चुनाव से 3 दिन पहले बजट क्यों? विपक्षी दलों ने चुनाव आयोग से की शिकायत

चुनाव से 3 दिन पहले बजट क्यों? विपक्षी दलों ने चुनाव आयोग से की शिकायत

चुनाव से 3 दिन पहले बजट क्यों? विपक्षी दलों ने चुनाव आयोग से की शिकायत नई दिल्ली, 05 जनवरी। पांच राज्यों में 4 फरवरी से शुरू होने वाले विधानसभा चुनावों से ठीक 3 दिन पहले आम बजट को लेकर विपक्षी दलों ने चुनाव आयोग में अपना विरोध दर्ज कराया है। विपक्षी दलों का आरोप है कि इससे केंद्र की सरकार को फायदा हो सकता है। आज कई विपक्षी दलों के नेता इस मामले की शिकायत लेकर चुनाव आयोग पहुंचे थे। कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, द्रमुक, जद(यू) व राष्ट्रीय लोकदल के नेताओं ने चुनाव आयोग से मुलाकात की। चुनाव आयोग जाने वाले नेताओं में शामिल थे- कांग्रेस के आनंद शर्मा, गुलाम नबी आजाद, त्रिची शिवा, अहमद पटेल, टीएमसी नेता डेरेक ओ ब्रायन और सौगत रॉय, सपा के नेता नरेश अग्रवाल। मुलाकात के बाद गुलाम नबी आजाद ने बताया कि विपक्षी दलों ने अपनी आपत्ति आयोग के सामने रख दी है। चुनाव से ठीक 3 दिन पहले बजट पेश होने देना उचित नहीं है। गुलाम नबी आजाद ने कहा कि 31 मार्च तक कभी भी बजट पेश किया जा सकता है। सरकार को 8 मार्च को चुनाव खत्म होने के बाद बजट पेश करना चाहिए। निष्पक्ष चुनाव के लिए ये जरूरी है। We demand that budget be presented after March 8, which is when polling for elections will be over: GN Azad, Cong after meeting EC pic.twitter.com/x7GzS0eY28 — ANI (@ANI_news) January 5, 2017 Populist measures could be taken in budget, so a just and fair election can't be held: GN Azad,Congress after meeting Election Commission pic.twitter.com/BH1IpflQzx — ANI (@ANI_news) January 5, 2017 TMC,Congress,DMK,JDU,RLD leaders arrive to meet Election Commission on issue of budget date being too close to polls pic.twitter.com/A6cGVkouYr — ANI (@ANI_news) January 5, 2017 There is no scope for a change, the budget will be announced on 1 February: Union Minister MA Naqvi pic.twitter.com/bk9giXYhKp — ANI (@ANI_news) January 5, 2017 Opposition leaders complaints election commission on budget three days before election

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।