Jagadishwar Chaturvedi

क्या मोदी के करप्शन से ध्यान हटाओ अभियान में मदद कर रहे हैं वाम दल ?

क्या मोदी के करप्शन से ध्यान हटाओ अभियान में मदद कर रहे हैं वाम दल ?

माकपा-भाकपा वालो किसान-किसान छोडो, किसान पर बातें करने से मोदी सरकार की चूलें नहीं हिलने वालीं। मोदी सरकार की चूलें हिलानी हैं तो रफायल करप्शन के सवाल पर सड़कें जाम करो। हर गली मुहल्ले में मीटिंग करो। रफायल घोटाला तो बोफोर्स घोटाले का परदादा है, फिर आपको आंदोलन का इस पर मन नहीं बन पा रहा है, हद है …

यह बेहद परेशानी वाली बात है कि जब मोदी सरकार रफायल जैसे भयानक भ्रष्टाचार में पकड़ी जा चुकी है, उस समय भ्रष्टाचार पर केन्द्रित करने की बजाय वाम दल और उनके सहयोगी संगठन किसानों के सवालों को केन्द्र में लाकर दिल्ली में जनांदोलन करने जा रहे हैं। यह समझ के परे है कि इस समय रफायल पर दो लाख लोग दिल्ली में जुलूस निकालते तो वो ज्यादा प्रासंगिक होता या किसान समस्या पर बातें करना प्रासंगिक है ?

किसानों के सवालों पर कुछ महीने बाद भी रैली हो सकती थी, लेकिन वामदलों ने वही समय चुना जिस समय मोदी सबसे गहरे संकट में हैं और उनको घेरने की जरूरत है, लेकिन वामदलों ने ऐसा न करके जाने-अनजाने मोदी के करप्शन से ध्यान हटाओ अभियान में मदद की है।

याद करें बोफोर्स के मसले के समय भी किसान समस्या थी, लेकिन करप्शन के मुद्दे से वाम ने ध्यान नहीं हटाया था, लेकिन माकपा के मौजूदा नेतृत्व ने रफायल के महा-भ्रष्टाचार पर केन्द्रित करने की बजाय अपने को किसान पर केन्द्रित करके मोदी के करप्शन से ध्यान हटाओ अभियान में अप्रत्यक्ष मदद की है।

हम वामदलों से कहना चाहते हैं इस समय किसान-मजदूर समस्याएं महत्वपूर्ण नहीं हैं, महत्वपूर्ण है मोदी का भ्रष्टाचार। मोदी के भ्रष्टाचार Modi’s corruption को हर कीमत पर प्रतिवाद का केन्द्रीय मुद्दा बनाया जाना चाहिए। अकेले राहुल गांधी और कांग्रेस ने इस मुद्दे पर नियमित और केन्द्रित अभियान चलाकर सबका ध्यान खींचा है।

वाम अपने अंदर झांके और विचार करे कि वो इस तरह की राजनीतिक भूलें क्यों कर रहा है ?

kya modee ke corruption se dhyaan hatao abhiyaan mein madad kar rahe hain vaam dal ?

वाम अपने अंदर झांके और विचार करे कि वो इस तरह की राजनीतिक भूलें क्यों कर रहा है ?

जगदीश्वर चतुर्वेदी

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें



Confusions corruption in india economics, “corruption Modi”,

About जगदीश्वर चतुर्वेदी

जगदीश्वर चतुर्वेदी। लेखक कोलकाता विश्वविद्यालय के अवकाशप्राप्त प्रोफेसर व जवाहर लाल नेहरूविश्वविद्यालय छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष हैं। वे हस्तक्षेप के सम्मानित स्तंभकार हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.