Subhash Gatade

Subhash Gatade ( born 1957) is a left activist, writer and translator. He has done M Tech ( Mech Engg 1981) from BHU-IT, Varanasi. He has authored few books including Modinama : On Caste, Cows and the Manusmriti ( Leftword, in press), Charvak ke Vaaris ( Authors Pride, Hindi, 2018), Ambedkar ani Rashtriya Swayamsevak Sangh ( Sugava, Marathi, 2016), Beesavi Sadi Mein Ambedkar ka Sawal ( Dakhal, Hindi, 2014), Godse ki Aulad ( Pharos, Urdu, 2013) , Godse’s Children – Hindutva Terror in India (Pharos, 2011), The Saffron Condition ( Three Essays, 2011) He also occasionally writes for children. Pahad Se Uncha Aadmi ( NCERT, Hindi, 2010)

नया भारत – नए आयकन – नए राष्ट्रपिता? मोदी ने खुद अपने आप को किस तरह हास्यास्पद बनाया है

Modi and Trump in Howdy Modi at Houston

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस की पत्नी अमृता फडणवीस (Amrita Fadnavis, wife of Maharashtra Chief Minister Devendra Fadnavis) पिछले दिनों एक अलग किस्म के विवाद में उलझी दिखीं। दरअसल जनाब नरेन्द्र मोदी की सालगिरह (Narendra Modi’s anniversary) पर अपने ट्विटर पर उन्होंने जो बधाई सन्देश में उन्हें जिस तरह ‘फादर आफ अवर कंट्री‘ (Father of our country) अर्थात ‘हमारे देश …

Read More »

अगर माफी ‘वीर’ सावरकर प्रधानमंत्री बने होते तो !

Veer Savarkar

यह सोचना मासूमियत की पराकाष्ठा होगी कि चुनावों के ऐन मौके पर शिवसेना सुप्रीमो द्वारा सावरकर का यह महिमामंडन स्वत:स्फूर्त किस्म का था। एक तरफ, उसका मकसद था इस भावनात्मक मुद्दे को उठा कर कुछ वोट और हासिल किए जाएं; दूसरे, इस मराठी आयकन का शिवसेना द्वारा प्रोजेक्शन करके एक तरह से ‘सीनियर सहयोगी’ भाजपा को असुविधाजनक स्थिति में डालने …

Read More »

‘चौकीदार केजरीवाल’, धारा 370 और अंधी गली : ‘‘वह आए, उन्होंने देखा और वह शरणागत हो गए’’

Arvind Kejriwal

सुभाष गाताडे ‘‘वह आए, उन्होंने देखा और वह शरणागत हो गए’’ /He came, he saw and he concurred”/ 90 के दशक की शुरूआत में प्रकाशित आर के लक्ष्मण के एक कार्टून का कैप्शन/शीर्षक धारा 370 पर आम आदमी पार्टी के रूख (Aam Aadmi Party’s stance on Article 370) ने तमाम लोगों को भ्रमित और हताश किया है। संगठन के अपने …

Read More »

‘हिन्दु राज्य की बात को पागलपन भरा विचार’ घोषित किया था सरदार पटेल ने

भारत के पहले गृह मंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल (First Home Minister of India, Sardar Vallabhbhai Patel)

हमारे नेता जवाहरलाल नेहरू हैं…यह बापू के सिपाहियों का फर्ज़ है कि वह उनके आदेशों को कबूल करें – सरदार पटेल नेहरू, अम्बेडकर और बहुसंख्यकवाद की चुनौती सुभाष गाताडे भारत और अन्य स्थानों पर, जिसे धर्म कहा जाता है – कमसे कम जिसे संगठित धर्म कहा जाता है – उसके तमाशे ने, मुझे हमेशा आतंकित किया है और मैंने उसकी …

Read More »

स्मृतिलोप से हट कर यथार्थ की ओर : हिंदी समाज में हीरा डोम की तलाश

Breaking news

स्मृतिलोप से हट कर यथार्थ की ओर : हिंदी समाज में हीरा डोम की तलाश –सुभाष गाताडे ( अकार, हिंदी समाज पर केंद्रित अंक में जल्द ही प्रकाशित) ‘देवताओं, मंदिरों और ऋषियों का यह देश ! इसलिए क्या यहां सबकुछ अमर है ? वर्ण अमर, जाति अमर, अस्पृश्यता अमर ! ..युग के बाद युग आए ! बड़े बड़े चक्रवर्ती आये …

Read More »