Dushyant Chautala

अमित शाह से मिलने से पहले ही तिहाड़ पहंच गए दुष्यंत चौटाला 

अमित शाह से मिलने से पहले ही तिहाड़ पहंच गए दुष्यंत चौटाला

दुष्यंत चौटाला तिहाड़ जेल जाकर पिता से मिले Dushyant Chautala went to Tihar jail and met his father

नई दिल्ली, 26 अक्तूबर। हरियाणा विधानसभा चुनाव (Haryana Assembly Elections) में तमाम एक्जिट पोल्स के गणित को फेल करने वाले जननायक जनता पार्टी (जजपा) प्रमुख दुष्यंत चौटाला शुक्रवार की दोपहर तिहाड़ जेल पहुंच गए। खबर है कि दुष्यंत चौटाला ने वहां अपने पिता अजय चौटाला से भेट की।

अजय चौटाला शिक्षक भर्ती घोटाले में दोषी करार दिए जाने के बाद सजा काट रहे हैं। उनकी जमानत याचिका को सुप्रीम कोर्ट खारिज कर चुका है।

बाद में उन्होंने प्रेसवार्ता कर आगे की रणनीति का ‘मतलब-भर’ खुलासा किया।

मीडिया रिपोर्ट्सके मुताबिक दुष्यंत चौटाला शुक्रवार दोपहर करीब साढ़े बजे दिल्ली स्थित तिहाड़ जेल नंबर-2 में पहुंचे, वह भी बिना किसी तामझाम और लाव-लश्कर के। इस जेल में उनके दादा और हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला तथा पिता अजय चौटाला लंबे समय से कैद हैं। समझा जाता है कि दुष्यंत ने पिता अजय के साथ आगे की रणनीति पर विमर्श किया।

तिहाड़ जेल सूत्रों के मुताबिक, पिता-पुत्र की मुलाकात करीब आधे घंटे चली। इस दौरान दोनों के बीच की बातचीत भले ही किसी तीसरे ने न सुनी हो, मगर इस बात से इनकार नहीं किया जा रहा कि दोनों के बीच हरियाणा की राजनीति में आए हैरतंगेज बदलावों पर चर्चा जरूर हुई होगी।

कयास लगाया जा रहा है कि दुष्यंत ने पिता अजय को यह खुशखबरी दी होगी कि पहली बार हरियाणा के राजनीतिक दंगल में उतरी उनकी नई-नवेली पार्टी ने 10 सीटों पर कब्जा कर तमाम पुराने और मंझे हुए दिग्गजों को कैसे छकाया और चौंकाया।

महज 10-11 महीने पहले, पिता ओमप्रकाश चौटाला की पार्टी इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) से मन-मुटाव के बाद अजय चौटाला ने ही जननायक जनता पार्टी (जजपा) बनाई थी, जिसे मजबूत कर हरियाणा विधानसभा चुनाव में उतारा उनके बेटे दुष्यंत चौटाला ने। माना जा रहा है कि त्रिशंकु विधानसभा में सत्ता की चाबी दस सीटों वाली जजपा के हाथ में है, जिसका चुनाव चिह्न् भी संयोगवश ‘चाबी’ ही है।

समझा जाता है कि सुप्रीम कोर्ट से जमानत मिलने से निराश अजय चौटाला को अब राहत मिलेगी।

About हस्तक्षेप

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.