इलाहाबाद में बसपा नेता के हत्यारोपी तत्काल हो गिरफ्तार- रिहाई मंच

रिहाई मंच ने इलाहाबाद में पूर्व ब्लाक प्रमुख की हत्या और बरेली कालेज में एबीवीपी कार्यकर्ताओं की अराजकता को नवगठित सरकार की लचर कानून-व्यवस्था का ताजा उदाहरण बताया....

लखनऊ 20 मार्च 2017. रिहाई मंच ने इलाहाबाद में पूर्व ब्लाक प्रमुख की हत्या और बरेली कालेज में एबीवीपी कार्यकर्ताओं की अराजकता को नवगठित सरकार की लचर कानून-व्यवस्था का ताजा उदाहरण बताया.

रिहाई मंच महासचिव राजीव यादव ने इलाहाबाद में मऊआइमा के पूर्व ब्लाक प्रमुख और बसपा नेता मोहम्मद शमी के हत्यारोपी भाजपा नेता सुधीर मौर्य और हिन्दू युवा वाहिनी नेता अभिषेक यादव की गिरफ्तारी की मांग की है.

उन्होंने कहा कf इसके पहले भी अभिषेक यादव ने मुहर्रम के महीने मे बुरका पहनकर साम्प्रदायिकता फैलाने की कोशिश की थी, जिसे स्थानीय जनता ने पकड़कर पुलिस के हवाले किया था.

उन्होंने कहा कि भाजपा की सरकार बनते ही सांप्रदायिक शक्तियां पूरे आत्मविश्वास के साथ उन्माद फैलाने में लग गयी हैं उससे साफ हो गया है कि भाजपा का एजेंडा क्या है. बरेली कालेज की गोष्ठी में एबीवीपी कार्यकर्ताओं द्वारा की गयी अराजकता को अभिव्यक्ति की आज़ादी पर हमला करार दिया.

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।