जीतनराम माँझी जी, जो भी दलितों के उत्थान के विरोधी हैं, वे सभी भाजपा के समर्थक हैं

जीतनराम माँझी के नाम खुला खत
देश में जो भी दलितों के उत्थान के विरोधी हैं, वे सभी भाजपा के समर्थक हैं
प्रिय जीतनराम माँझी जी
पूर्व मुख्यमंत्री बिहार
पटना
आशा है कि इस समय तक आप एनडीए से आपके दल को मिली सीटों पर चुनाव में जुट गये होंगे।
मुझे आपका वह भविष्य दिख रहा है, जो सम्भवतः आपको नहीं दिख रहा, इसलिए मुझे आप से सहानुभूति है। जो लोग इतिहास नहीं पढ़ पाते वे दूसरों की भूलों से सबक नहीं सीखते अपितु स्वयं अनुभव करके ही सीखते हैं। लगता है आप उसी प्रक्रिया में हैं। यही कारण है कि यह पत्र आपके किसी काम का नहीं, पर इसके बहाने अगर दूसरे साक्षर लोग कुछ विचार कर सकें तो अच्छा होगा।
       आँख द्वारा देखने के कुछ नियम होते हैं। आँखों के बहुत निकट किसी वस्तु के आ जाने पर भी वस्तु दिखायी नहीं देती, और बहुत दूर चले जाने पर भी यही हाल होता है। यही कारण है कि चुनावी राजनीति करने वाले, और चुनाव लड़ कर जमानत जब्त कराने वाले, सभी उम्मीदवार, डमी या ‘वोट कटउआ’ नहीं होते। उनमें से कुछ तो सचमुच इस भ्रम में रहते हैं कि वे जीत जाएंगे, जबकि उनके अलावा शेष सब जानते हैं कि उनकी जमानत जब्त होने वाली है, और वह होती भी है। प्रत्येक चुनाव में ऐसे कई हजार उम्मीदवार उतरते हैं और अपनी कमाई झोंकते हैं।
उम्मीद है कि आगामी बिहार विधानसभा चुनाव में अगर भाजपा ने चाहा तो आप और आपके कथित दल के दो-चार लोग चुनाव जीत सकते हैं। [ मैं आपके दल का नाम जानता हूं किंतु कथित दल इसलिए कह रहा हूं कि उस नाम का कोई मतलब नहीं व यह भी जानता हूं कि वह क्या है और क्यों बना] यह तय है कि अगर भाजपा चुनाव जीतने की स्थिति में होगी तो वह आपको चुनाव हरा कर आपकी राजनीति को हमेशा के लिए समाप्त करना चाहेगी, जिससे आपकी जाति का वोट और विधायक उनमें समाहित हो सकें। इसकी शुरुआत तो उन्होंने इस योजना से ही कर दी है कि आपकी पार्टी के पाँच उम्मीदवार उनके टिकिट पर चुनाव लड़ें, जिसे आपने झुक कर स्वीकार कर लिया है। इस स्वीकार से उन्हें आपकी रीढ़ की लोच का पता लग गया है।
किसी शायर ने कहा है कि ‘नाज है उनको बहुत सब्र मुहब्बत में किया, पूछिए सब्र न करते तो और क्या करते’। आपके पास उनकी हर बात मानने के अलावा दूसरा कोई उपाय भी तो नहीं है।
सच तो यह है कि आपकी आज की हैसियत नीतीश कुमार की एक गलत चाल का परिणाम है। जब मोदी का विरोध करके नीतीश ने भाजपा को गठबन्धन से बाहर किया, तो उन्हें उम्मीद थी कि मुस्लिम वोटों के समर्थन से वे बिहार में लोकसभा चुनाव जीत जाएंगे, किंतु पाँसा उल्टा पड़ा। भाजपा के चुनावी प्रबन्धकों द्वारा बहाये गये धन, गठबन्धन और दलबदलुओं की दम पर भाजपा ने चुनाव जीत लिया। हार के बाद अपनी छवि के लिए नीतीश ने आपको अस्थायी मुख्यमंत्री पद सौंप कर समझा था कि आप उनकी खड़ाऊँ से शासन करेंगे, और उपकृत होंगे।
