फर्जी डिग्री के आरोपी पूर्व कानून मंत्री जितेन्द्र सिंह तोमर को बाहर करे आम आदमी पार्टी

आम आदमी पार्टी सरकार में कानून मंत्री रहे जितेन्द्र सिंह तोमर द्वारा फर्जी कानून की डिग्री और बीएससी की डिग्री हासिल करने के मामले में पुलिस की जांच के बाद चार्जशीट दाखिल कर दी गई...

फर्जी डिग्री के आरोपी पूर्व कानून मंत्री जितेन्द्र सिंह तोमर को बाहर करे आम आदमी पार्टी

चार्जशीट दाखिल होने के बाद उठी मांग...

नई दिल्ली, 16 मार्च। आम आदमी पार्टी सरकार में कानून मंत्री रहे जितेन्द्र सिंह तोमर द्वारा फर्जी कानून की डिग्री और बीएससी की डिग्री हासिल करने के मामले में पुलिस की जांच के बाद चार्जशीट दाखिल कर दी गई। दिल्ली पुलिस ने जितेंद्र सिंह तोमर के खिलाफ अदालत में मामला दाखिल करते हुए उनका आरोपी के तौर पर नाम शामिल किया है।

तोमर की डिग्री को जांच के बाद निरस्त भी किया जा चुका है और इस पूरे मामले में शामिल कई लोगों के खिलाफ कार्रवाई भी शुरू हो गई है।

      इस मामले में दिल्ली विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष विजेंद्र गुप्ता ने कहा कि मामला सिर्फ जितेन्द्र सिंह तोमर का नहीं है। दिल्ली सरकार के कई मंत्री विभिन्न आपराधिक मामलों में जेल की हवा खा चुके हैं। इस सरकार के 67 में से 34 विधायकों पर पुलिस की कार्यवाही या तो चल रही है, या उनके खिलाफ  सबूत इकट्ठे किए जा रहे हैं ताकि उनके खिलाफ कठोर कानूनी कार्यवाही की जा सके। जो सरकार भ्रष्टाचार की समाप्ति, लोकपाल की नियुक्ति और पारदर्शी तथा जवाबदेह प्रशासन देने के वायदे पर सत्ता में आई थी, उसका हाल ही में हुए पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव परिणामों से जनता को पता चल गया है।

        आम आदमी पार्टी को गोवा में खाता भी खोलने का अवसर नहीं मिला और पंजाब में 100 सीटें जीतकर भारी बहुमत से आम आदमी पार्टी की सरकार बनाने का अरविंद केजरीवाल का दावा खोखला साबित हो गया है। अपनी हार की खीझ मिटाने के लिए ही अब यह पार्टी इलैक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) पर ही सवाल उठाकर अपनी विश्वसनीयता और समाप्त कर रही है। जनता इस पार्टी के मुखिया से सवाल करती है कि यदि ईवीएम मशीन में खोट है तो अरविंद केजरीवाल को अपने सभी 67 विधायकों का इस्तीफा दिलाकर दिल्ली में फिर से नए चुनाव कराने की मांग चुनाव आयोग और राष्ट्रपति से करनी चाहिए। दरअसल आगामी नगर निगम के चुनावों में अपनी करारी हार देखकर चुनाव आयोग की निष्पक्षता और ईवीएम मशीन की विश्वसनीयता पर ही सवाल उठाए जा रहे हैं। श्री गुप्ता ने कहा कि यदि आम आदमी पार्टी की सरकार में तनिक भी नैतिकता शेष हो तो उसे तत्काल जितेन्द्र सिंह तोमर को पार्टी से निकालकर उनकी विधायकी समाप्त कर देनी चाहिए।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।