जब गृह मंत्री को कहना पड़ा कश्मीरी भी भारत के ही नागरिक हैं

देश में कश्मीरियों को लेकर जिस तरह ही नफरत सामने आ रही है उसको लेकर गृह मंत्रालय भी सतर्क हो गया है। गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने सभी राज्यों को एडवायजरी जारी की है।...

जब गृह मंत्री को कहना पड़ा कश्मीरी भी भारत के ही नागरिक हैं

डीबी लाइव

पिछले दिनों जम्मू-कश्मीर से सुरक्षाबलों के अपमान की तस्वीरें सामने आई थी, जिसको लेकर देश भर में अब कश्मीरी युवाओं के खिलाफ उबाल देखा जा रहा है। राजस्थान और उत्तर प्रदेश से जो तस्वीरें सामने आई हैं वो यही बयां कर रही हैं कि कश्मीरियों के से लोग किस कदर नाराज़ हैं।

राजस्थान की मेवाड़ यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले कश्मीरी छात्रों के साथ मारपीट का मामला सामने आया है। आरोप है कि कुछ स्थानीय लोगों ने कश्मीरी छात्रों की पिटाई कर उन्हें ज़ख्मी कर दिया।

बताया जा रहा है कि बुधवार शाम करीब 6 बजे मेवाड़ यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले कुछ कश्मीरी छात्र बाजार गए थे, इसी बीच कुछ अज्ञात लोगों का समूह उन्हें पत्थरबाज कहते हुए फब्तियां कसने लगा और उन पर हमला कर दिया।

इस घटना के बाद से ही यूनिवर्सिटी कैंपस में तनाव बना हुआ है। पुलिस ने छात्रों की शिकायत पर मामला दर्ज कर लिया है।

राजस्थान की तरह ही यूपी में भी पोस्टर लगाकर कश्मीरियों को मेरठ छोड़ने की चेतावनी दी गई है।

उत्तर प्रदेश नवनिर्माण सेना के नाम से लगे इस पोस्टर में किसी अमित जानी का फोटो लगा हुआ है। पोस्टर पर सबसे ऊपर लिखा हुआ है भारतीय सेना पर पत्थर मारने वाले कश्मीरियों का बहिष्कार। इसके नीचे सीधे-सीधे धमकी दी गई है, जिसमें लिखा है कि कश्मीरियों उत्तर प्रदेश छोड़ो वरना....

पोस्टर में एक फोटो भी लगाया गया है, जिसमें कश्मीरी युवा पत्थर फेंकते हुए नजर आ रहे हैं। देश में कश्मीरियों को लेकर जिस तरह ही नफरत सामने आ रही है उसको लेकर गृह मंत्रालय भी सतर्क हो गया है।

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने सभी राज्यों को एडवायजरी जारी की है। सभी राज्यों को कश्मीरी छात्रों की सुरक्षा के निर्देश देते हुए गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि 'मैं सभी राज्यों से निवेदन करता हूं कि देश में सभी जगह रहने वाले कश्मीरियों की सुरक्षा सुनिश्चित करें'। वे लोग भी भारत के ही नागरिक हैं

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।
क्या महिलाओं को शांति से जीने का अधिकार नहीं