उप्र : योगी आज लेंगे मुख्यमंत्री पद की शपथ

योगी आदित्यनाथ आज (रविवार) उप्र के 21वें मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ लेंगे। उन्हें लखनऊ में शनिवार को पार्टी विधायक दल की बैठक में मुख्यमंत्री चुना गया था।...

उप्र : योगी आज लेंगे मुख्यमंत्री पद की शपथ

लखनऊ, 19 मार्च। उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के फायरब्रांड नेता योगी आदित्यनाथ आज उप्र के 21वें मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ लेंगे। उन्हें लखनऊ में शनिवार को पार्टी विधायक दल की बैठक में मुख्यमंत्री चुना गया था। इसके बाद उन्होंने राजभवन जाकर सरकार बनाने का दावा पेश किया।

शपथ-ग्रहण समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ ही भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों भी शामिल होने की सूचना है।

प्रदेश पार्टी अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य और पार्टी उपाध्यक्ष दिनेश शर्मा, योगी सरकार में उपमुख्यमंत्री होंगे।

एक सरकारी प्रवक्ता के मुताबिक शपथ-ग्रहण समारोह रविवार दोपहर 2.15 बजे स्मृति वन में होगा। समारोह में प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह मौजूद रहेंगे।

इससे पहले शनिवार को विधायक दल की बैठक के बाद केंद्रीय पर्यवेक्षक वेंकैया नायडू ने बताया कि बैठक में वरिष्ठ नेता सुरेश खन्ना ने मुख्यमंत्री पद के लिए योगी के नाम का प्रस्ताव रखा, जो सर्वसम्मति से पारित हुआ।

स्वामी प्रसाद मौर्य, एस.पी. बघेल, वीरेंद्र सिरोही सहित 11 नेताओं ने प्रस्ताव का अनुमोदन किया।

नेता चुने जाने के बाद योगी ने कहा कि इतने बड़े प्रदेश की जिम्मेदारी संभालने के लिए उन्हें दो और वरिष्ठ सहयोगियों की जरूरत है। इस पर नायडू ने अमित शाह से फोन पर बात की। इसके बाद संसदीय बोर्ड ने योगी को दो उपमुख्यमंत्री बनाने का अधिकार दिया। योगी आदित्यनाथ, केशव प्रसाद मौर्य और दिनेश शर्मा विधानसभा या विधानपरिषद् में से किसी भी सदन के सदस्य नहीं हैं।

मुख्यमंत्री चुने जाने के बाद योगी आदित्यनाथ ने देर शाम राज्यपाल राम नाईक से मुलाकात कर सरकार बनाने का दावा पेश किया, जिसके बाद राज्यपाल ने उन्हें सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया। योगी के साथ करीब 20 मंत्रियों को भी शपथ दिलाई जाएगी।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।
क्या महिलाओं को शांति से जीने का अधिकार नहीं