कुछ महीनों तक आपने यह किया भी किंतु आपको यह कुर्सी और मुख्यमंत्री निवास के आम व लीची ऐसी भा गयी कि आप भाजपा की चाल में फँस गये और यह समझ बैठे कि अब तक आपको पानी पी पी कर कोसने वाली पार्टी आपको मुख्यमंत्री बनाये रखना चाहती है।
काश आपने भाजपा के इतिहास को ठीक से जाना होता कि प्रत्येक संविद या संयुक्त मोर्चा सरकार में आगे बढ़ कर सम्मिलित होने वाली इस पार्टी के जन्मदाताओं का अपना एजेंडा है व उसने हमेशा ही अपने सहयोगियों को सीढ़ी बनाया है और उनको कुतर कुतर कर हजम किया है। देश की पहली गैर काँग्रेस सरकार उनकी इसी हरकत के कारण टूटी थी। उनका आज जो अस्तित्व है वह उनकी इसी कूटनीति के कारण है। देश में दलबदल का खेल उन्होंने ही शुरू किया और बढ़ाया है। देश में जो भी दलितों के उत्थान के विरोधी हैं, वे सभी इस पार्टी के समर्थक हैं, इससे इसका चरित्र प्रकट होता है।
क्या भाजपा द्वारा मुख्यमंत्री के रूप में आपको समर्थन देना विचित्र नहीं लगा था! हो सकता है आपको नहीं लगा हो किंतु पूरे देश के लोगों को आपकी समझ के स्तर और भाजपा के कुतर्क समझ में आ रहे थे। आपके खिलाफ आये अविश्वास प्रस्ताव के समय जो महादलित का तर्क दे रहे थे उन्हें चुनाव के समय महादलित का तर्क याद नहीं आया और आपको मुख्यमंत्री प्रत्याशी घोषित करने की बात नहीं की। दूसरी ओर एनडीए के अन्य सारे घटकों को आपसे अधिक सीटें देकर उन्होंने बता दिया कि वे आपका कद कितना आँकते हैं। उन्हीं की पार्टी के वरिष्ठ सांसद शत्रुघ्न सिन्हा आपके प्रतिद्वन्दी रामविलास पासवान को सर्वोत्तम मुख्यमंत्री उम्मीदवार मान रहे हैं।
जीतनराम जी जातिवादी बिहार में आप विधान सभा की दो चार सीटें जीत कर मंत्री पद पा लेने वाले व्यक्ति तो हो सकते थे किंतु कभी भी मुख्यमंत्री मटेरियल न थे, और न हो सकते हैं।
दुखद यह है आपको जिस संगठन ने किसी रणनीति की तरह मौका दिया था आपने उसी को धोखा दिया। इससे आपकी जाति के मतदाताओं को कुछ समय के लिए आप पर गर्व जरूर हुआ होगा किंतु दूसरे मतदाताओं के बीच आपकी छवि अच्छी नहीं बनी है। आपकी निर्भरता आपको बनाने वालों पर रही इसलिए भी आप ऐसा कुछ नहीं कर सके जिससे आपके व्यक्तित्व का कोई गुण उभर कर सामने आ पाता। अब आप और आपकी जाति के लोगों का समर्थन भाजपा के लिए है, पर भाजपा आपके व्यक्तित्व में कुछ भी जोड़ने नहीं जा रही है। भविष्य में आप कहीं दया और कहीं हँसी के पात्र समझे जाने वाले हैं।
पुरानी कहावत है – आधी छोड़ सारी खों धावै,  आधी मिलै, न सारी पावै । सनद रहे तथा वक्त जरूरत काम आवै।
वीरेन्द्र जैन  
[author image=”https://lh3.googleusercontent.com/-2s3APc97i0E/AAAAAAAAAAI/AAAAAAAAAAA/N39Jvu4mnvI/s120-c/photo.jpg” ]वीरेन्द्र जैन, लेखक स्वतंत्र टिप्पणीकार व जनवादी लेखक हैं [/author]