"वे और अधिक वास्तविक और relatable हैं और फिर, मैं पाकिस्तान में एक और पहलू का आनंद लेती हूँ कि यहाँ धारावाहिक समय पर समाप्त होते हैं। यहां एक धारावाहिक पूरा करने के लिए लगभग एक महीने लगता है, जबकि भारत में, वे हमेशा चलते जाते हैं। इसलिए, पाकिस्तान में, कम अवधि में यह अभिनेताओं को ताज़ा रखता है और एक अभिनेता किसी अन्य परियोजना में जा सकता है।"

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।
क्या महिलाओं को शांति से जीने का अधिकार नहीं