National News

पीएफ का पैसा दाऊद से जुड़ी कंपनियों में लगाने का मामला : बिजली कर्मचारी 48 घण्टे कार्य बहिष्कार के फैसले पर अडिग

पीएफ का पैसा दाऊद से जुड़ी कंपनियों में लगाने का मामला : बिजली कर्मचारी 48 घण्टे कार्य बहिष्कार के फैसले पर अडिग

प्राविडेन्ट फण्ड के भुगतान की गारंटी ले सरकार, गजट नोटिफिकेशन जारी करे Government to issue guarantee of payment of provident fund, issue gazette notification

घोटाले के दोषी पूर्व चेयरमैन को गिरफ्तार किया जाये

लखनऊ, 16 नवंबर 2019. विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति, उप्र आगामी 18 व 19 नवम्बर को 48 घण्टे के कार्य बहिष्कार के अपने फैसले पर अडिग है। संघर्ष समिति ने सभी ऊर्जा निगमों के तमाम बिजली कर्मचारियों एवं अभियन्ताओं से पूरी तरह एकजुट होकर 48 घण्टे के कार्य बहिष्कार को सफल बनाने का आह्वान किया है।

संघर्ष समिति की मांग है कि प्राविडेन्ट फण्ड के भुगतान की जिम्मेदारी उप्र सरकार ले और इस आशय का गजट नोटिफिकेशन जारी करे।

संघर्ष समिति ने प्राविडेन्ट फण्ड घोटाले में चल रही जांच पर असंतोष व्यक्त करते हुए घोटाले के मुख्य आरोपी पूर्व चेयरमैन एवं अन्य जिम्मेदार आईएएस अधिकारियों पर एफआईआर कर उन्हें गिरफ्तार करने की मांग की है।

संघर्ष समिति ने संविदा कर्मचारियों के ईपीएफ की धनराशि ठेकेदारों द्वारा जमा न किये जाने पर रोष व्यक्त करते हुए मांग की है कि जिम्मेदार ठेकेदारों पर कड़ी कार्यवाही की जाये एवं संविदा कर्मियों की ईपीएफ धनराशि खाते में जमा की जाये।

18 एवं 19 नवम्बर को कार्य बहिष्कार अभियान के तहत आज राजधानी लखनऊ सहित प्रदेश के समस्त जनपदों एवं परियोजना मुख्यालयों पर विरोध सभाओं का दौर आज बारहवें दिन भी जारी रहा। अनपरा, ओबरा, पारीक्षा, हरदुआगंज, पनकी, वाराणसी, गोरखपुर, आजमगढ़, मिर्जापुर, सहारनपुर, मेरठ, गाजियाबाद, बुलन्दशहर, नोएडा, आगरा, अलीगढ़, मथुरा, बांदा, झांसी, कानपुर, मुरादाबाद, बरेली, फैजाबाद, अयोध्या, गोण्डा, प्रयागराज में बिजली कर्मचारियों एवं अभियन्ताओं ने बड़ी सभायें करके रोष व्यक्त किया।

राजधानी लखनऊ में मध्यांचल विद्युत वितरण निगम मुख्यालय (Madhyanchal Vidyut Vitran Nigam Headquarters) पर कर्मचारियों एवं अभियन्ताओं ने बिजली कर्मचारियों से आह्वान किया है कि 17 नवम्बर को अवकाश के दिन भी विरोध सभाओं का क्रम जारी रखा जाये और 18 एवं 19 नवम्बर को शान्तिपूर्ण कार्य बहिष्कार कर अपनी एकजुटता का प्रदर्शन करे।

लखनऊ में संघर्ष समिति की बैठक में प्रमुख पदाधिकारियों शैलेन्द्र दुबे, राजीव सिंह, गिरीश पाण्डेय, सदरूद्दीन राना, सुहैल आबिद, राजपाल सिंह, राजेन्द्र घिल्डियाल, विनय शुक्ला, शशिकान्त श्रीवास्तव, महेन्द्र राय, वी सी उपाध्याय, डी के मिश्र, करतार प्रसाद, कुलेन्द्र सिंह चैहान, मो इलियास, पी एन तिवारी, पवन कुमार श्रीवास्तव, परशुराम, ए के श्रीवास्तव, पी एन राय, भगवान मिश्र, के एस रावत, आर एन यादव, आर एस वर्मा, पी एस बाजपेई, अमिताभ सिन्हा मुख्यतया सम्मिलित हुए।

About हस्तक्षेप

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.