शिक्षिका के अपमान के बाद बोले मनोज तिवारी, उसने आत्महत्या तो नहीं की ना ! मचा बवाल

मनोज तिवारी द्वारा एक महिला शिक्षिका के गीत गाने की फरमाइश पर उसे चुप रहने व एक सांसद से बात करने पर दी गई झिड़की राजनीतिक मुद्दा बन गई। ...

शिक्षिका ने कहा मामला बंद, न करें राजनीति, आप ने कहा महिला आयोग करे कार्रवाई

नई दिल्ली, 18 मार्च। दिल्ली में भारतीय जनता पार्टी के सांसद और दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष मनोज तिवारी द्वारा एक महिला शिक्षिका के गीत गाने की फरमाइश पर उसे चुप रहने व एक सांसद से बात करने पर दी गई झिड़की राजनीतिक मुद्दा बन गई।

विवाद के बाद महिला शिक्षिका भाजपा कार्यालय सामने पहुंची और कहा कि इस मामले को यहीं बंद समझा जाए और इस पर राजनीति न की जाए।

उन्होंने कहा कि मुझे अभिभावक के तौर पर मनोज तिवारी ने समझाया उसमें तल्खी थी, वो एक सांसद भी हैं और एक सांसद का प्रोटोकॉल होता है।

       वहीं आम आदमी पार्टी के नेता व उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने सुबह ट्वीट कर यह मुद्दा शुरू किया तो शाम तक आम आदमी पार्टी के नेता दिलीप पांडे ने कहा कि आप, सांसद मनोज तिवारी की हरकत की कड़े शब्दों में निंदा करती है और राष्ट्रीय एंव दिल्ली महिला आयोग से आग्रह करती है कि महिलाओं का सार्वजनिक मंच पर अपमान करने वाले सत्ता के नशे में चूर ऐसे जनप्रतिनिधियों के ख़िलाफ़ कड़ी से कड़ी कार्रवाई करें। जिस प्रकार से सत्ता के नशे में मदमस्त होकर भाजपा नेता महिलाओं को अपमानित कर रहे हैं उसे दिल्ली की जनता भली भांति देख रही है।

आगामी निगम चुनाव में दिल्ली की जनता ऐसे महिला विरोधी मानसिकता वाले नेताओं और पूरी भाजपा को सबक सिखाने के लिए तैयार बैठी है।


हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।