चेन्नई में संपन्न रत्न एवं आभूषण प्रदर्शनी

300 से अधिक प्रदर्शनीकर्ताओं की भागीदारी के साथ UBM India और MJDMA ने दक्षिण भारत की B2B ज्वैलरी प्रदर्शनी का समापन किया...

हाइलाइट्स
  • MJDMA और UBM India की ओर से आयोजित B2B रत्न एवं आभूषण प्रदर्शनी
  • 300 से अधिक प्रदर्शनीकर्ताओं की भागीदारी के साथ UBM India और MJDMA ने दक्षिण भारत की B2B ज्वैलरी प्रदर्शनी का समापन किया
  • प्रमुख एसोसिएशन और शीर्षस्तरीय संस्थाओं की भागीदारी के साथ एक 'ऑल तमिलनाडु प्रेसिडेंट एंड सेक्रेटरी मीट' और 'GJF जोनल मीट' का आयोजन

 

चेन्नई 20 मार्च। भारत में रत्न एवं आभूषण उद्योग को बढ़ावा देने वाले तीन दिवसीय भव्य B2B Gem & Jewellery India International Exhibition (GJIIE 2017) के 13वें संस्करण का रंगारंग समापन हुआ। इस प्रदर्शनी का आयोजन चेन्नई ट्रेड सेंटर में 10-12 मार्च, 2017 तक किया गया था।

शो का उद्‌घाटन मुख्य अतिथि Mr. KC Veeramani, वाणिज्य कर एवं पंजीकरण मंत्री केसी वीरामणि ने किया गया।

ज्वैलरी एक्सपो GJIIE के सफलतापूर्वक समापन के अवसर पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए UBM India के मैनेजिंग डायरेक्टर, योगेश मुद्रास  ने कहा कि,

"कई वैश्विक और आर्थिक वजहों से भारत में रत्न एवं आभूषण क्षेत्र के लिए पिछला साल काफी कठिन रहा। साथ ही, यह असंगठित से संगठित क्षेत्र के रूप में भी उभरा। ज्वैलरी क्षेत्र भारत की GDP में लगभग 8% का योगदान करता है और बहुमूल्य और अर्ध बहुमूल्य जड़ाऊ ज्वैलरी, हैंडमेड ज्वैलरी, कास्टिंग ज्वैलरी और लाइटवेट गोल्ड ज्वैलरी का केंद्र माना जाने वाला दक्षिण भारत, सोने और हीरे के आभूषणों का सबसे बड़ा उपभोक्ता भी है। ये बातें इस शो तथा समग्र रूप में पूरे ज्वैलरी सेक्टर के पक्ष में जाती हैं। GJIIE 2017 के साथ, जो कि UBM India द्वारा वर्ष पर्यन्त आयोजित किए जाने वाले चार ज्वैलरी शो (कोलकाता, चेन्नई, हैदराबाद और दिल्ली) में से एक है, हम 2017 में पुरानी चमक लौटाने के लिए दृढ़संकल्प हैं। उद्योग जगत से मिली जबरदस्त प्रतिक्रियाओं ने साबित किया कि प्रदर्शनीकर्ताओं और विजिटरों के नजरिए से दक्षिण भारत के बाज़ार की संभावनाओं का लाभ उठाने के लिए इस बड़े पैमाने के औद्योगिक प्लेटफॉर्म की प्रबल आवश्यकता थी।"

एक विज्ञप्ति में दावा किया गया है कि तीन दिवसीय GJIIE 2017 भारत में 300 से अधिक प्रदर्शनीकर्ताओं की भागीदारी वाली दूसरी सबसे बड़ी रत्न एवं आभूषण B2B प्रदर्शनी रही जिसमें होलसेलर्स, रिटेलर्स, आयातक और निर्यातक, ज्वैलरी निर्माता, मशीनरी निर्माता, हीरों, रत्नों, मोतियों के सप्लायर और व्यापारी, बहुमूल्य धातु और ज्वैलरी माउंटिंग व्यापारी और सप्लायर और व्यापारिक तथा सरकारी संस्थाओं के प्रतिनिधियों ने भागीदारी की। दक्षिण भारत की रेंज पर विशेष रूप से केन्द्रित होने के साथ यह भारतीय ज्वैलरी बाज़ार के लिए एक प्रवेश द्वार की तरह थी, जिसने खरीदारों और सप्लायरों को एक स्थान पर मिलने, नेटवर्क बनाने विचारों का आदान-प्रदान करने, नए रूझानों की खोज करने और अपना कारोबार बढ़ाने के लिए अवसर उपलब्ध कराए। प्रतिष्ठित स्थानीय और विदेशी खरीदारों को आकर्षित करने में सफल इस एक्सपो ने उद्योग जगत के लिए एक प्रमाणित और भरोसेमंद सोर्सिंग हब के रूप में अपनी पहचान कायम की। भारत में टियर I, II और III शहरों के अलावा इस प्रदर्शनी में न्यू यॉर्क, दुबई, सिंगापुर और मलेशिया से भी प्रतिनिधियों की भागीदारी ने GJIIE 2017 की अंतर्राष्ट्रीय व्यापकता और प्रसिद्धि को साबित कर दिया।

