दे दनादन मिसाइल दाग रहा उत्तर कोरिया

एक बार फिर उ. कोरिया के शासक किम जोन उन ने मिसाइल परीक्षण कर संयुक्त राष्ट्र की ओर से लगे प्रतिबंधों को ठेंगा दिखा दिया है। उत्तरी कोरिया ने सभी धमकियों को दरकिनार कर एक बार फिर मिसाइल परीक्षण किया है...

दे दनादन मिसाइल दाग रहा उत्तर कोरिया

 

North Korea fires four ballistic missiles

उ.कोरिया ने मिसाइल परीक्षण कर दिखाया ठेंगा

एक बार फिर उ. कोरिया के शासक किम जोन उन ने मिसाइल परीक्षण कर संयुक्त राष्ट्र की ओर से लगे प्रतिबंधों को ठेंगा दिखा दिया है। उत्तरी कोरिया ने सभी धमकियों को दरकिनार कर एक बार फिर मिसाइल परीक्षण किया है।

जापान ने दावा किया है कि उ.कोरिया ने जापानी सागर में 4 बैलिस्टिक मिलाइलें दागी है जिनमें से तीन मिसाइलें जापान के विशिष्ट आर्थिक क्षेत्र में जा कर गिरी है।

दक्षिण कोरियाई सेना के एक अधिकारी ने बताया कि उत्तर कोरिया ने स्थानीय समयानुसार सोमवार सुबह 7 बजकर 36 पर यह परीक्षण किया है। लेकिन परीक्षण कैसा था इसका पता लगाया जा रहा है।

इन बैलिस्टिक मिसाइलों की मारक क्षमता करीब 1000 किलोमीटर आकी जा रही है।

वहीं जापान के प्रधानमंत्री शिंजो अबे ने कहा कि उत्तर कोरिया ने करीब एक साथ चार मिसाइलें जापानी सागर में दागीं हैं जिनमें से तीन जापान के विशिष्ट आर्थिक क्षेत्र में गिरीं हैं।

उत्तर कोरिया ने पिछले महीने भी बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया था।

पिछले महीने ही उत्तर कोरिया ने एक बलैस्टिक मिसाइल के सफल परीक्षण का दावा किया था और यह परीक्षण तानाशाह कीम जोंग उन की मौजूदगी में हुआ था।

इस परीक्षण की संयुक्त राष्ट्र, अमेरिका, जापान और दक्षिण कोरिया ने निंदा की थी।

वैसे तो उत्तर कोरिया बार-बार कहता रहा है कि उसका अंतरिक्ष कार्यक्रम शांति के लिए है। लेकिन ऐसा माना जाता है कि वह अमेरिका पर हमला करने में सक्षम इंटरकांटिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल तैयार कर रहा है।

प्रतिबंधों को तमाम चेतावनियों के बावजूद उ.कोरिया का यह मिसाइल परीक्षण अमेरिका को उकसाने वाली कार्रवाई है। ऐसे में अमेरिका की सत्ता पर काबिज हुए राष्ट्रपति डोनाल्डल ट्रंप की तरफ से क्या प्रतिक्रिया आती है, यह देखना बाकी है।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।