बेटी बचाओ की आड़ में बेटियों की हत्या करवा रही भाजपा सरकार, मोदी के संसदीय क्षेत्र में निकला न्याय मार्च

उत्तर प्रदेश में बढ़ती बलात्कार की घटनाओं और अपराधी बलात्कारियों को संरक्षण देने वाली योगी सरकार इस्तीफा की मांग के साथ बनारस में उन्नाव पीड़िता के लिए न्याय मार्च. उन्नाव पीड़िता के शीघ्र स्वस्थ होने, उसकी लड़ाई में कदम से कदम मिलाने के लिए बनारस के तमाम सामाजिक संगठन सड़क पर वाराणसी, 03 अगस्त 2019. …
 | 
बेटी बचाओ की आड़ में बेटियों की हत्या करवा रही भाजपा सरकार, मोदी के संसदीय क्षेत्र में निकला न्याय मार्च

उत्तर प्रदेश में बढ़ती बलात्कार की घटनाओं और अपराधी बलात्कारियों को संरक्षण देने वाली योगी सरकार इस्तीफा की मांग के साथ बनारस में उन्नाव पीड़िता के लिए न्याय मार्च.

उन्नाव पीड़िता के शीघ्र स्वस्थ होने, उसकी लड़ाई में कदम से कदम मिलाने के लिए बनारस के तमाम सामाजिक संगठन सड़क पर

वाराणसी, 03 अगस्त 2019. बेटी बचाओ की आड़ में बेटियों की हत्या करवा रही मोदी-योगी सरकार के खिलाफ बनारस के सामजिक सामाजिक संगठनों ने आज 3 अगस्त को बीएचयू गेट, लंका से मार्च निकाला और सभा की।

जलूस प्ले कार्डों से भरा था जिस पर लिखे नारे जो प्रदेश और केंद्र में काबिज भाजपा सरकार के ख़िलाफ़ आक्रोश व्यक्त कर रहे थे। मसलन- भारत माता की जय बोलने वाले उन्नाव कांड पर चुप क्यों?? जिंदा रहेगी बेटी तभी तो पढ़ेगी बेटी। उन्नाव पीड़िता तुम जीयोगी, उठोगी, लड़ोगी यह देश तुम्हारे साथ है।

मार्च एक सभा में तब्दील हुई।

सभा में वक्ताओं ने कहा कि उन्नाव की बेटी ने अपने साथ हो रहे अत्याचार के ख़िलाफ़ आवाज उठाने की हिम्मत दिखाई तो ऐसे में योगी सरकार, जो चुस्त दुरुस्त कानून व्यवस्था की बात करती है, पीड़िता को आज तक न्याय नही दिला सकी उल्टे महिला के सगे सम्बन्धियों की हत्या करवाने और पीड़िता पर हमले करवा रहे विधायक कुलदीपसिंह सेंगर का संरक्षण कर रही है। आज उन्नाव की बेटी अस्पताल में जिंदगी के लिए संघर्ष कर रही है।

वक्ताओं ने कहा कि देश की जनता इस बुरे वक्त में उन्नाव पीड़िता के साथ खड़ी हुई है और सर्वप्रथम उसके उच्चस्तरीय मेडिकल सुविधा मिलने की मांग करती हैं जिससे वह अतिशीघ्र स्वस्थ्य हो सके।

वक्ताओं ने यह भी मांग की हत्या और बलात्कार के आरोपी कुलदीप सिंह सेंगर पर तत्काल कड़ी कार्रवाई और त्वरित न्याय के लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट में केस चलाया जाए।

सामाजिक संगठनों की इस लड़ाई को बीएचयू के प्रो एम. पी. अहिरवार और प्रो बिंदा परंजपये और इतिहासकार प्रो मोहम्मद आरिफ ने भी अपना पूर्ण समर्थन दिया। साथ ही भारतीय जीवन बीमा निगम की यूनियन वीडीआईए D L W संघर्ष समिति यूनियन के साथियों ने भी उन्नाव पीड़िता के न्याय की लड़ाई में अपनी प्रतिबद्धता जाहिर की।

सभा को भगतसिंह अम्बेडकर विचार मंच के ट्रेड यूनियन नेता एस.पी .राय, लोकमंच से संजीव सिंह ,भगतसिंह छात्र मोर्चा से नितीश Sc/St/Mt /Obc सँघर्ष समिति से शोध छात्र रविन्द्र भारतीय, एसएफसी से आई आईं टी बीएचयू की छात्रा वंदना, परिवर्तमकामी विद्यार्थी मोर्चा से प्रवीण, किसान नेता रामजनम, राष्ट्रीय घरेलू कामगार संगठन से फादर प्रेम कुजूर, नारी एकता से डॉ मुनीज़ा रफीक ख़ान, आल इंडिया सेक्युलर फोरम से डॉ नूर फ़ातिमा ने भी बात रखी।

इस अवसर पर पीएसफोर, क्रिएटिव वर्कर्स कलेक्टिव और इंकलाबी नौजवान सभा से भी सामाजिक कार्यकर्ता उपस्थित थे।

सभा का संचालन ऐपवा से कुसुम वर्मा ने किया।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription