रणधीर सिंह सुमन

रणधीर सिंह सुमन, लेखक जाने-माने मानवाधिकार कार्यकर्ता व अधिवक्ता हैं। वह हस्तक्षेप.कॉम के एसोसिएट एडिटर हैं।

अधिवक्ताओं के खिलाफ गोदी मीडिया का दुष्प्रचार अभियान

अधिवक्ता और पुलिस संघर्ष, Advocate and police conflict,

अधिवक्ताओं के खिलाफ गोदी मीडिया का दुष्प्रचार अभियान अधिवक्ता और पुलिस संघर्ष (Advocate and police conflict) दुर्भाग्यपूर्ण है लेकिन पुलिस की ज्यादतियों के खिलाफ (Against police brutality) कोई उचित फोरम न होने के कारण आये दिन संघर्ष की स्थिति पैदा हो जाती है। मूल समस्या को देखने के बजाय टुकड़ो-टुकड़ों में समस्या का समाधान करने की कोशिश के कारण आये …

Read More »

गांधी के हत्यारों का स्वांग : गांधी को शैतान की औलाद बताने वाले और गांधी के हत्यारे एक सुर में गीत गा रहे हैं

Mahatma Gandhi murder

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की शारीरिक हत्या के बाद अब उनके हत्यारे विचारों की हत्या कर उनका मजाक बना रहे हैं। जनता कुपोषण और भुखमरी का शिकार हो रही है दूसरी तरफ शौचालय निर्माण युद्ध स्तर पर हो रहे हैं, बगैर खाए शौचालय इस्तेमाल योजना चल रही है। भारी संख्या में नौकरी पेशा लोगों की नौकरियां छीनी जा हैं। भारी संख्या …

Read More »

लोकसंघर्ष : मनुष्य की वधशालाओं की पोल खुली

CBI

सीबीआई के पुलिस उपाधीक्षक एन. पी. मिश्रा (CBI Deputy Superintendent of Police N. P. Mishra) ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर आरोप लगाया है कि सीबीआई के संयुक्त निदेशक ए. के. भटनागर ने झारखंड में 14 निर्दोष लोगों को फर्जी एनकाउंटर करके मार डाला था (CBI joint director A.K. Bhatnagar killed 14 innocent people in Jharkhand by fake encounter) । मरने …

Read More »

कश्मीर : दुर्भाग्य ये नहीं कि गोडसेवादी सत्ता में हैं, दुर्भाग्य ये है कि संविधान का रक्षक उच्चतम न्यायालय मौन है

The Supreme Court of India. (File Photo: IANS)

यह कश्मीर में क्या हो रहा है? What is happening in Kashmir? ‘पेशे से वकील होने के नाते आप की विचारधारा कठोर है, क्योंकि आप क्रिमिनल केस लड़ते हैं जो विभिन्न अदालतों में अलगाववादियों के खिलाफ विचाराधीन है। ‘ विषय है…. आप बार एसोसिएशन का दुरुपयोग कर रहे हैं जिससे संवैधानिक प्रणाली में दिए गए दर्जे के मुताबिक सम्मान के …

Read More »

विपक्ष के नाकारापन के कारण फासीवादी ताकतों ने सरकार पर कब्जा कर लिया है

Comrade Ram Naresh Verma tribute meeting

बाराबंकी, 26 मई 2019 – विपक्ष के नाकारापन के कारण फासीवादी ताकतों ने सरकार पर कब्जा कर लिया है। यह विचार भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के राज्य परिषद सदस्य रणधीर सिंह सुमन ने व्यक्त किए हैं। कामरेड सुमन भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (Communist Party of India) द्वारा आयोजित कामरेड राम नरेश वर्मा की श्रद्धांजलि सभा (Comrade Ram Naresh Verma’s tribute meeting) को …

Read More »

जब सन् 47 में निहत्थे ख़ुदाई खि़दमतगार अपने हिन्दू, सिख भाइयों की जान बचाने सड़कों पर निकले

Things you should know सामान्य ज्ञान general knowledge

साम्राज्यवादी अंग्रेज़ों (Imperialist English) को न तो मुसलमानों से कोई मोहब्बत (Love with Muslims) थी, न हिन्दुओं से कोई नफ़रत (No hate to Hindus)। उनको तो बस अपने सियासी और आर्थिक लाभ से मतलब था। अमृत पाल सिंह का यह आलेख “सूबा सरहद में ब्रिटिश हुकूमत द्वारा इस्लाम का प्रयोग” (The use of Islam by the British rule in the …

Read More »

राष्ट्रवाद की धारणा लोकतन्त्र के आस्तित्व के लिये घातक है : प्रो0 जगदीश्वर

Jagadishwar Chaturvedi

लोकतन्त्र बचाना है तो व्यक्ति के चरित्र को गिरने से बचाना होगा – प्रो0 जगदीश्वर भूपिन्दर पाल सिंह बाराबंकी, 04 नवंबर। देश के प्रखर साहित्यकार व स्तम्भकार प्रो0 जगदीश्वर चतुर्वेदी ने कहा है कि लोकतन्त्र की मजबूती व उसकी सुरक्षा जनता के अधिकारों की सुरक्षा पर निर्भर है। लोकतन्त्र बचाना है तो व्यक्ति के चरित्र को गिरने से बचाना होगा। …

Read More »

क़फ़स नहीं है कश्मीर

Randhir Singh Suman CPI

कश्मीर घाटी (Kashmir valley) में पिछले 43 दिन से सुलग रही आग पहले ही पीर पंजाल (Pir Panjal) और जम्मू क्षेत्र की चेनाब घाटी (Chenab valley of Jammu region) तथा कारगिल क्षेत्र (Kargil region) तक फैलनी शुरू हो चुकी है। मोदी (Modi) और उनके राजनीतिक गिरोह (political gang) के लोग कश्मीर में चल रही छाया युद्ध (shadow war) जैसी घटनाओं …

Read More »

हनुमान जी और सेक्स एजुकेशन !- हिन्दू धर्म को बदनाम न करो

Randhir Singh Suman CPI

भारतीय संस्कृति के रक्षकों द्वारा इस देश में देवी देवताओं के चित्रों को लगाकर कोई भी कार्य किया जाए, वह कार्य अति उत्तम श्रेणी का होता है। आसाराम कारागार में बंद हैं. उनकी छवि सुधारने के लिए तमाम सारे महापुरुषों व हनुमान जी की तस्वीर लगाकर किताबें बांटी गयी हैं और उसी आधार पर परीक्षा भी ली गयी है। इस …

Read More »