Home » 2016 » जनवरी

Monthly Archives: जनवरी 2016

नेहरू बनाम सुभाष विवाद आरएसएस का है जो कभी सुभाष या नेहरू के साथ नहीं रहा

How much of Nehru troubled Modi

शहीद-ए-आजम भगत सिंह ने अपनी फांसी से महज तीन साल पहले 1928 में कीर्ति में लिखे अपने आलेख में सुभाष बाबू को 'मात्र भाबुक बंगाली' और नेहरू को 'क्रन्तिकारी' 'अन्तर्राष्ट्रीयतावादी' कहकर सुभाष बाबू के 'संकीर्ण और सैन्य राष्ट्रवाद' के खतरे से आगाह किया था।

Read More »

जालिम इतना भी जुल्म ना ढाओ कि म्यान में खामोश सो रही तलवारें जाग उठे बेलगाम?

Palash Biswas पलाश विश्वास पलाश विश्वास। लेखक वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं । आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की आवाज बनना ही पलाश विश्वास का परिचय है। हिंदी में पत्रकारिता करते हैं, अंग्रेजी के लोकप्रिय ब्लॉगर हैं। “अमेरिका से सावधान “उपन्यास के लेखक। अमर उजाला समेत कई अखबारों से होते हुए अब जनसत्ता कोलकाता में ठिकाना

गेरुआ गर्भे अश्वडिंब प्रसव! हम कैसे मां बाप हैं कि हमारे बच्चों के सर कलम हो रहे हैं और हम कार्निवाल में गेरुआ गेरुआ गा रहे ? नेताजी फाइल से कुछ साबित हुआ हो या न हो, नेताजी परिवार का सदस्य केसरिया हो गया। महंगे युद्धक विमान रफेल खरीदकर बिरंची बाबा ने फ्रेंच अर्थव्यवस्था का कायाकल्प कर दिया नेताजी फाइलों …

Read More »

पात्रा जी का अद्भुत खुलासा- नेता जी का पूरा नाम सुभाष चन्द्र बोस था!!!

Subhas Chandra Bose

पात्रा जी का अद्भुत खुलासा- नेता जी का पूरा नाम सुभाष चन्द्र बोस था!!! Patra ji’s amazing disclosure- Netaji’s full name was Subhash Chandra Bose !!! राजीव नयन बहुगुणा फाइलें सार्वजनिक होने पर पात्रा जी ने यह अद्भुत खुलासा किया है कि नेता जी का पूरा नाम सुभाष चन्द्र बोस था। लेकिन यह नहीं बताया कि आज़ाद हिन्द फ़ौज़ के …

Read More »

“मोदी गो बैक” नारा लगाने वाले छात्रों को रिहाई मंच करेगा सम्मानित

Bahujan Sankalp Diwas Rihai Manch

बाबा साहब भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय में रोहित वेमुला की आत्महत्या के लिए मोदी को जिम्मेदार मानते हुए ‘ मोदी गो बैक ’ के नारे लगाने वाले अंबेडकरवादी प्रतिरोध की परंपरा का झंडा बुलंद करने वाले छात्रों को रिहाई मंच सम्मानित करेगा।

Read More »

A spectre will haunt the Brahmanical Academia, the spectre of Rohith Vemula!

Institutional murder of Rohith Vemula… A spectre will haunt the Brahmanical Academia, the spectre of Rohith Vemula! IIT Kharagpur- Protest against Rohith Vemula’s Death Palash Biswas Kolkata. For the first time, IIT Kharagpur students demonstrated for a cause which is not limited within the campus, which though still may boast of the pride of Hijli Barracks wherein the East India Company …

Read More »

सैलाब आएगा, तो न बद्री पहलवान बचेंगे न उनके लौंडे। भीखमखेड़वी तो मारा ही जाएगा।

Abhishek Srivastava

क्‍या यह समूह में होने की अनिवार्य बुराई है कि समूह बिखर जाता है या फिर हिंदी प्रदेश की क्षुद्रता? क्‍या इस प्रवृत्ति की आलोचना करने वाले को आप ‘गंभीर‘ और ‘क्रांतिकारी‘ कह कर मज़ाक में उड़ा सकते हैं? अभिषेक श्रीवास्तव दिल्‍ली के लेखक-पत्रकार मित्रों को अगर याद हो, तो 2006 में एक संगठन यहां बना था जिसका नाम था …

Read More »

साहित्‍य, संस्‍कृति ही भारत-चीन में सेतु है – प्रो. जियांग जिंगकुइ

Literature news साहित्य

हिंदी विश्‍वविद्यालय में चीन से आए प्रो. जियांग जिंगकुइ का स्‍वागत वर्धा 16 जनवरी 2016: भारत और चीन को नजदीक लाने का काम दोनों देशों में उपलब्‍ध साहित्‍य और संस्‍कृति ही कर सकती है। हमारे संबंध प्राचीन काल से इसी वजह से मजबूत है। लंबे इतिहास को जारी रखने के लिए हिंदी साहित्‍य का चीनी में और चीनी साहित्‍य का …

Read More »

रिहाई मंच की मेहनत रंग लाई, 8 साल बाद 4 देशद्रोह के आरोप से दोषमुक्त

Rihai Manch, रिहाई मंच,

सपा की वादाखिलाफी के चलते बेगुनाह आठ साल जेल में सड़ने के लिए थे मजबूर- रिहाई मंच बेगुनाहों की रिहाई (Release of innocents) के मामले में वादाखिलाफी करने वाले अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) अब अपनी स्थिति स्पष्ट करें सांप्रदायिक सौहार्द (सांप्रदायिक सौहार्द) बिगाड़ने के लिए बेगुनाहों को फंसाने वाली खुफिया व पुलिस की हो जांच मुसलमान युवकों की आतंकी छवि …

Read More »

ब्राह्मणवादी अहंकार और एस.एन. बालगंगाधर

opinion, debate

Brahmanical arrogance and S.N. balgangadhar इंडिया टुडे के वेब संस्करण डेलियो.इन पर 27 नवंबर को बेल्जियम के घेंट यूनिवर्सिटी के एक प्रोफेसर एस.एन. बालगंगाधर का एक लेख प्रकाशित हुआ जिसका शीर्षक था “व्हिच इनटॉलरेंस इज ग्रोइंग इन इंडिया?”। यह उस गुस्से के जवाब में लिखा गया था, जो हैदराबाद में इंग्लिश एंड फॉरेन लैंग्वेजेज यूनिवर्सिटी (एफ्लु) में एक अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन …

Read More »

पूँजीवाद और समाजवाद का मिलन उतना ही मुश्किल, जितना आग और पानी का मिलना-Margot Honecker

Margot Honecker, born in 1927, former minister of education of the German Democratic Republic and widow of longtime Socialist Unity Party (SED) Secretary General and GDR State Chairperson Erich Honecker (1912-1994)

Interview with the GDR’s Margot Honecker — ‘The past was brought back’ 89 वर्षीय कामरेड मार्गोट होनेकर; पूर्वी जर्मनी नेता एरिक होनेकर की बेवा हैं, पूर्वी जर्मन की पूर्व शिक्षा मंत्री जो आजकल चिली में स्व निर्वासित जीवन बिता रही हैं। उनका साक्षात्कार बहुत सारी बातों की निशानदेही करता है, इस दुर्लभ साक्षात्कार को समकालीन इतिहास में रुचि रखने वालों को …

Read More »