इस प्रदर्शनी में प्रदर्शनीकर्ताओं ने विविध प्रकार की वस्तुएं प्रस्तुत कीं जिनमें हीरे, मोती, रत्न, जड़ाऊ ज्वैलरी, विशिष्ट दक्षिण भारतीय ज्वैलरी जिनमें टेम्पल नक्शी ज्वैलरी, रत्न जटित ज्वैलरी शामिल थी और ब्राइडल ज्वैलरी जैसे कि मंगा मलाई, कासु माला और पची डिज़ाइन कुछ प्रमुख थीं। निर्माण प्रक्रिया में उपयोग की जाने वाली नवीनतम मशीनरी और अन्य रिटेल उत्पाद व सेवाएं भी प्रदर्शित की गईं।

इस वर्ष प्रदर्शनी में भाग लेने वाले उल्लेखनीय प्रदर्शनीकर्ताओं में हैदराबाद, बंगलौर, चेन्नई, कोयम्बटूर, कोलकाता, मुंबई, जयपुर, दिल्ली, अहमदाबाद, सूरत व अन्य स्थानों के अग्रणी प्रतिनिधि शामिल रहे। प्रदर्शनी में शामिल अग्रणी कंपनियों में Mohanlal Jewellers Pvt. Ltd, Laxmi Jewellery Chennai Pvt. Ltd, Jai Gulab Dev Jewellers, JC Jewellers (Chennai) Pvt Ltd, Mukti gold, Krizz, Emerald Jewel Industry India Ltd, Unique Chain Pvt Ltd, White Fire Diamonds India Pvt Ltd, Prakash Gold Palace Pvt Ltd, Vijay Gems & Jewellery, Grurukrupa Exports, Peeyar Manufacturers, Gitanjali Jewellery Retail Limited, Swarnshilp Chains & Jewellers Pvt Ltd, Chain N Chains, ORO, JKS Jewels, Anmol Swarn, Matushree Gold और Mehta Gold व अन्य शामिल थीं।

इस वर्ष पहली बार GJIIE में एक 'ऑल तमिलनाडु प्रेसिडेंट एंड सेक्रेटरी मीट' और 'GJF जोनल मीट' का आयोजन भी किया गया जिसमें प्रमुख एसोसिएसनों व शीर्षस्तरीय संस्थाओं के प्रतिनिधियों ने भाग लेकर इस राज्य में व्यापार की प्रमुख उपलब्धियों और चुनौतियों पर चर्चा की।

आज के दौर में युवा उपभोक्ता अब स्वर्ण और ज्वैलरी को परिसंपत्ति मानने के बजाय हल्के, स्टाइलिश और पहनने योग्य पीस ज्यादा पसंद करने लगे हैं, इस परिप्रेक्ष्य में एक्सपो में GIA द्वारा आयोजित दो दिवसीय सेमिनार इस व्यापार से जुड़े लोगों को महत्त्वपूर्ण नई जानकारियां उपलब्ध कराईं। 'जेमोलॉजी एंड स्पॉटलाइट ऑन सिंथेटिक्स' पर आयोजित सेमिनार में प्रयोगशाला निर्मित रत्नों का प्रदर्शन किया गया, जिनका रंगरूप तथा रासायनिक, भौतिक और प्रकाशिक गुण भी प्राकृतिक रत्नों के समान होते हैं। MSME और SBI द्वारा 'स्कीम्स इन ज्वैलरी' और 'मेटल गोल्ड लोन' पर आयोजित सेमिनार बहुमूल्य धातुओं एवं रत्नों में व्यापार करने वालों के लिए विशेष रूचि के विषय रहे। 'इनोवेटिव थिंकिंग' और 'ज्वैलरी टेक्नोलॉजी ट्रांसफार्मेशन' पर पैनल चर्चाओं ने इस उद्योग में नए प्रवेशकर्ताओं के लिए अपनी उपयोगिता साबित की।

इस एक्सपो में 'हॉल ऑफ फेम' ने अपने आकर्षण की वजह से लोगों का खूब ध्यान खींचा, जो कि प्रसिद्ध मौलिक कलाकृतियों की प्रतिकृतियों के रूप में बहुमूल्य धातुओं और रत्नों से बनी सूक्ष्म कलाकृतियों का एक डिस्प्ले था।

'स्वारोवस्की गैलरी' भी शो में शामिल थी, जिसमें चमकदार क्रिस्टलों के नए कलेक्शन को प्रदर्शित किया गया। दूसरे दिन शाम को आयोजित फैशन शो, इस सीज़न के नए रूझानों की झलक देने वाले ज्वैलरी के आकर्षक नमूनों की पेशकश से सज़ा एक खास आयोजन था, जिसके बाद प्रदर्शनीकर्ताओं के लिए नेटवर्किंग नाइट का आयोजन किया गया।

UBM India, भारत में अग्रणी एग्जिबिशन ऑर्गनाइजर प्रदर्शनी आयोजनकर्ता है जो उद्योग जगत को ऐसे प्लेटफॉर्म उपलब्ध कराती है जो प्रदर्शनियों, विषयवस्तु आधारित सम्मेलनों और सेमिनारों के पोर्टफोलियो के माध्यम से दुनियाभर के खरीदारों व विक्रेताओं को एक मंच पर लाते हैं। UBM India पूरे देश में हर साल बड़े पैमाने की 25 से अधिक प्रदर्शनियां और 40 कॉन्फ्रेन्स आयोजित करते हुए, उद्योग जगत के विविध क्षेत्रों के बीच व्यापार को बढ़ावा देती है।

 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।