आज है प्रीति जिंटा का जन्म दिन

आज है प्रीति जिंटा का जन्म दिन

31 JAN 2017 | Today's History, Aaj Ka Itihas

1950 में अमेरिकी राष्ट्रपति हैरी ट्रूमैन ने हाइड्रोजन बम बनाने के आदेश दिया था। दूसरे विश्वयुद्ध में ट्रूमैन के एक आदेश ने जापान के हिरोशिमा शहर को लाशों के शहर में तब्दील कर दिया था।

पूरा हिरोशिमा शहर शमशान बन गया था, जहां नजर जाती थी वहां लोगों के शवों के सिवाय कुछ नजर नहीं आता था। अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति हैरी ट्रूमैन से परमाणु बम गिराए जाने की अनुमति मिलने के बाद रात के बाद की पहली सुबह 2 बजकर 45 मिनट पर अमेरिकी वायुसेना की तरफ से बी-29 'एनोला गे' ने 'लिटिल बॉय' नामक परमाणु बम के साथ जापान के हिरोशिमा की तरफ अपनी यात्रा शुरू कर दी थी।

कहा जाता है कि 'लिटिल बॉय' नामक परमाणु बम को जब विमान में लेस किया था तब इसमे बारूद नही था और बाद में मॉरिस जैप्सन ने चार बड़े बैग से बारूद भर कर और फिर प्लग लगा कर इस बम को सक्रिय कर दिया था।

31 जनवरी 1953 को आईरिश समुद्र में नौका दुर्घटना में कम से कम 130 यात्रियों और नाविकों की मौत हो गई थी।

ब्रितानी नौका प्रिंसेज़ विक्टोरिया उत्तरी आयरलैंड जा रही थी, तभी यह दुर्घटना घटी। घटना के बाद समुद्र से सिर्फ 67 शव ही मिल सके।

रिपोर्टों के मुताबिक़ 177 यात्री इस नाव में सवार थे, जिनमें से मात्र 44 ही बच पाए। जांच में पाया गया कि बचाव के लिए भेजा गया जहाज़ एचएमएस कॉन्टेस्ट काफ़ी देर से पहुंचा। जांच में नाव के मालिकों को, उसकी ख़राब बनावट के लिए ज़िम्मेदार पाया गया।

नाव के रेडियो ऑपरेटर डेविड ब्रोडफ़ुट को बहादुरी के लिए मरणोपरांत जॉर्ज क्रॉस से सम्मानित किया गया। अपने आखिरी वक्त तक ब्रो़डफ़ुट सहायता के लिए संदेश भेज रहे थे।

31 जनवरी 1958 को पृथ्वी के कक्ष में स्थापित होने वाला पहला अमेरिकी उपग्रह एक्सप्लोरर-1 अंतरिक्ष में प्रक्षेपित किया गया था। लेकिन रुस इससे पहले ही अंतरिक्ष की तरफ अपने कदम बढ़ा चुका था।

एक्सप्लोरर-1 का प्रक्षेपण अमेरिका के अंतरराष्ट्रीय भूभौतिकीय वर्ष में भागीदारी के प्रतीक के रूप में किया गया था। इसका प्रक्षेपण फ्लोरिडा के केप कैनेवेरल से किया गया।

एक्सप्लोरर-1 को जेट प्रोपल्शन लैबोरेटरी (जेपीएल) में तैयार किया गया था। यह पृथ्वी के कक्ष में 1970 तक रहा। इससे पहले पूर्व सोवियत संघ एक वर्ष पहले स्पूतनिक 1 और 2 को अंतरिक्ष में छोड़ चुका था। एक्सप्लोरर-1 के साथ ही अमेरिका और सोवियत संघ के बीच अंतरिक्ष में दौड़ का शीत युद्ध छिड़ गया। अमेरिकी नौसेना का उपग्रह कक्षा में भेजने का वैनगार्ड टीवी3 प्रयास 1957 में विफल रहा।

इसके बाद सोवियत संघ के अंतरिक्ष में स्पूतनिक-1 और 2 को भेजने के बाद प्रोजेक्ट ऑरबिटर को फिर से तवज्जो दी गई, ताकि सोवियत संघ को टक्कर दी जा सके।

31 जनवरी 1975 को फ़िल्म अभिनेत्री प्रीति ज़िंटा का जन्म शिमला में हुआ था।

प्रीति हिन्दी, तेलगू, पंजाबी और अंग्रेज़ी फ़िल्मों में काम कर चुकी हैं।

मनोविज्ञान में उपाधि ग्रहण करने के बाद ज़िंटा ने अपने फ़िल्मी करियर की शुरुआत फिल्म दिल से..से की और उसी वर्ष फ़िल्म सोल्जर में पुनः दिखी। इन फ़िल्मों में अभिनय के लिए उन्हें फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ नई अदाकारा के पुरस्कार से नवाजा गया।

फिल्म कल हो न हो के लिए उन्हें पहली बार फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के खिताब से नवाजा गया।

सोल्जर, क्या कहना, कल हो न हो, कोई मिल गया, वीर-जारा और कभी अलविदा न कहना उनकी बेहतरीन फिल्में हैं।

31 जनवरी 1996 को श्रीलंका की राजधानी कोलंबो में हुए एक आत्मघाती हमले में 91 लोग मारे गए थे और 1,400 से ज़्यादा लोग ज़ख्मी हुए थे।

यह धमाका उस वक्त हुआ जब बारूद से भरी एक लॉरी कोलंबो के केंद्रीय बैंक से टकरा गई। अधिकारियों ने धमाकों के लिए अलगाववादी चरमपंथी संगठन तमिल टाइगर्स को ज़िम्मेदार ठहराया। इस धमाके के बाद भी तमिल टाइगरों ने अपनी चरमपंथी कार्रवाइयों का सिलसिला जारी रखा। उन्होंने एक भी़ड़भा़ड़ वाली ट्रेन में एक और धमाके को अंजाम दिया, जिसमें 78 लोग मारे गए।

इन चरमपंथी घटनाओं के बाद श्रीलंका आने वाले सैलानियों की संख्या में 40 प्रतिशत तक की कमी आई। सैलानियों की घटती संख्या को रोकने के लिए होटल मालिकों ने कीमतों में कमी की और कई सौ कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।
क्या महिलाओं को शांति से जीने का अधिकार नहीं