कहां गए ट्रंप के लिए हवन करने वाले, अमेरिका में फिर भारतीय मूल के शख्स पर हमला

अमेरिका में ट्रंप का साइड इफेक्ट - फिर भारतीय मूल के शख्स पर हमला डोनाल्ड ट्रंप केराष्ट्रपति बनने के बाद उनकी अमेरिका फर्स्ट नीति के तहत अमेरिका में नस्लीय हमले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं।...

कहां गए ट्रंप के लिए हवन करने वाले, अमेरिका में फिर भारतीय मूल के शख्स पर हमला
Police are investigating a possible hate crime after a man was shot in the arm Friday evening in Kent. Photo captured with courtesy from King5news vedio

 

अमेरिका में ट्रंप का साइड इफेक्ट - फिर भारतीय मूल के शख्स पर हमला

डोनाल्ड ट्रंप केराष्ट्रपति बनने के बाद उनकी अमेरिका फर्स्ट नीति के तहत अमेरिका में नस्लीय हमले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं।

ताजा मामले में एक नकाबपोश हमलावर ने भारतीय मूल के एक सिख व्यक्ति को उनके घर के सामने गोली मार दी।

उस पर गोली चलाने से पहले उसे बंदूकधारी ने अमेरिका छोड़कर अपने देश लौट जाने की चेतावनी दी।

पुलिस अधिकारियों और मीडिया ने पीड़ित की पहचान उजागर नहीं की है। हालांकि, वह इस हमले में बचने में कामयाब रहा है।

इससे पहले गुरुवार को दक्षिण कैरोलिना के लैंकेस्टर में भी एक नस्लीय हमले में हरनीश पटेल की हत्या कर दी गई थी। वहीं, 22 फरवरी को कंसास में हुए नस्लीय हमले में कुचिभोटला की मौत हो गई थी। कंसास में 22 फरवरी को हुए हमले में आलोक मदासानी गंभीर रूप से घायल हो गए थे।

किंग5 न्यूज़ के मुताबिक केंट पुलिस के मुताबिक, ताजा घटना में 39 वर्षीय पीड़ित को उसके घर के सामने गोलियां मारी गई हैं। हमलावर श्वेत था और उसने आंशिक रूप से अपना चेहरा ढका हुआ था।

अमरीकी मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक केंट पुलिस प्रमुख केन थॉमस ने कहा,

"हम अभी जांच के शुरुआती चरण में हैं। हम इसे एक बहुत ही गंभीर घटना के रूप में देख रहे हैं।"

किंग5 टीवी के मुताबिक, घटना की नस्लीय अपराध के तौर पर जांच की जा रही है। पुलिस ने संघीय जांच ब्यूरो (एफबीआई) से भी मदद मांगी है।

केंट सिटी काउंसिल के उम्मीदवार सतविंदर कौर ने फेसबुक पर कहा कि पीड़ित के बाजू में गोली लगी है और उन्होंने अपनी पहचान उजागर नहीं करने की इच्छा जताई है, इसलिए एक समुदाय के तौर पर हमें इसका सम्मान करना चाहिए।

केंट की महापौर सुजेट कूके भी पीड़ित से मिलने अस्पताल पहुंचीं।

 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।